• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Unnao
  • In January, Wife Was Killed And Buried In Uncle's Field, Told Mother in law His Daughter In Chandigarh; Talked To Another Girl On The Phone

उन्नाव में हत्या का खुलासा:जनवरी में पत्नी को मारकर चाचा के खेत में गाढ़ दिया था, सास से कहा चंडीगढ़ में उनकी बेटी; फोन पर किसी और लड़की करवाई थी बात

उन्नावएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
उन्नाव में पत्नी की हत्या कर शव दफनाने वाले पति और उसके चाचा को पुलिस ने किया गिरफ्तार। - Dainik Bhaskar
उन्नाव में पत्नी की हत्या कर शव दफनाने वाले पति और उसके चाचा को पुलिस ने किया गिरफ्तार।

उन्नाव में जिस महिला का शव जंगल में दफनाया गया था। पुलिस ने उस हत्या के मामले का खुलासा किया है। उसकी हत्या उसी के पती ने अपने चाचा के साथ मिलकर की थी। बाद में उसका शव चाचा के ही खेत में दफना दिया था। सास के पूछने पर दामाद ने कहा कि वह चंडीगढ़ में ही है। फोन पर उसने किसी और लड़की की अपनी सास से बात करवा दी। शक होने पर पुलिस में मृतका की मां ने तहरीर दी थी। तभी से पुलिस मामले की जांच कर रही थी। खुलासा करते हुए पुलिस ने आरोपी पति व चाचा को गिरफ्तार कर लिया है।

डेढ़ साल पहले हुई थी शादी
मॉखी थाना क्षेत्र के गांव थाना निवासी अनिल की शादी अजगैन थाना क्षेत्र के गांव कुसलीखेड़ा निवासी सर्वेन्द्र की बेटी लक्ष्मी के साथ डेढ़ साल पहले हुई थी। वह चंडीगढ़ में प्राइवेट नौकरी करता था। शादी के बाद वह पत्नी को लेकर चंडीगढ़ चला गया।

मां को मिलने से रोका
6 महीने पहले वह घर लौटा तो लक्ष्मी की मां सरोज बेटी से मिलने घर पहुंची। तो उन्हें मिलने नहीं दिया गया। पूछने पर अनिल ने बताया कि लक्ष्मी चंडीगढ़ में है। उसने फोन पर किसी और लड़की की बात सरोज से करवा दी। बाद में कुछ लोगों ने सरोज को बताया कि उसकी बेटी को मार कर गाढ़ दिया गया है। तब सोरज 6 जून को 5 लोगों के खिलाफ तहरीर लिखवाने मॉखी पुलिस थाने पहुंची। जहां पुलिस ने पहले तो मामला दर्ज ही नहीं किया। बाद में 21 जून को पुलिस ने गुमशुदगी का मामला दर्ज छानबीन शुरू की। सरोज ने दामाद अनिल ससुर पुत्तन चचेरे ससुर रामरतन व सीमा ननद के खिलाफ नामजद तहरीर दी थी। जिसके बाद पुलिस ने अनिल और रामरतन को हिरासत में ले लिया था।

पूछताछ में हुआ खुलासा
पूछताछ में अनिल व रामरतन ने अपना जुर्म कुबुल कर लिया। उन्होनें बताया कि 30 जनवरी को उन लोगों ने लक्ष्मी की फावड़े से मारकर हत्या कर दी थी। बाद में उसे बोरे में भरकर चाचा रामरतन की साइकिल से उसके खेत के तालाब में ले जाया गया। जो कि सूखा पड़ा था। उन लोगों ने उसी में उसका शव दफना दिया। बाद में तालाब में पानी भर दिया गया।

पुलिस ने करवाई कपड़ों की शिनाख्त
पति की निशानदेही पर पुलिस ने तालाब में खोदवाई करवाकर देखा तो उसमें लक्ष्मी के सिर का कंकाल था। उसकी साड़ी थी। इसके अलावा हत्या में उपयोग किया गया फावड़ा और साइकिल भी थी। जिसे पुलिस ने बाहर निकाला और फिर कंकाल के सिर को जांच के लिए भेजा। पुलिस ने बताया कि आरोपियों का मेडिकल करवाकर उन्हें कोर्ट में पेश किया जा रहा है। साथ ही मृतका की मां ने मृतका के कपड़ों की पहचान की है।

खबरें और भी हैं...