• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Fighter Planes Like Sukhoi And Mirage Will Test The Strength Of The Air Strip Tomorrow, The Preparation Of The Air Force Is Complete

लड़ाकू विमानों की गर्जना से गूंजेगा पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे:सुखोई और मिराज 3 किमी की एयर स्ट्रिप पर उतरेंगे

सुल्तानपुर6 महीने पहले

एयरफोर्स के फाइटर प्लेन की कल यूपी में गर्जना सुनाई देनी वाली है। दरअसल, सुल्तानपुर में पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर बनी एयर स्ट्रिप का ट्रायल होना है। इस पर सुखोई और मिराज जैसे विमानों को उतारा जाएगा। इसके लिए एयरफोर्स ने तैयारियां पूरी कर ली गई है।

लखनऊ से गाजीपुर पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का निर्माण करीब पांच साल पहले शुरू हुआ था। इस एयर स्ट्रिप के बनने के बाद एक्सप्रेस वे पर 3-3 एयर स्ट्रिप वाला यूपी देश का पहला राज्य बन गया है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे देश की राजधानी दिल्ली को मथुरा, आगरा, लखनऊ, आजमगढ़ के रास्ते सीधे गाजीपुर से जोड़ेगा।

13 नवंबर को अरवलकीरी करवत की हवाईपट्टी के ट्रायल के समय भी युद्धक व मालवाहक विमान उतरेंगे और उड़ान भरेंगे।
13 नवंबर को अरवलकीरी करवत की हवाईपट्टी के ट्रायल के समय भी युद्धक व मालवाहक विमान उतरेंगे और उड़ान भरेंगे।
डीएम रवीश गुप्ता के मुताबिक विमानों की संख्या मौसम व रोशनी के अनुसार कम-ज्यादा हो सकती है। फिलहाल, करीब लड़ाकू विमानों को उतारने की तैयारी है। संख्या बढ़ने पर कुछ को अमहट हवाईपट्टी पर शिफ्ट करने की योजना है।
डीएम रवीश गुप्ता के मुताबिक विमानों की संख्या मौसम व रोशनी के अनुसार कम-ज्यादा हो सकती है। फिलहाल, करीब लड़ाकू विमानों को उतारने की तैयारी है। संख्या बढ़ने पर कुछ को अमहट हवाईपट्टी पर शिफ्ट करने की योजना है।

रन-वे वाला यूपी का तीसरा एक्सप्रेस-वे
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे यूपी का तीसरा एक्सप्रेस-वे, जहां लड़ाकू विमान लैंडिंग और टेक ऑफ कर सकेंगे। इससे पहले आगरा एक्सप्रेस-वे और यमुना एक्स्प्रेस वे पर लड़ाकू विमान उतर चुके हैं। भारतीय वायुसेना आगरा एक्सप्रेस-वे पर मिराज 2000, जगुआर, सुखोई-30 और सुपर हरक्यूलस जैसे जहाज सफलतापूर्वक उतार चुकी है।

पूर्वांचल एक्‍सप्रेस-वे के लोकार्पण के मौके पर पीएम मोदी के सामने यहां बनी एयर स्ट्रिप पर फाइटर प्लेन उतरेंगे। इसके लिए कूरेभार थाने में एयर ट्रैफिक सिग्नल कंट्रोलर लगा ट्रक खड़ा कर दिया गया है।
पूर्वांचल एक्‍सप्रेस-वे के लोकार्पण के मौके पर पीएम मोदी के सामने यहां बनी एयर स्ट्रिप पर फाइटर प्लेन उतरेंगे। इसके लिए कूरेभार थाने में एयर ट्रैफिक सिग्नल कंट्रोलर लगा ट्रक खड़ा कर दिया गया है।

