• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Sultanpur
  • The Black Flag Was Shown To The PM In Sultanpur, The Miscreants Shot, The Congress Said – Fearing The Solidarity Of Daughters, The Cowards Are Now Leaving The Goons On The Daughters.

PM को दिखाया काला झंडा, बदले में मिली गोली:सुल्तानपुर में प्रधानमंत्री की सभा में उनका विरोध करने वाली महिला को बदमाशों ने गोली मारी

सुल्तानपुर6 महीने पहले
पीएम की रैली ने कांग्रेस नेता रीता यादव ने दिखाया था काला झंडा।

सुल्तानपुर में प्रधानमंत्री मोदी को काला झंडा दिखाकर चर्चा में आईं कांग्रेस नेता रीता यादव को सोमवार देर शाम बदमाशों ने गोली मार दी थी। अब पुलिस जांच में घटना संदिग्ध पाई गई है। एडिशनल एसपी विपुल श्रीवास्तव ने बताया कि रीता यादव ने कल थाना चांदा में अज्ञात हमलावरों द्वारा गोली मारने मारे जाने की FIR दर्ज कराई थी।

जांच में पाया गया है कि रीता यादव मुस्तकीम नामक ड्राइवर की बोलेरो किराए पर लेकर सुल्तानपुर आईं थीं। यहां से वापस लौटते समय लंभुआ हाईवे के पास इन्हें तीन अज्ञात लोगों द्वारा गोली मारे जाने का दावा किया गया। पीड़िता, उनके ड्राइवर से की गई पूछताछ, घटनास्थल के निरीक्षण और पैर में गोली लगने के स्थान का निरीक्षण करने के बाद घटना प्रथम दृष्टया संदेहास्पद है और गहराई से जांच की जा रही है। जल्द ही घटना का सही अनावरण होगा।

PM की रैली में काले झंडे दिखाने के बाद चर्चा में आईं

सुल्तानपुर में प्रधानमंत्री मोदी को काला झंडा दिखाकर चर्चा में आईं कांग्रेस नेता रीता यादव को सोमवार देर शाम बदमाशों ने गोली मार दी। गोली उसके पैर में लगी है। उन्हें सीएचसी लंभुआ में भर्ती कराया गया है, लेकिन डॉक्टरों ने जिला अस्पताल रेफर किया है। सीओ सतीश चंद शुक्ला ने मौके पर पहुंचकर जांच पड़ताल की। साथ ही रीता के बयान दर्ज किए हैं। रीता ने 17 दिन पहले कांग्रेस जॉइन किया था। 17 दिसंबर को लखनऊ में प्रियंका गांधी से भी रीता यादव ने मुलाकात की थी।

कांग्रेस नेता रीता यादव को ने मारी गोली।
कांग्रेस नेता रीता यादव को ने मारी गोली।

गाड़ी रोककर जान से मारने की धमकी दी
होश आने के बाद रीता ने बताया कि मैं पोस्टर-बैनर बनवाने गई थी। वहां से घर जा रही थी। रास्ते में हाईवे पर लंभुआ के पास तीन लोगों ने ओवरटेक करके मेरी बोलेरो को रोका और गाली देते हुए जान से मारने की धमकी दी। मेरे ड्राइवर की कनपटी पर पिस्टल लगा दिया। मैंने जब उन्हें इस पर तमाचा मारा तो उन्होंने मुझे गोली मार दी और भाग निकले।

कांग्रेस ने ट्वीट करके भाजपा को घेरा।
कांग्रेस ने ट्वीट करके भाजपा को घेरा।

कांग्रेस ने ट्वीट से स्मृति ईरानी पर साधा निशाना

कांग्रेस नेत्री रीता यादव को गोली मारे जाने के मामले में मंगलवार कोकांग्रेस ने बीजेपी नेताओं पर हमला बोला। दो घंटे के अंदर यूपी कांग्रेस ने दो ट्‌वीट किए। दोनों ही ट्वीट में कांग्रेस ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को निशाना बनाया है़। ट्वीट में लिखा गया है़ कि "प्रधानमंत्री को काला झंडा दिखाने वाली कांग्रेस नेता रीता यादव को सुल्तानपुर में गोली मार दी गई। उसी क्षेत्र में गुंडाराज की केंद्रीय संरक्षक बनकर स्मृति ईरानी बता रही हैं कि उन्हें एक महिला को गोली मारे जाने से नहीं, जंगलराज से नहीं, महिलाओं के सशक्तिकरण से बड़ी परेशानी है।

कांग्रेस ने ट्वीट से केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पर साधा निशाना।
कांग्रेस ने ट्वीट से केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी पर साधा निशाना।

बेटियां सहने को तैयार नहीं
वहीं, दूसरे ट्वीट में इस बात का जिक्र है कि जिस गुंडाराज ने महिला नेताओं की साड़ी खींचने वाले, गोली मारने वाले हैवान पाले हों, वहां लड़कियों को लड़ना पड़ेगा। स्मृति ईरानी अब 'पुराने जमाने की सास' चाहे जितना कहे कि 'बेटी सह लो', बेटियां सहने को तैयार नहीं हैं, इसलिए वे #लड़कीहूँ लड़सकतीहूँ का नारा बुलंद कर रही हैं।

कांग्रेस ने ट्वीट के जरिए बीजेपी नेता पर निशाना साधा।
कांग्रेस ने ट्वीट के जरिए बीजेपी नेता पर निशाना साधा।

कांग्रेस ने भाजपा को घेरा
उधर, कांग्रेस ने इस मामले को लेकर भाजपा को घेरा है। कांग्रेस ने जेपी नड्‌डा को टैग करते हुए ट्वीट किया। इसमें लिखा है- जेपी नड्‌डाजी, लड़कियों को लड़ने से आपकी पार्टी के जंगलराज में भाड़े के गुंडे रोक रहे हैं। महिलाओं की साड़ी खींचने वाले कायरों से इसी कायरता की उम्मीद है। बेटियों की एकजुटता से डरे कायर अब बेटियों पर गुंडे छोड़ रहे हैं।

प्रियंका गांधी ने भी की थी मुलाकात
प्रियंका गांधी ने भी की थी मुलाकात

पूर्वांचल एक्सप्रेस के लोकार्पण पर दिखाया था काला झंडा
16 नवंबर को पीएम मोदी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का लोकार्पण करने के लिए सुल्तानपुर पहुंचे थे। इस दौरान रीता यादव ने उन्हें काला झंडा दिखाया था। इसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जेल भेजा था और दो दिनों बाद उनकी बेल हुई थी। घटना के एक महीना बाद तक वह सपा में रहीं, लेकिन सम्मान नहीं मिलने पर वो 17 दिसंबर को लखनऊ में कांग्रेस जिलाध्यक्ष अभिषेक सिंह राणा से मिलीं और कांग्रेस ज्वॉइन की थी। यानी 17 दिन पहले ही उन्होंने कांग्रेस ज्वाॅइन की है।

खबरें और भी हैं...