उन्नाव..ब्रिक गार्ड बनाने में गोलमाल:पीली ईंट का कर रहे प्रयोग, मौरंग की जगह डस्ट का प्रयोग, डीएफओ बोलीं- 5 सदस्यीय टीम करेगी जांच

12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
ब्रिक गार्ड बनाने में पीली ईंट का हो रहा प्रयोग। - Dainik Bhaskar
ब्रिक गार्ड बनाने में पीली ईंट का हो रहा प्रयोग।

उन्नाव में पौधों की सुरक्षा के लिए बन रहे ब्रिक गार्ड के निर्माण में जमकर खेल हो रहा है। कहा जा रहा है कि करीब एक करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले ब्रिक गार्ड में अफसरों की मिली भगत से ठेकेदार मानकविहीन सामग्री यूज कर रहे हैं। वहीं, अधिकारियों का कहना है कि जब ब्रिक गार्ड बनकर तैयार हो जाएंगे, उसके बाद जांच की जाएगी।
चार हजार ब्रिक गार्ड बनाने हैं
उन्नाव में वन विभाग को लगभग 4000 ब्रिक गार्ड बनाने थे। वन विभाग के कर्मियों की मानें तो इनमे से एक ब्रिक गार्ड पर लगभग ₹3000 खर्च आता है। इस तरह ब्रिक गार्ड के निर्माण में एक करोड़ रुपए खर्च का अनुमान है।
अफसरों और ठेकदारों की मिलीभगत
वहीं, दूसरी तरफ विभागीय अफसरों और ठेकेदारों की मिलीभगत से ब्रिक गार्ड के निर्माण में जमकर खेल किया जा रहा है। वन विभाग के सूत्रों की मानें तो अब तक उन्नाव में बिलग्राम इलाहाबाद मार्ग पर 2900, उन्नाव शुक्लागंज मार्ग पर 1000, ब्रिक गार्ड का निर्माण हो चुका है। इसके अलावा उन्नाव शुक्लागंज मार्ग पर 100, लखनऊ कानपुर मार्ग पर लगभग 700 ब्रिक गार्ड का निर्माण चल रहा है। वन विभाग के अफसरों की मानें तो इनमें से अभी कहीं पर भी निर्माण सामग्री की जांच नहीं की गई है। जब सभी काम हो जाएंगे उसके बाद निर्माण की गुणवत्ता परखी जाएगी।
डीएफओ ने कहा-कैंपा योजना के तहत चल रहा निर्माण कार्य
डीएफओ ईशा तिवारी ने बताया कि उन्नाव में भी हमारे यहां कैंपा योजना के अंतर्गत ब्रिक गार्ड निर्माण कार्य का कार्य चल रहा है। इसमें लगभग 3600 के आसपास ब्रिक गार्ड बनने हैं। अभी तक लगभग 12 से 1600 तक निर्माण कार्य पूरा हो चुका है। इनका का भुगतान गुणवत्ता टीम रिपोर्ट के बाद ही होगा। यह गार्ड टेंडर के माध्यम से बनाए जा रहे हैं।
5 सदस्यीय टीम करेगी गुणवत्ता की जांच
उन्होंने कहा कि जिले के अंतर्गत दोनों एसडीओ और रेंजर के साथ ही 5 सदस्य टीम बनाई गई है। उनकी गुणवत्ता रिपोर्ट प्राप्त होने के पश्चात ही भुगतान होगा। यदि गुणवत्ता के अनुरूप आ जाएंगे तभी भुगतान होगा। 5 सदस्य टीम ब्रिक गार्ड की गुणवत्ता चेक करेगी। मैं खुद भी मौके पर जाकर देखूंगी। यदि गुणवत्ता खराब पाई जाती है तो टेंडर निरस्त कर दिया जाएगा। कोई भुगतान नहीं किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...