पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सुल्तानपुर में पूर्व मंत्री और भाजपा नेता को उम्र कैद:साथियों के साथ मिलकर की थी ग्राम प्रधान की हत्या, पीड़ित परिवार बोला- आज भगवान ने दिया न्याय; पूर्व मंत्री बोले- अदालतों ​​​​​​​का विवेक शून्य है​​​​​​​

सुल्तानपुर4 दिन पहले
सुल्तानपुर में पूर्व सपा मंत्री और मौजूदा भाजपा नेता जंग बहादुर सिंह को एमपी/ एमएलए कोर्ट ने सुनाई उम्र कैद की सजा।

उत्तर प्रदेश के सुल्तानपुर में ग्राम प्रधान की हत्या के 26 साल पुराने मामले में गुरुवार को फैसला आया है। यह फैसला एमपी/एमएलए कोर्ट ने सुनाया है। जिसमें उस वक्त के ब्लॉक प्रमुख और भाजपा नेता जंग बहादुर और उनके साथियों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था। कोर्ट में इस केस की लंबी सुनवाई चली। जिसके बाद आखिरकार गुरुवार को अदालत ने आरोपियों को उम्र कैद की सजा सुनाने के साथ ही जुर्माना भी लगाया है। मृतक की पत्नी ने कहा कि 26 साल बाद भगवान ने हमें न्याय दिया है।

चुनावी रंजिश में हुई थी हत्या

मामला अमेठी जिले के जामो थाना क्षेत्र के पूरब गौरा गांव का है। जहां 30 जून 1995 को प्रधान रामप्रकाश यादव की हत्या कर दी गई थी। इसका कारण चुनावी रंजिश बताया गया था। मृतक के भाई राम उजागिर ने हत्या का आरोप तत्कालीन ब्लॉक प्रमुख जंग बहादुर सिंह जो कि बाद में सपा में मंत्री रहे और अब भाजपा के नेता है। उनके बेटे दद्दन सिंह एवं भांजे रमेश सिंह, समर बहादुर सिंह व हर्ष बहादुर सिंह पर लगाया था। इन सभी के खिलाफ केस भी दर्ज करवाया गया।

कोर्ट में नहीं होते थे पेश

यह केस एफटीसी प्रथम की कोर्ट में चल रहा था। करीब तीन सालों से कई बहस में आरोपी पक्ष हाजिर नहीं हो रहा था। जिसके चलते कोर्ट ने पूर्व मंत्री पर कई बार जुर्माना लगाया। वह जानबूझकर गैर-हाजिर रहकर मामले को लटकाए रखना चाहते थे।

कोर्ट में आई मृतक रामप्रकाश की पत्नी ने कहा कि उन्हें भगवान ने दिया न्याय।
कोर्ट में आई मृतक रामप्रकाश की पत्नी ने कहा कि उन्हें भगवान ने दिया न्याय।

पीड़ित पक्ष को मिलती थी जान से मारने की धमकी

कोर्ट की कार्रवाई से बचने के लिए पूर्व मंत्री के भांजे रमेश सिंह ने एफटीसी कोर्ट से मामला हटाने का अर्जी दी थी। ट्रांसफर अर्जी का पीड़ित के वकील रविवंश सिंह ने विरोध किया। उन्होंने जंग बहादुर सिंह पर आरोप लगाया कि वह जानबूझकर बहस में नहीं आते। पीड़ित परिवार को धमकाया जाता है। ऐसे तमाम तर्क कोर्ट के सामने रखे गए। जिसके बाद तत्कालीन जिला जज प्रमोद कुमार ने ट्रांसफर अर्जी खारिज कर दी। उधर, हत्यारोपी दद्दन सिंह की कुछ वर्षों पूर्व हत्या हो चुकी है। वहीं अन्य के खिलाफ पिछली तारीख पर सुनवाई हुई। जिसके बाद जज पीके जयंत ने आरोपियों को उम्र कैद की सजा सुनाई साथ ही जुर्माना भी लगाया। मृतक की पत्नी ने कहा कि आज 26 साल बाद उनके परिवार को भगवान ने न्याय दिया है।

सजा सुनाए जाने के बाद पीड़ित पक्ष ने बांटी मिठाइयां।
सजा सुनाए जाने के बाद पीड़ित पक्ष ने बांटी मिठाइयां।

पूर्व मंत्री बोले- अदालतों का विवेक शून्य है

दोषी करार दिए जाने के बाद भाजपा नेता एवं पुर्व मंत्री जंग बहादुर सिंह ने मीडिया से बात की है। उन्होनें कहा उन्हें न्याय नहीं मिला है। जिन लोगों को सजा हुई है वह सारे निर्दोष है। उन्होंने अदालतों पर भी टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि अदालतों के केवल कान है, विवेक शून्य है।

खबरें और भी हैं...