सुल्तानपुर में पूर्व MLA के घर के सामने पड़ा पेड़:2 दिन पहले आए आंधी-तूफान में बिजली के पोल पर गिरा, वन कर्मी काट कर घर के सामने ही छोड़ गया

सुल्तानपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सुल्तानपुर में समाजवादी पार्टी के पूर्व विधायक अनूप संडा ने योगी सरकार और प्रशासन पर हमला बोला है। दरअसल, यह नौबत तब आई जब बुधवार को आंधी में एक पेड़ पूर्व विधायक के आवास के पास बिजली के खंभे पर जा गिरा। इससे आपूर्ति बाधित हो गई। सूचना पर पहुंचे विभाग के कर्मचारियों ने पेड़ काटा तो आपूर्ति चालू हो गई, लेकिन कटे हुए पेड़ को विधायक के आवास के सामने ही छोड़ गए।

यह है पूरा मामला
बता दें, शहर के सब्जी मंडी क्षेत्र में पूर्व विधायक अनूप संडा का आवास है। बुधवार को आए तूफान में उनके आवास के पास लगा पेड़ बिजली के खंभे पर जा गिरा। इससे खंभा भी टूटा और तार भी टूट गए। आसपास के क्षेत्रों में आपूर्ति बाधित हो गई। बिजली विभाग ने पेड़ को हटाने के लिए वन विभाग को सूचित किया।

पूर्व विधायक अनूप संडा के आवास के सामने पड़ा पेड़।
पूर्व विधायक अनूप संडा के आवास के सामने पड़ा पेड़।

वन कर्मी मौके पर पहुंचे और देर शाम तक पेड़ कटवाकर हटवा दिया। इसके बाद नया खंभा लगा और आपूर्ति बहाल हो गई, लेकिन वन कर्मी पेड़ को वहीं छोड़ कर चले गए, जिससे पूर्व विधायक के आवास का रास्ता अवरुद्ध हो गया।

अधिकारियों से करनी पड़ी सिफारिश
इस संदर्भ में पूर्व विधायक ने सोशल मीडिया पर लिखा, 'तूफान में गिरा हुआ पेड़ आज भी सड़क किनारे कई घरों का रास्ता और सड़क का एक हिस्सा रोके पड़ा हुआ है। लगभग 36 घंटे बाद मेरी और मेरे पड़ोसी की विद्युत आपूर्ति काफी प्रयास के बाद कुछ विभागीय मित्रों के सहयोग से सामान्य तौर पर चालू हुई। पहली बार देख रहा हूं कि सामान्य अधिकारों के लिए भी अधिकारियों से सिफारिश करनी पड़ रही है'।

पेड़ काट कर सड़क की एक लेन पर रख दिया गया है। जिससे आवागमन में परेशानी हो रही है।
पेड़ काट कर सड़क की एक लेन पर रख दिया गया है। जिससे आवागमन में परेशानी हो रही है।

पूर्व विधायक अनूप संडा ने कहा, विद्युत विभाग, वन विभाग और नगर पालिका के अधिशासी अधिकारी सब को बोल चुका हूं, लेकिन नतीजा नहीं निकला। अब अहसास हो रहा है कि इस सरकार में विपक्षी दल का नेता शत प्रतिशत जन हित के सही काम के लिए कहेगा तब भी उसकी सुनवाई धीमी गति से होगी। अगर इसके के लिए भी सड़क पर उतरना पड़े तो धिक्कार है, ऐसी सरकार और ऐसे प्रशासन को।

खबरें और भी हैं...