सुलतानपुर में एडेड स्कूल की प्रिंसिपल का कारनामा:फर्जी कागजात से हासिल की नौकरी, शासन ने विधिक कार्रवाई के साथ रिकवरी के दिये आदेश

सुलतानपुर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

सुलतानपुर में नेशलन गर्ल्स जूनियर हाईस्कूल का कारनामा उजागर हुआ है। उन पर सात साल पहले फर्जी कागजात के सहारे नौकरी हासिल करने का आरोप है। शिकायत हुई तो शासन ने जांच कराया। जांच रिपोर्ट को संज्ञान लेकर शासन ने प्रिंसिपल के विरुद्ध केस दर्ज कराकर रिकवरी के आदेश दिये हैं।

साल 2015 में हुई थी नियुक्ति

स्कूल शहर के लाला का पुरवा मुहल्ले में स्थापित है। आरोप है कि स्कूल की प्रिंसिपल तसनीम फातिमा ने वर्ष 2015 में नियुक्ति के समय जो प्रमाण पत्र प्रस्तुत किये वो सेवा नियमावली के अनुरूप नहीं थे। बावजूद इसके प्रबंधक मोहम्मद शमीम ने सांठ-गांठ कर नियुक्ति कर डाला। प्रिंसिपल को हर महीने मोटा वेतन मिलने लगा। सुरेश प्रताप सिंह ने बेसिक शिक्षा निदेशक के यहां पूरे मामले की लिखित शिकायत कर दी।

डीएम की जांच में आरोपों की हुई पुष्टि

शासन ने डीएम सुलतानपुर को प्रिंसिपल के खिलाफ जांच के आदेश दिये। जिस पर उन्होंने मुख्य राजस्व अधिकारी को जांच सौंपा। जांच हुई तो लगे आरोप सत्य पाये गये। इस पर डीएम ने बीएसए को स्कूल प्रबंधक व प्रिंसिपल के विरुद्ध कार्यवाही के निर्देश दिये। जिसे बीएसए ने ठंडे बस्ते में डाल दिया। वही बेसिक शिक्षा निदेशक लखनऊ ने वेतन वसूली और विधिक कार्रवाई के आदेश भी दिये। जिसे जिला बेसिक शिक्षाधिकारी द्वारा अमल में नहीं लाया गया।

खबरें और भी हैं...