उन्नाव में कार्तिक मेले की तैयारियों में जुटा प्रशासन:ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने घाट का लिया जायजा, घाटों की साफ-सफाई करने के दिए निर्देश

उन्नाव22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

उन्नाव में नगर पालिका ने मिश्रा कॉलोनी से लेकर बालू घाट और नमामि गंगे घाट तक वृहद स्तर पर साफ सफाई अभियान चलाया। इस दौरान सफाई कर्मचारियों ने घाटों पर फैली गंदगी साफ करने के साथ ही झाडू लगाई। इस दौरान ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने मेले की तैयारियों का जायजा लिया। निरीक्षण के दौरान घाटों पर तमाम खामियां पाई गई है। जिनको दूर करने का निर्देश दिया है।

कार्तिक पूर्णिमा पर होने वाले गंगा स्नान में उमड़ने वाली भीड़ को देखते हुये पालिका की ओर से नगर के सभी घाटों पर व्यापक तौर पर सफाई अभियान चलाया। ईओ नरेन्द्र मोहन मिश्रा के निर्देशन पर एसवीएम प्रभारी अनूप शुक्ला ने सफाई कर्मचारियों की मदद से घाटों पर समतलीकरण का काम कराया। गंगा की धारा दूर होने के कारण तट तक जाने के लिए भी मार्ग बनवाने का कार्य शुरू कराया है। जिससे कार्तिक पूर्णिमा पर आने वाले हजारों श्रद्धालुओं को परेशानी का सामना न करना पड़े।

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नुपूर गोयल ने घाट का किया निरीक्षण।
ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नुपूर गोयल ने घाट का किया निरीक्षण।

गंगा की धारा में बांस बल्लियों को लगाने का निर्देश
ज्वाइंट मजिस्ट्रेट नुपूर गोयल, नायब तहसीलदार मंजूला मिश्रा, लेखपाल मनोज यादव ने घाटों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि मेले में बड़े झूले न लगाये गये। वस्त्र बदलने के लिये तट के किनारे व्यवस्था की जाये। गंगा स्नान के दौरान गंगा के किनारे और धारा में गोताखोर की तैनाती की जाए। गंगा की धारा में बांस बल्लियों को लगा दिया जाए।जिससे श्रद्धालुओं को गहरे पानी में जाने से रोका जा सके।

घाटों पर उमड़ती है भीड़
कार्तिक पूर्णिमा पर गंगा स्नान करने के लिए उन्नाव के साथ-साथ हरदोई, सफीपुर, बांगरमऊ, बीघापुर और कानपुर के अलावा अन्य जगहों से श्रद्धालु गंगा स्नान करने के लिए पहुंचते हैं। इस दौरान मिश्रा कॉलोनी घाट, बालू घाट, गंगा विशुन घाट, आनंद घाट पर श्रद्धालुओं की लाखों की संख्या में भीड़ उमड़ती है। ऐसे में पुलिस प्रशासन पहले से ही व्यवस्थाओं को पूरा करने में जुटा है।

1.32 लाख में उठा कार्तिक मेले का ठेका
कार्तिक पूर्णिमा के मेले का ठेके की बोली अधिशाषी अधिारी के नेतृत्व में पालिका कार्यालय में कई ठेकेदारों ने बोली लगाई। सवा लाख में मेले का ठेका छूट गया। अधिशाषी अधिकारी नरेन्द्र मोहन मिश्रा की उपस्थिति में रोहित अवस्थी, रामचंद्र गुप्ता, शिवलाल, प्रतिमा त्रिवेदी आदि ने बोली लगानी शुरू की। हजार और पांच सौ रुपये का अंतर होता रहा। अंत में एक लाख बत्तीस हजार में प्रतिमा त्रिवेदी के नाम मेले का ठेका कर दिया गया।

खबरें और भी हैं...