उन्नाव में मतदाता नहीं ले पा रहे बूथ पर सेल्फी:मोबाइल साथ ले जाने पर बाहर ही रोका जा रहा, लोग बिना वोट डाले वापस लौटे

उन्नाव7 महीने पहले
लोग नहीं ले पा रहे सेल्फी।

उन्नाव में सुबह 7 बजे से विधानसभा चुनाव को लेकर 2656 बूथों पर मतदान की प्रक्रिया शुरू हो गई थी। जिसमें कई जगहों पर ईवीएम खराब तो कई विधानसभा में विकास कार्य न होने से ग्रामीणों ने इसका विरोध किया है। वहीं अब मतदाताओं के सामने एक बड़ी समस्या आ रही है। जिससे उन्नाव के मतदान प्रतिशत में नुकसान हो सकता है। दरअसल बिना मास्क के एंट्री नहीं हो रही, तो मोबाइल ले जाने पर बैन है। ऐसे में मतदाताओं को कोई दूसरा रास्ता नहीं दिख रहा है। वह मायूस होकर वापस लौट रहे हैं।

गिर सकता है मतदान प्रतिशत

उन्नाव सदर विधानसभा की बात करें तो डीएसएन कॉलेज मैचलेस कालेज समेत मॉडल बूथ पर जिला प्रशासन की ओर से जागरूकता और मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए सेल्फी प्वाइंट बनवाए गए हैं, लेकिन यहां पर पहुंचने वाले लोग मोबाइल लेकर जा रहे हैं तो उनको एंट्री पॉइंट से ही वापस कर दिया जा रहा है।

ऐसे में बाजार में बंद हैं, दुकान बंद हैं लोग परिचितों के यहां भी मोबाइल रखना मुनासिब नहीं समझ रहे हैं। जिससे वो मायूस होकर वापस घर लौट रहे हैं। दोबारा वोट डालने की हिम्मत नहीं जुटा रहे हैं। वहीं मास्क ना होने से लोगों को बूथ के अंदर एंट्री नहीं मिल रही है। यह दोनों अहम मुद्दे उन्नाव के मतदान प्रतिशत में गिरावट कर सकते हैं।

तीन गांवों में 12 बजे तक नहीं पड़ सका एक भी वोट

उन्नाव की मोहान विधानसभा और सफीपुर विधानसभा सीट पर 3 गांव मल्झा, मिर्जापुर और पैगम्बरपुर ऐसे हैं, जहां पर सड़क, बिजली, पानी, शिक्षा और पुल की समस्या को लेकर ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार किया है। 12 बजे तक जिला प्रशासन एक भी मत नहीं डलवा पाया है।

अफसर ग्रामीणों को मनाने में जुटे हैं। इन विधानसभा में भाजपा के विधायक थे। वर्तमान में दोबारा से दावेदारी ठोंक रहे हैं। खाना पानी न मिलने से वाहन चालकों ने विरोध जताया। ड्यूटी में लगे वाहन चालकों को खाना नहीं मिला। पानी की भी सुविधा नहीं उपलब्ध करवा सका।