वाराणसी...1000 जवानों के हाथ होगी काशी विश्वनाथ धाम की सुरक्षा:123 प्वाइंट पर तैनात रहेगी फोर्स; PM मोदी का है ड्रीम प्रोजेक्ट

वाराणसी4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने गुरुवार को काशी विश्वनाथ धाम का निरीक्षण किया। उन्होंने पुलिस और पीएसी के जवानों के लिए ड़्यूटी प्वाइंंट्स निर्धारित किए। - Dainik Bhaskar
पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने गुरुवार को काशी विश्वनाथ धाम का निरीक्षण किया। उन्होंने पुलिस और पीएसी के जवानों के लिए ड़्यूटी प्वाइंंट्स निर्धारित किए।

वाराणसी में श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का 15 दिसंबर से पहले लोकार्पण होने जा रहा है। इस कार्यक्रम में PM नरेंद्र मोदी, यूपी के CM योगी आदित्यनाथ समेत देशभर के VVIP आएंगे। इसकी तैयारियों में प्रशासन लगा हुआ है। पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने गुरुवार को सुरक्षा व्यवस्था की वर्क प्लान को अंतिम रूप दिया।

उन्होंने तय किया कि धाम में PAC के जवानों के 21 ड्यूटी प्वाइंट होंगे। हर प्वाइंट पर PAC की 1 सेक्शन हथियारबंद टुकड़ी तैनात रहेगी। यह धाम के आउटर कॉर्डन को सुरक्षित करेगी। PAC के कंपनी कमांडर भी तैनात रहेंगे। वहीं, 102 प्वाइंट पर पुलिस के जवान तैनात रहेंगे।

वहीं, काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी से संबंधित रेड जोन की सुरक्षा का जिम्मा CRPF (सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स) के पास रहेगा।

3 शिफ्ट में ड्यूटी करेंगे सुरक्षाकर्मी

पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने दैनिक भास्कर को बताया कि पुलिस, PAC और CRPF के जवान 3 शिफ्ट में ड्यूटी करेंगे। 1 शिफ्ट में CRPF के 100, PAC के 250 और पुलिस के 650 जवान तैनात रहेंगे। इन जवानों को बार कोड युक्त स्मार्ट आईकार्ड दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि जवानों पर के बेहतर नियंत्रण के लिए सेक्टर ऑफिसर और उनके ऊपर जोनल ऑफिसर तैनात होंगे।

किसी भी इमरजेंसी से निपटने के लिए विश्वनाथ धाम परिसर में और उसके बाहर क्विक रिस्पांस टीम भी 24 घंटे तैनात रहेगी। इसके साथ ही धाम के हर प्वाइंट, गंगा घाट और आसपास के क्षेत्र की निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं।

काशी विश्वनाथ धाम में पुलिस अफसरों को सुरक्षा व्यवस्था के संबंध में निर्देश देते पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश।
काशी विश्वनाथ धाम में पुलिस अफसरों को सुरक्षा व्यवस्था के संबंध में निर्देश देते पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश।

अच्छे व्यवहार के लिए दिया जाएगा प्रशिक्षण

पुलिस कमिश्नर ने बताया कि हर ड्यूटी प्वाइंट के लिए स्टैंडिंग ऑर्डर बनवाए जा रहे हैं। इनसे कर्मचारियों को कामों की जानकारी दी जाएगी। यहां आने वाले श्रद्धालुओं से अच्छे व्यवहार के लिए नियमित अंतराल पर पुलिसकर्मियों को शॉर्टटर्म प्रशिक्षण दिया जाएगा।

इसके अलावा समय-समय पर बड़े अधिकारियों, समाजशास्त्रियों और मनोवैज्ञानिकों से फोर्स की काउंसिलिंग की व्यवस्था भी की जाएगी। उन्होंने कहा कि सुरक्षा व्यवस्था में हम किसी भी स्तर पर लापरवाही नहीं होने देंगे। लेकिन इसकी आड़ में किसी भी श्रद्धालु के साथ दुर्व्यवहार भी नहीं बर्दाश्त किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...