पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • 92 Mm Of Rain In Varanasi From Morning To Evening, The People Of The City Were Troubled By The Problem Of Water Logging And The Minister Asked The Municipal Corporation To Pump Out Water.

बारिश ने खोल दी व्यवस्थाओं की पोल:वाराणसी में सुबह से शाम तक हुई बारिश से प्रमुख क्षेत्रों में भर गया पानी, मंत्री ने पंप लगाकर निकलवाने को कहा

वाराणसी3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी में दिन भर हुई बारिश से व्यवस्थाओं की पोल खुल गई। - Dainik Bhaskar
वाराणसी में दिन भर हुई बारिश से व्यवस्थाओं की पोल खुल गई।

वाराणसी में गुरुवार को सुबह से शाम तक जमकर मेघ बरसे। बाबतपुर स्थित मौसम विभाग के कार्यालय के अनुसार शाम छह बजे तक 92 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। झमाझम हुई बारिश के दौरान सीवर लाइन और नाले-नालियां चोक होने के कारण शहर की सड़कों, बीएचयू अस्पताल परिसर, मुहल्लों, कैंट रेलवे स्टेशन और कैंट रोडवेज से लेकर सभी जगह जलभराव की समस्या पैदा हो गई। जलभराव की समस्या को देखते हुए शाम के समय प्रदेश के राज्य मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी ने नगर आयुक्त और नगर स्वास्थ्य अधिकारी को फोन कर पंप लगवा कर पानी निकलवाने को कहा। इसके साथ ही मंत्री ने कहा कि पानी निकल जाए तो सही तरीके से सफाई कराई जाए।

झमाझम हुई बारिश के बाद वाराणसी में सड़कें बनी तलैया।
झमाझम हुई बारिश के बाद वाराणसी में सड़कें बनी तलैया।

जर्जर मकान का एक हिस्सा गरा, दीवार भहराई

बारिश के चलते जर्जर मकान भी खतरे का सबब बन गए हैं। भेलूपुर थाना अंतगर्त बागहाड़ा स्थित जर्जर मकान का एक हिस्सा गिर गया। इसके चलते आसपास मौजूद लोगों में भगदड़ मच गई। मकान की जर्जर हालत को लेकर उसके आसपास रहने वाले घबराए हुए हैं कि न जाने कब वह भहरा कर गिर जाए। मकान के आसपास रहने वाले अपने रहने के लिए सुरक्षित विकल्प खोजने के साथ ही नगर निगम से ध्यान देने की गुहार लगाए हैं। उधर, दशाश्वमेध थाना अंतर्गत त्रिपुर भैरवी और डेढ़मल गली की सीमा पर स्थित खंडहर की दीवार भहरा कर गिर गई। बारिश के कारण लोगों की आवाजाही नहीं थी, अन्यथा किसी बड़े नुकसान की आशंका से इंकार नहीं किया जा सकता था। वहीं, मिर्जामुराद क्षेत्र के मेहदीगंज गांव निवासी रामाधार पटेल का कच्चा मकान भहराकर गिर गया। हादसे में रामाधार की गृहस्थी का सारा सामान मलबे में दब कर नष्ट हो गया।

वाराणसी की पॉश कॉलोनियों में भी लोग जूझे जलभराव की समस्या से।
वाराणसी की पॉश कॉलोनियों में भी लोग जूझे जलभराव की समस्या से।

ईंट निर्माता परिषद के जिलाध्यक्ष बोले, हमारा तो भट्‌ठा बैठ गया

अचानक हुई बारिश से ईंट उद्योग को भारी नुकसान हुआ है। ईंट निर्माता परिषद के अध्यक्ष कमलाकांत पांडेय ने कहा कि हम लोग 30 जून को मानसून की तिथि मानकर अपना काम करते हैं। इस बार 15 दिन पहले ही हुई झमाझम बारिश ने हमें बहुत नुकसान पहुंचाया है। प्रदेश सरकार से मांग है कि ईंट बनाने के काम करने वाले लोगों को टैक्स में छूट देने के साथ ही उनकी मदद भी करे। कारण कि इससे पहले कोरोना की पहली और दूसरी लहर में भी हमें भारी नुकसान हुआ है।

फिलहाल 20 जून तक बारिश होती रहेगी, खेती के लिए अच्छा

मौसम वैज्ञानिक एसएन पांडेय ने बताया कि 20 जून तक वाराणसी सहित पूर्वांचल के अन्य जिलों में कम-ज्यादा बारिश होती रहेगी। इसके बाद भी इस मानसून में अच्छी बारिश के आसार हैं। यह बारिश धान की नर्सरी के लिए बेहद ही लाभदायक है। किसान आज खुश होंगे। इस बारिश से उन्हें नर्सरी के साथ ही अपने खेत को भी अच्छे से तैयार करने का अवसर मिल जाएगा। इसके साथ ही उमस भरी गर्मी से भी आमजन को राहत मिली है।

खबरें और भी हैं...