जानें, एयर स्ट्रिप के बारे में

  • करीब 3.5 किमी लंबी है हाईवे पर बनी यह एयर स्ट्रिप।
  • एयर स्ट्रिप के दोनों किनारों पर 15-15 मीटर के बॉर्डर बनाए गए हैं।
  • एयर स्ट्रिप से नीचे मंच पर उतरने के लिए आकर्षक सीढ़ी बनाई गई है।
  • एयर स्ट्रिप के दोनों किनारों पर सर्विस लेन बनाए गए हैं।
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर बनी इस हवाई पट्टी पर सभी तरह के विमान लैंड कर सकेंगे। वायुसेना इस एयरस्ट्रिप की भी टेस्टिंग करेगी।
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर बनी इस हवाई पट्टी पर सभी तरह के विमान लैंड कर सकेंगे। वायुसेना इस एयरस्ट्रिप की भी टेस्टिंग करेगी।

फाइटर प्लेन ही क्यों उतरेंगे
सामरिक दृष्टि से यह एयर स्ट्रिप काफी महत्वपूर्ण है। युद्ध जैसे हालातों में यह काम आते हैं। दुश्मनों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए इन हवाई पट्टियों से फाइटर प्लेन तुरंत एक्शन ले सकते हैं। अमूमन युद्ध के समय दुश्मन एयर स्टेशन को निशाना बनाते हैं, उस दौरान इन्हें बंद कर दिया जाता है, तब लैंडिंग और टेकऑफ के लिए यही एयर स्ट्रिप काम आते हैं, इसलिए इनकी ताकत जांच लेना जरूरी है।

आगरा एक्सप्रेस-वे पर उतरे थे फाइटर प्लेन

  • अखिलेश सरकार में आगरा एक्सप्रेस-वे के लोकार्पण के मौके पर वायुसेना के लड़ाकू विमान सुखोई ने उड़ान भरी थी।
  • नोएडा से आगरा तक बने यमुना एक्सप्रेस-वे पर देश की पहली एयर स्ट्रिप बनाई गई थी, जहां जगुआर उतारा गया था।
  • सबसे ताकतवर लड़ाकू विमानों में शामिल जगुआर, सुखोई और मिराज ने एयर स्ट्रिप को टच किया था।
  • सबसे बड़े मालवाहक विमान हरक्यूलिस-सी 130 ग्लोबमास्टर ने सफल लैंडिंग की थी।
पीएम के मंच के पास एयरफोर्स ने अपनी एक गैलरी बनाई है। यहीं से अधिकारी लड़ाकू विमानों को उतारने व उड़ान भरने की व्यवस्था देखेंगे। वायुसेना कूरेभार थाना परिसर में सिग्नल पहले ही बना चुकी है।
पीएम के मंच के पास एयरफोर्स ने अपनी एक गैलरी बनाई है। यहीं से अधिकारी लड़ाकू विमानों को उतारने व उड़ान भरने की व्यवस्था देखेंगे। वायुसेना कूरेभार थाना परिसर में सिग्नल पहले ही बना चुकी है।

लगाया गया एयर ट्रैफिक सिग्नल कंट्रोलर
सुल्तानपुर के कूरेभार स्थित अरवल कीरी में पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे पर यह एयर स्ट्रिप बनाई गई है, जो करीब 3.5 किमी लंबी है। यहां से कुछ किलोमीटर दूर कूरेभार थाने में एयर ट्रैफिक सिग्नल कंट्रोलर लगा दिया गया है। सुखोई एसयू-30 एमकेआई एयरक्राफ्ट एयर स्ट्रिप पर उतर सकता है। लखनऊ से इसके उड़ान भरने की तैयारी है।

सुरक्षा के कड़े इंतजाम
कूरेभार ब्लॉक के अरवल कीरी स्थित कार्यक्रम स्थल पर फुल प्रूफ पंडाल तैयार किया जा रहा है। बैरिकेडिंग से लेकर साफ-सफाई का सारा काम हो गया है। सुरक्षा की दृष्टि से सीमेंट के खंभे लगाकर उसमें कटीले तार लगाए जा रहे हैं। सुरक्षा ऐसी है कि जमीन और आसमान पर परिंदा भी पर नहीं मार सकेगा।