पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Sultanpur
  • Toilet Scam In Sultanpur: Somewhere Incomplete Or Missing Toilets, Did Not Even Respond To The Notice; 27 Lakhs Were Issued, Now Orders For Recovery Have Been Given

सुल्तानपुर में शौचालय घोटाला:कहीं अधूरे तो कहीं गायब मिले शौचालय, नोटिस का भी नहीं दिया जवाब; 27 लाख किए थे जारी, अब रिकवरी के दिए आदेश

सुल्तानपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
निर्धारित समय में धनराशि नहीं जमा करने पर आरसी के जरिए वसूली कराई जाएगी। - Dainik Bhaskar
निर्धारित समय में धनराशि नहीं जमा करने पर आरसी के जरिए वसूली कराई जाएगी।

सुल्तानपुर में शौचालय निर्माण में करीब 27 लाख रुपए डकारे जाने का मामला प्रकाश में आया है। यहां मोतिगरपुर ब्लॉक में में सांसद आदर्श ग्राम पंचायत सहित तीन ग्राम पंचायतों में तत्कालीन ग्राम प्रधान व पंचायत सचिवों द्वारा शौचालय निर्माण का 26,13, 800 रुपये डकार लिया है। जांच में धनराशि का दुरुपयोग पाए जाने पर जारी नोटिस का जवाब नहीं मिलने पर डीएम ने धनराशि की रिकवरी का आदेश दिया है।

जांच में मिली अनियमितता

डीएम के आदेश पर मोतिगरपुर ब्लॉक के हांसापुर, नानेमऊ व काछा-भिटौरा के शौचालयों की कराई गई जांच में बड़ी अनियमितता पाई गई थी। रिपोर्ट के मुताबिक हांसापुर में 34 शौचालयों की धनराशि निकाल ली गई लेकिन वे मौके पर बने ही नहीं हैं। वहीं गांव में 30 शौचालय अपूर्ण पाए गए। टीम ने हांसापुर में 4,39,100 रुपये का दुरुपयोग पाया था। इसी तरह नानेमऊ ग्राम पंचायत की कराई गई जांच में 81 शौचालय मौके पर पाए ही नहीं गए जबकि तीन अपूर्ण पाए गए थे।

जांच टीम को गांव में शौचालय के मद में 11, 06, 700 रुपये का दुरुपयोग मिला था। मेनका गांधी के आदर्श सांसद गांव काछा-भिटौरा में 53 शौचालयों का पता ही नहीं चला, जांच टीम को चार प्रसाधन अर्पूण मिले थे। टीम ने काछा-भिटौरा में 10,68, 000 रुपए के दुरुपयोग की रिपोर्ट दी थी।

डीएम ने रिकवरी के आदेश दिए हैं।
डीएम ने रिकवरी के आदेश दिए हैं।

ग्राम प्रधानों को जारी किया नोटिस

जिला पंचायतराज अधिकारी आरके भारती की रिपोर्ट पर जिला मजिस्ट्रेट रवीश गुप्ता ने हांसापुर, नानेमऊ व काछा-भिटौरा ग्राम पंचायत के तत्कालीन ग्राम प्रधान व पंचायत सचिवों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा था। आदेश के मुताबिक नोटिस जारी होने के बाद भी किसी प्रधान व पंचायत सचिव ने कोई जवाब नहीं दिया। जवाब नहीं मिलने पर डीपीआरओ ने इसे गंभीरता से लेते हुए डीएम को रिपोर्ट दी थी। डीएम ने हांसापुर की तत्कालीन ग्राम प्रधान सुमन पर 219550, तत्कालीन सेक्रेटरी राजेश गौतम पर भी 219550 रुपये जमा करने की नोटिस जारी की है।

इसी तरह नानेमऊ ग्राम पंचायत की तत्कालीन ग्राम प्रधान कामना देवी से 553350 रुपये जमा कराने का आदेश दिया है। इसी ग्राम पंचायत के तत्कालीन पंचायत सचिव राजेश गौतम से 276675 रूपये व तत्कालीन पंचायत सचिव राम बहाल तिवारी से 276675 रुपये की रिकवरी का आदेश दिया है।

रकम जमा न करने पर आरसी से होगी वसूली

काछा-भिटौरा की तत्कालीन ग्राम प्रधान अनीता साहू से दुरुपयोग की गई धनराशि में से आधी रकम 534000 रुपये जमा कराने का आदेश जारी किया गया है। डीएम ने उस दौरान रहे गांव के चार पंचायत सचिवों राजेश गौतम, सुनील कुमार, सेवानिवृत्त हो चुके श्रीराम दुबे व शिवप्रसाद वर्मा से बराबर-बराबर 1333500 रुपये ग्राम निधि के खाते में जमा कराने का आदेश जारी किया है।

डीएम रवीश गुप्ता ने बताया शौचालय में दुरुपयोग की गई धनराशि को 15 दिन में तत्कालीन ग्राम प्रधानों व पंचायत सचिवों को जमा करने का आदेश दिया गया है। निर्धारित समय में धनराशि नहीं जमा करने पर आरसी के जरिए वसूली कराई जाएगी।

खबरें और भी हैं...