हाईकोर्ट ने पर्यावरण को लेकर सात विभागों को किया तलब:कटे हुये पेड़ न लगाये जाने पर भेजी गई नोटिस, वन विभाग नहीं करा रहा पौध-रोपण

उन्नाव11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शुक्लागंज उन्नाव फोरलेन निर्माण के दौरान ढाई हजार से अधिक हरे पेड़ काटे गये थे। इसके एवज में कोई भी पौध रोपण नहीं किया गया। जिस पर संदेश फांडेशन ने जन सूचना के माध्यम से जबाव मांगा। विभाग ने किसी तरह फोरलेन के किनारे मात्र एक हजार पौध रोपण कर खानापुर्ती कर दी।

पर्यावरण संतुलन को देखते हुये पूर्व नौ सैनिक ने हाईकोर्ट में याचिका दायर की। जिस पर कोर्ट ने अपर मुख्य सचिव, वन विभाग समेत सात अन्य विभागों को नोटिस देकर अगली तारीख को तलब किया है। वर्ष 2015-16 में फोरलेन बनने के दौरान 2 हजार 235 वृक्षों का पतन किया गया था। उसके स्थान पर मार्ग के दोनों ओर 4500 ब्रिकगार्ड वृक्षारोपण का कार्य प्रस्तावित था।

वन विभाग द्वारा पौध रोपण नहीं कराया गया
चौड़ीकरण के दौरान वृक्षों के पतन से पहले ही कार्यदायी संस्था पीडब्ल्यूडी द्वारा धनराशि 3 करोड 12 जाख 93 हजार रूपये से कैम्पा (प्रतिपूरक वनीकरण नियंत्रण वृक्षारोपण प्राधिकरण) कोष में जमा करा दी गई थी। लेकिन वन विभाग द्वारा पौधरोपण नहीं कराया गया। जिस पर डॉक्टर कॉलोनी निवासी संदेश फाउंडेशन के अध्यक्ष, पूर्व नौ सैनिक व पूर्ण रणजी खिलाड़ी ने जन सूचना के माध्यम से जबाव मांगा।

जिस पर वन विभाग द्वारा 2022 में में उपरोक्त पौध रोपण कराया गया। मात्र 1000 पौधों का पौध रोपण ही मुमकिन है। शेष 3500 पौधों का रोपण राज्य के भिन्न-भिन्न मार्गों पर करा दिया। जिसे देखते हुये उन्होंने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की। न्यायाधीश देवेन्द्र उपाध्याय, सौरभ श्रीवास्तव ने सुना और पर्यावरण वन मंत्रालय भारत सरकार समेत सात विभागों को नोटिस भेजकर 18 अक्तूबर हलफनामे के साथ कोर्ट में उपस्थिति होने के निर्देश दिये।

सात पार्टियों को कोर्ट द्वारा भेजी गई नोटिस
पर्यावरण वन मंत्रालय भारत सरकार, वन मंत्रालय उत्तर प्रदेश, राष्ट्रीय प्रतिपूरक वनीयकरण कोष, उत्तर प्रदेश प्रतिपूरक वनीकरण कोष, वन विभाग उन्नाव, प्रधान मुख्य वन संरक्षक उत्तर प्रदेश सरकार, मुख्य वन्य जीव बॉर्डन उत्तर प्रदेश सरकार को नोटिस भेजी गई है।

पर्यावरण को लेकर गंभीर नहीं विभाग
पर्यावरण संतुलन दिनों दिन बिगड़ता जा रहा है। इसके बावजूद विभाग पर्यावरण को लेकर गंभीर नहीं दिख रहा है। जिससे आने वाले समय में लोगों का इसका हर्जाना भुगतना पड़ सकता है। शुक्लागंज में फोरलेन निर्माण के बाद बैराज मार्ग पर आरओबी बनाये जाने को लेकर भी वन विभाग ने कई हरे पेड़ कटवा दिये। लगातार हरे पेड़ों की कटान जारी है। लेकिन विभाग पौध रोपण नहीं करा रहा है। जिससे पर्यावरण का संतुलन बिगड़ सकता है।

खबरें और भी हैं...