छेड़खानी पर कार्रवाई नहीं तो दो बहनों ने खाया जहर:उन्नाव में उल्टा भाई पर दर्ज किया मुकदमा, बहने काटती रही थाने के चक्कर

उन्नाव2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस उत्पीड़न से परेशान दोनों बेटियों ने जहर खा लिया। - Dainik Bhaskar
पुलिस उत्पीड़न से परेशान दोनों बेटियों ने जहर खा लिया।

उन्नाव में पहले तो दलित बहनों के साथ सत्ता समर्थित दबंगों ने छेड़छाड़ की। बहनों ने विरोध व शिकायत किया तो सत्ता की हनक के बल पर दबंगों ने दलित बहनों के भाईयों पर ही मुकदमा दर्ज करा दिया। आरोप है कि पुलिस ने भाईयों के साथ हैवानियत भरा व्यवहार किया और उन्हें मरणासन्न कर दिया। जिनकी दुर्दशा देख आज बहनों ने जहर खा लिया। न्याय की उम्मीद टूटती देख हताश मां ने अपना दर्द बयां करते हुए कहा कि बेटियों को कुछ हुआ तो उनकी लाशें सीएम कार्यालय या एसपी कार्यालय में ही फेंक देंगी।

घटना बिहार थाना क्षेत्र के एक गांव की है। पीड़ित मां के अनुसार बीती 3/4 अगस्त को पीड़िता की बेटियां बारासगवर के गाई ग्राम अपने ननिहाल गई थीं। जहां बेटियां भतीजी के साथ शौच करने गई थीं। गांव के ही कुछ दबंगों ने छोटी बेटी को दबोच लिया। दूसरी भागने में सफल रही। दूसरी बेटी की शिकायत पर परिजनों ने मौके पर पहुंचकर छोटी बेटी को बचाया। अगले दिन परिजनों ने पुलिस से शिकायत की। लेकिन पुलिस ने पीड़ितों का ही शोषण आरंभ कर दिया। जिससे क्षुब्ध होकर दोनों बेटियों ने जहरीला पदार्थ निगल लिया।

पुलिस पर बेटियों से भी मारपीट का आरोप

पीड़िता ने बताया कि पुलिस ने उसे व पुत्र और पुत्रियों को चार-पांच घंटे थाने में बिठाए रखा लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की। उल्टे थाने में पुलिस ने उसकी बेटियों से मारपीट की। जबकि उसकी बेटी सिर्फ मोबाइल फोन लिए खड़ी थी। पुलिस को आशंका हो गई कि बेटी वीडियो बना रही तो बेटी को जमकर पीट दिया।

पीड़िता ने पुलिस पर काफी गंभीर आरोप लगाए हैं।
पीड़िता ने पुलिस पर काफी गंभीर आरोप लगाए हैं।

पाटन चौकी में पूरे परिवार को बनाया बंधक

पीड़िता ने पुलिस पर काफी गंभीर आरोप लगाए हैं। बताया कि आरोपियों पर कार्यवाही न होते देख पीड़िता का परिवार एसपी कार्यालय जाने लगा तो पुलिस ने जाति सूचक शब्दों का इस्तेमाल व गाली गलौज करते हुए पूरे परिवार को पीटना शुरु कर दिया और पाटन चौकी में बंधक बना लिया। पीड़िता ने बताया मारपीट का वीडियो भी उपलब्ध है।

सुलह न करने पर दर्ज कर दिया झूठा मुकदमा

पीड़िता ने फोन पर बताया कि पुलिस लगातार बेटियों से छेड़छाड के मामले में सुलह का दबाव बना रही थी। सुलह न करने पर बेटों को झूठे मुकदमे में फंसा दिया। बेटियों ने बताया कि पुलिस उन्हें रोज आए दिन परेशान करती है। समझौते का दबाव बनाती है। धमकाती है कि समझौता कर लो वर्ना जिंदगी भर अपने भाईयों को छुडा नहीं पाओगी। जमीन जायदाद बिक जाएगी।

पुलिस ने भाईयों के साथ हैवानियत भरा व्यवहार किया और उन्हें मरणासन्न कर दिया। जिनकी दुर्दशा देख आज बहनों ने जहर खा लिया।
पुलिस ने भाईयों के साथ हैवानियत भरा व्यवहार किया और उन्हें मरणासन्न कर दिया। जिनकी दुर्दशा देख आज बहनों ने जहर खा लिया।

निष्पक्ष जांच न हुई तो दलित परिवार दे देगा जान

पीड़िता का कहना है कि उसके बेटों पर लिखा गया मुकदमा पूरी तरह झूठा है। यदि निष्पक्ष जांच न हुई तो पूरा परिवार जान दे देगा। वादी महिला जिस दिन की घटना दिखा रही है। उस समय वह दिल्ली में थी और उसके सारे बेटे भी अलग अलग जिलों में अपने काम पर गए थे। जो मोबाइल लोकेशन से साबित हो जाएगा।

खबरें और भी हैं...