उन्नाव में बंद होंगे 44 ईंट-भट्ठे!:प्रदूषण विभाग ने भेजी नोटिस, एनवायरमेंट क्लीयरेंस और सहमति पत्र प्राप्त के निर्देश; मानक पूरे न हुए तो होंगे सील

उन्नाव4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
उन्नाव में बंद होंगे 44 ईंट-भट्ठ - Dainik Bhaskar
उन्नाव में बंद होंगे 44 ईंट-भट्ठ

उन्नाव जिले में प्रदूषण विभाग के मानकों को पूरा न करने वाले 44 ईंट-भट्ठे विभाग की कार्रवाई की जद में आ गए हैं। प्रदूषण विभाग ने इन भट्ठों को एनवायरमेंट क्लीयरेंस और सहमति पत्र प्राप्त करने न करने को लेकर कारण बताओ नोटिस भेजा है। ऐसे में इन सभी भट्ठों पर बंदी की तलवार लटक सकती है। विभाग ने हिदायत दी है कि यदि ये लोग समय रहते कागजी कार्यवाही पूरी नहीं करते हैं तो इनके खिलाफ बंदी का आदेश जारी किया जाएगा।

क्षेत्रीय कार्यालय ने ईंट-भट्ठा संचालकों को भेजी नोटिस

बता दें उन्नाव जिले में लगभग 200 से अधिक ईंट-भट्ठे संचालित हो रहे हैं। इनके संचालन के लिए यूपी प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के क्षेत्रीय कार्यालय से एनवायरमेंट क्लीयरेंस के साथ ही सहमति पत्र भी जारी किया जाता है, लेकिन उन्नाव के 44 ईंट-भट्ठों ने यूपी प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के क्षेत्रीय कार्यालय से न ही एनवायरमेंट क्लीयरेंस और न ही सहमति पत्र जारी करवाया है, जिसके कारण बोर्ड ने इन ईंट-भट्ठा संचालकों को नोटिस भेजा है।

सरकार ने प्रदेश के 2 हजार ईंट-भट्ठों की सूची जारी की थी

बीते दिनों प्रदेश सरकार ने विभागीय मांगों को पूरा न करने वाले करीब 2 हजार ईंट-भट्ठों की सूची जारी की थी, जिसमें उन्नाव जिले के 44 भट्ठे भी शामिल थे। वहीं सूची जारी होने के बाद उन्नाव का क्षेत्रीय कार्यालय भी एक्टिव मोड में आ गया है। मुख्यालय से आए आदेश का पालन कराने के लिए उन्नाव में संचालित 44 ईंट-भट्ठों के संचालकों को समय रहते एनवायरमेंट क्लीयरेंस और सहमति पत्र प्राप्त करने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही उन्नाव के क्षेत्रीय कार्यालय के अधिकारी ने नोटिस जारी करते हुए कहा है कि यदि समय के रहते पेपर फॉर्मेलिटी पूरी नहीं की जाती है तो यह सभी भट्ठे बंद होंगे।

मानक पूरे न हुए तो बंद किए जाएंगे ईंट-भट्ठे

क्षेत्रीय कार्यालय के प्रदूषण अधिकारी ने बताया कि इन सभी 44 ईंट-भट्ठों के संचालकों को नोटिस जारी करते हुए हिदायत दी गई है कि यदि समय रहते कागजी कार्यवाही पूरी नहीं करते हैं तो इनके खिलाफ बंदी का आदेश जारी किया जाएगा। साथ ही उन्होंने बताया कि इन भट्ठों की चिमनिया में कार्बन उत्सर्जन की मात्रा भी मानकों से अधिक है। ऐसे में सभी भट्ठा संचालकों को नोटिस भेजी गई है।

खबरें और भी हैं...