पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जौनपुर जेल में भ्रष्टाचार:जेल में सौ रुपए किलो बिकता है प्याज, आलू डेढ़ सौ रुपए किलो, आवाज उठाओ तो होती है पिटाई; जेल पर कब्जे के दो दिन बाद सामने आया कैदियों का वीडियो

जौनपुर7 दिन पहले
यह वीडियो जेल के पीछे बने घर से बनाया गया है। कैदी 10 नंबर बैरक में बंद है और अपना नाम आनंद बताया है।

अभी जौनपुर जेल में कैदियों ने हंगामा किया था। अब जेल के भ्रष्टाचार को उजागर करता हुआ कैदियों का वीडियो सामने आया है। जिसमे कैदी आरोप लगा रहे हैं कि जेल प्रशासन अंदर कैंटीन चला रहा है। जिसमे सौ रूपए किलो प्याज और डेढ़ सौ रूपए किलो आलू मिलता है। यही नहीं कोई आवाज उठाता है तो उसकी पिटाई भी होती है। फ़िलहाल पुलिस अधिकारीयों का कहना है कि जेल में हंगामे के बाद कमेटी बना दी गयी है।

हंगामे वाले दिन बनाया गया था वीडियो

उत्तर प्रदेश के जौनपुर जेल से एक कैदी का वीडियो सामने आया हैं। जिसमे कैदी जेल में मनमाने ढंग से चल रही कैंटीन का खुलासा करता नज़र आ रहा हैं। यह वीडियो जेल के पीछे बने घर से बनाया गया है। कैदी 10 नंबर बैरक में बंद है और अपना नाम आनंद बताया है। कैदी का कहना है कि जेल में खाने की व्यवस्था सही नहीं है। जेल प्रशासन अपनी मनमानी कर रहा है। जेल में सौ रुपए किलो प्याज तो डेढ़ सौ रुपए किलो आलू तो वहीं कद्दू 130 रुपए किलो मिलता हैं। सिर्फ इतना ही नहीं कैदी ने ये भी आरोप लगाया कि जेल प्रशासन 20 किलो दाल में पूरे बंदियों को खाना खिलाया जाता हैं। दाल की हालत पानी से भी बद्दतर होती हैं।कैदी जेल प्रशासन पर आरोप लगा रहा हैं कि अगर कोई प्रशासन से खाने की शिकायत करता हैं तो प्रशासन के लोग उसके साथ मारपीट करते हैं और इसी के चलते जेल के अंदर चल रही कैंटीन में मनमाने ढ़ंग से वसूली होती हैं।

बिना इलाज हो रही है कैदियों की मौत

कैदी आनंद ने बताया कि जब हम मनमानी व्यवस्था पर सवाल उठाते है तो पिटाई होती है। यही नहीं कैदी ने कहा कि बिना इलाज जेल के अंदर मौत होती है लेकिन जेल प्रशासन इलाज के बहाने बाहर ले जाता है और बता देता है रास्ते में मौत हुई है। हमारी यहां कोई सुनवाई नहीं हो रही है।

6 घंटे तक कैदियों के कब्जे में था जौनपुर जेल

बीते शुक्रवार को जौनपुर जेल में एक कैदी की मौत के बाद दूसरे कैदियों ने बवाल कर दिया था। उन्होंने पथराव और तोड़फोड़ के बाद जेल के अस्पताल में आग लगा दी थी। इसके बाद जौनपुर जेल पर करीब 6 घंटे कैदियों का कब्जा रहा। हालांकि पुलिस ने बातचीत करके कैदियों को मना लिया। फिर भी, इसके लिए पुलिस को करीब छह घंटे मान-मनौव्वल करनी पड़ी। कैदियों से बातचीत के बाद वाराणसी रेंज के आईजी एसके भगत ने कहा था कि पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

शुरू हुई जेल कांड की जांच

सीआरओ जौनपुर राज कुमार द्विवेदी का कहना है कि जिलाधिकारी ने एक कमेटी बनाई है। जोकि जेल कांड की जांच कर रही है। उसे तीन दिन में अपनी रिपोर्ट सबमिट करनी है। जेल प्रशासन ने भी अपनी तरफ से अज्ञात लोगों के खिलाफ एक तहरीर दी है।

खबरें और भी हैं...