• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Sultanpur
  • Hi tech Preparation For The Inauguration Of Purvanchal Expressway, There Will Be A Gallery Of 155 Meters, 50 Thousand Chairs Will Fall In 600 Meters

UP में मोदी का मेगा शो:पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्धाटन के लिए 85 मीटर लंबा स्टेज, पंडाल में 50 हजार कुर्सियां, 2.5 लाख लोग लाने के तैयारी

सुल्तानपुर8 महीने पहले

सुल्तानपुर में 16 नवंबर को प्रस्तावित पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन के कार्यक्रम की तैयारियां जोरों पर हैं। उद्घाटन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद आ रहे हैं। एयर स्ट्रिप से सटे जिस स्थान पर पीएम की जनसभा होनी है, वहां 85 मीटर लंबा स्टेज बनाया जा रहा। इसके बाद 155 मीटर लंबी गैलरी रहेगी। उसके बाद 600 मीटर के स्पेस में लगभग 45 से 50 हजार कुर्सियां लगाई जाएंगी।

कार्यक्रम स्थल पर प्रशासनिक अधिकारी कैंप कर रहे हैं। बस्ती जिले से टेंट मंगवाया गया है। फुल प्रूफ एल्यूमीनियम स्ट्रक्चर का टेंट सेट लगाया जा रहा है। आसपास के क्षेत्र में किसानों के खेतों में सीमेंट के खंभे लगाकर उसमें लोहे के कंटीले तार लगाए जा रहे हैं। मैटिंग बिछाने से लेकर कुर्सियां और बैरिकेडिंग के लिए बल्लियां लगाई जा रही।

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन के कार्यक्रम की तैयारियां जोरों पर हैं। एयर स्ट्रिप से सटे जिस स्थान पर पीएम की जनसभा होनी है, वहां 85 मीटर लंबा स्टेज बनाया जा रहा।
पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन के कार्यक्रम की तैयारियां जोरों पर हैं। एयर स्ट्रिप से सटे जिस स्थान पर पीएम की जनसभा होनी है, वहां 85 मीटर लंबा स्टेज बनाया जा रहा।

अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व मनोज कुमार पांडेय के मुताबिक, पीएम की जनसभा में आने वाले वीआईपी और पब्लिक के लिए तीन लाख पानी की बोतलें मंगाई गई हैं।

जानिए और क्या रहेगी उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज औद्योगिक विकास प्राधिकरण (UPEIDA)की ओर से हाईटेक व्यवस्था-

  • 250 एमएल की होंगी पानी की बोतलें, 6 रुपए सरकारी रेट
  • नाश्ते के एक लाख डिब्बे भी मंगाए गए
  • एक डिब्बे में दो केला, एक पैकेट पारले बिस्किट, एक पैकेट फ्रूट केक, एक फ्रूटी और दो मटरी रखी जाएगी
  • एक डिब्बे की कीमत सरकारी तौर पर 60 रुपए
  • अतिथियों के लिए 210 रुपए कीमत के दो हजार लंच पैकेट
  • लंच पैकेट में फ्राई अरहर दाल, मिक्स वेज, कड़ाही पनीर, मटर पुलाव, दो तवा और एक मिस्सी रोटी के साथ एक कालाजामुन (रसगुल्ला) होगा।
प्रधानमंत्री मोदी के स्टेज के आगे 155 मीटर लंबी गैलरी रहेगी। उसके बाद 600 मीटर के स्पेस में लगभग 45 से 50 हजार कुर्सियां लगाई जाएंगी।
प्रधानमंत्री मोदी के स्टेज के आगे 155 मीटर लंबी गैलरी रहेगी। उसके बाद 600 मीटर के स्पेस में लगभग 45 से 50 हजार कुर्सियां लगाई जाएंगी।

2 हजार सरकारी बसों से आएगी भीड़
मोदी की सभा में शामिल होने के लिए करीब 2 लाख लोगों को लाया जाएगा। इतने लोगों को लाने-ले जाने के लिए सुल्तानपुर के DM ने 2 हजार बसें उपलब्ध कराने को कहा है। सुल्तानपुर के DM की तरफ से रोडवेज के प्रबंध निदेशक को बसों का इंतजाम करने के लिए पत्र लिखा गया है, यानी सरकारी खर्च से यह कार्यक्रम कराया जा रहा है। बसों पर खर्च होने वाली रकम का भुगतान उत्तर प्रदेश एक्सप्रेसवेज औद्योगिक विकास प्राधिकरण (UPEIDA) करेगा।

इन जिलों से आएगी भीड़
पूर्वांचल एक्सप्रेस वे जिन-जिन जिलों से होकर निकला है उन सभी जिलों से भीड़ लाने की कवायद चल रही है। अमेठी, सुल्तानपुर, अंबेडकर नगर, अयोध्या, आजमगढ़ और गाजीपुर तक से कार्यक्रम में भीड़ लाई जाएगी। जिले में भीड़ जुटाने की जिम्मेदारी डीपीआरओ को दी गई है। डीपीआरओ ने ग्राम प्रधानों को भीड़ का दायित्व सौंपा है।

16 नवंबर को सुल्तानपुर में इसी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उद्घाटन करने आ रहे हैं। तैयारियां जोरों पर हैं।
16 नवंबर को सुल्तानपुर में इसी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उद्घाटन करने आ रहे हैं। तैयारियां जोरों पर हैं।
कूरेभार ब्लॉक के अरवल कीरी स्थित कार्यक्रम स्थल पर फुल प्रूफ पंडाल तैयार किया जा रहा है। एयर स्ट्रिप के पास महिलाएं घास काट रहीं, तो मजदूर रंगाई पुताई तक कर रहे हैं।
कूरेभार ब्लॉक के अरवल कीरी स्थित कार्यक्रम स्थल पर फुल प्रूफ पंडाल तैयार किया जा रहा है। एयर स्ट्रिप के पास महिलाएं घास काट रहीं, तो मजदूर रंगाई पुताई तक कर रहे हैं।

खाते में सीधे जाएगा मुआवजा
सभा स्थल के लिए 130 किसानों की भूमि का अधिग्रहण हुआ है। इसमें धान व गन्ने की फसल बोई गई थी। एसडीएम जयसिंहपुर अरविद कुमार ने बताया कि इन सभी किसानों को फसल की क्षतिपूर्ति मिलेगी। धान की फसल के लिए एक हेक्टेयर में 40 क्विंटल उत्पादन का मानक रखा गया है। इससे संबंधित किसानों को 1950 रुपये प्रति क्विंटल की दर से मुआवजा उनके खाते में सीधे भेजा जाएगा।

प्रभावित गन्ना उत्पादकों को दी जाएगी धनराशि
गन्ने की फसल के लिए एक हेक्टेयर में 900 क्विंटल उत्पादन का मानक निर्धारित किया गया है। प्रति क्विंटल 350 रुपये की धनराशि प्रभावित गन्ना उत्पादकों को दिया जाएगा। इसमें जयसिंहपुर तहसील के आठ गांव अरवलकीरी करवत, गौरा, जफरापुर, दखिनवारा, खरसोमा, अकोढ़ी, करौते व फुलौना के किसानों की भूमि ली गई है।