उन्नाव में अवैध फैक्ट्रियों को प्रदूषण विभाग का नोटिस:खाद इकाइयों के कचरे से फैल रही है बदबू, बात न मानने पर होगी तालाबंदी

उन्नावएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
उन्नाव में अवैध फैक्ट्रियों द्वारा फेंके गए कचरे से शहर में फैलती है बदबू। - Dainik Bhaskar
उन्नाव में अवैध फैक्ट्रियों द्वारा फेंके गए कचरे से शहर में फैलती है बदबू।

उन्नाव में कई खाद फैक्ट्रियों को प्रदूषण विभाग ने नोटिस देकर प्रदूषण को खत्म करने के निर्देश दिए हैं। त्रिपाठी कंपाउंड में स्थित चार आर्गेनिक खाद निर्माता इकाइयों के मैनेजर ने फैक्ट्री के सभी मानकों पर खरे उतरने की बात बताई है। वहीं औद्योगिक साइड-1 की आधा दर्जन प्रदूषण फैला रही फैक्ट्रियों पर जल्द ही जिला प्रशासन कार्रवाई करने वाला है। पूर्व सांसद अन्नू टंडन ने यह मामला लोकसभा में भी उठाया था।

लोकसभा में पूर्व सांसद ने उठाया था मुद्दा
जिले में खाद फैक्ट्रियों से निकलने वाले मलबे से पूरे शहर में बदबू फैल जाती है। जिसके चलते वहां से गुजरने वालों को नाक पर रुमाल रखना पड़ता है। इस समस्या को लोकसभा में पूर्व सांसद अन्नू टंडन ने भी उठाया था। कुछ दिन पहले काबिना मंत्री यहां से गुजरे तो दुर्गंध की वजह से वह नाराज हो गए।

फैक्ट्री मालिकों ने कहा- कमियों को किया जा चुका है दूर
ताजा मामला औद्योगिक क्षेत्र के साइड-1 का है। जहां पर मेसर्स हबीबा ऑर्गेनिक, मेसर्स आई एस एक्सिम, मेसर्स शिफा मैन्योर, मेसर्स हाजरा मैन्योर को प्रदूषण विभाग नोटिस थमाने की फिराक में है। प्रदूषण विभाग की माने तो ग्रामीणों व फैक्ट्री से सटे प्राथमिक स्कूल की शिकायत पर नोटिस भेजा जा रही है। अगर इसमें सुधार नहीं होता है। तो फैक्ट्री में ताला बंदी कराई जा सकती है। उधर फैक्ट्री प्रबंधन का कहना है कि डीएम के निर्देश पर कमियों को दूर किया जा चुका है। फिर भी प्रदूषण विभाग गलत दबाव फैक्ट्रियों पर बना रहा है।

खबरें और भी हैं...