बलात्कारी की सजा-20 साल कैद व 22 हजार अर्थदंड:सुल्तानपुर में तीन वर्षीय मासूम को आरोपी ने बनाया था हवस का शिकार, मां की तहरीर पर दर्ज हुई थी FIR

सुल्तानपुर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

सुल्तानपुर में स्पेशल जज पाक्सो एक्ट की अदालत ने आज तीन वर्षीय मासूम को हवस का शिकार बनाने के आरोपी को दोषी करार दिया है। स्पेशल जज पवन कुमार शर्मा ने 20 वर्ष के कारावास एवं 22 हजार रूपए अर्थदण्ड की सजा सुनाई है।

फरवरी 2021 में दर्ज हुआ था केस

मालूम हो कि तीन वर्षीय मासूम की मां ने 11 फरवरी 2021 को हुई घटना का जिक्र करते हुए कोतवाली नगर क्षेत्र स्थित काशीराम कालोनी के रहने वाले आरोपी अय्यार उर्फ बहेरू के खिलाफ अपनी मासूम पुत्री के साथ कुकर्म की वारदात को अंजाम देने का आरोप लगाते हुए घटना के चार दिन बाद तहरीर दी। जिस पर 15 फरवरी को मुकदमा दर्ज हुआ।

मामले में आरोपी अय्यार को गिरफ्तार कर पुलिस ने जेल भेजने की कार्यवाही की और तफ्तीश पूरी कर न्यायालय में आरोप पत्र भी दाखिल किया। बीते एक नवम्बर को कोर्ट ने चार्जशीट पर संज्ञान लेकर मामले का ट्रायल शुरू किया। मामले का विचारण स्पेशल जज पाक्सों एक्ट की अदालत में चला।

बचाव कोर्ट में आरोपी को बताया बेकसूर

इस दौरान बचाव पक्ष ने अपने साक्ष्यों एवं तर्कों को प्रस्तुत कर आरोपी को बेकसूर बताया। वहीं अभियोजन पक्ष से पैरवी कर रहे शासकीय अधिवक्ता रमेश चन्द्र सिंह ने अभियोजन गवाहों एवं अन्य साक्ष्यों को प्रस्तुत करते हुए आरोपी अय्यार को ही घटना का जिम्मेदार ठहराया और जिसे दोषी ठहराकर कड़ी से कड़ी सजा से दण्डित किये जाने की मांग की। उभय पक्षों को सुनने के पश्चात स्पेशल जज पॉक्सो एक्ट पवन कुमार शर्मा की अदालत ने आरोपी अय्यार को दोषी ठहराते हुए उसे 20 वर्ष के कारावास एवं 22 हजार रूपए अर्थदण्ड की सजा सुनाई है।

खबरें और भी हैं...