सुल्तानपुर...BJP चेयरमैन पति की महात्मा गांधी पर अभद्र टिप्पणी:पूर्व सपा विधायक बोले- संघ की विचारधारा नफरत की, बीजेपी बोली- लेंगे एक्शन

सुल्तानपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुल्तानपुर में BJP चेयरमैन पति की महात्मा गांधी पर अभद्र टिप्पणी। - Dainik Bhaskar
सुल्तानपुर में BJP चेयरमैन पति की महात्मा गांधी पर अभद्र टिप्पणी।

सुल्तानपुर में बीजेपी नगरपालिका अध्यक्ष के पति अजय जायसवाल ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर अभद्र टिप्पणी की, जिसे लेकर राजनीतिक दलों ने कड़ी निंदा की है। सपा के पूर्व विधायक अनूप संडा ने कहा कि संघ की विचारधारा नफरत की विचारधारा है, देश को बांटने की विचारधारा है और सत्ता को प्राप्त करके समाज में फूट डालकर के राज करने की विचारधारा है।

पूर्व विधायक ने कहा कि बीजेपी चेयरमैन के पति इस विचारधारा के एक छोटे से अंग हैं। वहीं कांग्रेस जिलाध्यक्ष अभिषेक सिंह राणा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का विधि प्रकोष्ठ बहुत जल्द इन पर मुकदमा दर्ज कराने का काम करेगा। वहीं बीजेपी जिलाध्यक्ष डॉ. आरए वर्मा का कहना है कि मामले को देखा जा रहा है। पार्टी एक्शन भी लेगी।

पूर्व सपा विधायक ने दिखाई किताब

मामले को लेकर पूर्व विधायक अनूप संडा ने कहा कि वह दस्तावेज के आधार पर एक छोटा सा उदाहरण दिखाना चाहते हैं। नाथूराम गोडसे जिन्होंने महात्मा गांधी की हत्या की थी, मेरे हाथ में एक किताब है। जिसमें लिखा है कि 1944 में उन्होंने सावरकर के 15 हजार के सहयोग से महाराष्ट्र में अग्रणी नाम का एक समाचार पत्र शुरू किया था।

उसमें एक कार्टून छपा था, जिसमें गांधी जी के 10 सिर दिखाए गए थे। जिनके ऊपर राम और लक्ष्मण बनकर श्यामाप्रसाद मुखर्जी और सावरकर हमला कर रहे हैं। उन 10 चेहरों में एक चेहरा सुभाष चंद बोस, डॉ. अंबेडकर का भी था। जिस विचारधारा के लोग सुभाष चंद बोस और डॉ. अंबेडकर का एक सिर मान सकते हैं तो वो विचारधारा अगर गांधी के चरित्र हनन का प्रयास कर रही है तो इसमें ताज्जुब नहीं होना चाहिए।

कांग्रेस ने की निंदा

वहीं कांग्रेस जिलाध्यक्ष अभिषेक राणा ने कहा कि नगरपालिका चेयरमैन पति का स्वभाव ही विवादित बयान देना, महापुरुषों के बारे में ओछी टिप्पणी करना है। यही करके वो अपनी राजनीति चला रहे हैं। महात्मा गांधी कोई व्यक्ति नहीं वो एक विचारधारा थे। जिनका सम्मान भारत के साथ-साथ पूरे विश्व में है। आज भी ब्रिटेन की संसद के सामने उनका स्टैच्यू बना हुआ है। उनके बारे में ऐसी ओछी टिप्पणी करना उनकी घृणित मानसिकता का परिचायक है।

एक तरफ मोदी जी जिनको यह अपना आदर्श मानते हैं, वो उनकी जयंती मनाते हैं। विदेशों में जाकर सिर झुकाते हैं। यहां आने पर गोडसे के आगे सिर झुकाते हैं। इनके पास अब बताने को कुछ नहीं है। चुनाव नजदीक आने पर यह और भी उल्टी सीधी बातें करेंगे। अभी कुछ दिन पहले उन्होंने भगवान परशुराम को लेकर भी टिप्पणी की थी।

पूर्व में भी कर चुके हैं टिप्पणी

आपको बता दें कि पूर्व में भगवान परशुराम और पैगम्बर मोहम्मद को लेकर भी अजय जायसवाल अभद्र टिप्पणी कर चुके हैं। इन मामलों में इनके विरुद्ध आईटी एक्ट में अभियोग भी कोतवाली नगर में दर्ज हुआ है। अब राष्ट्रपिता को लेकर उन्होंने अभद्र टिप्पणी की है।

खबरें और भी हैं...