2.11 करोड़ रुपए की संपत्ति जब्त:वाराणसी की फ्रॉड कंपनी नीलगिरी इंफ्रासिटी के मैनेजर के खिलाफ हुई कार्रवाई

वाराणसी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नीलगिरी इंफ्रासिटी के मैनेजर प्रदीप यादव की जमीन जब्त करने के बाद कार्रवाई का बोर्ड लगवाती पुलिस। - Dainik Bhaskar
नीलगिरी इंफ्रासिटी के मैनेजर प्रदीप यादव की जमीन जब्त करने के बाद कार्रवाई का बोर्ड लगवाती पुलिस।

पूर्वांचल और अन्य प्रदेश के कई लोगों के साथ अरबों रुपए की धोखाधड़ी करने के आरोपी नीलगिरी इंफ्रासिटी कंपनी के मैनेजर प्रदीप यादव की दरेखू स्थित 2,11,37,980 रुपए के तीन प्लॉट पुलिस ने बुधवार को जब्त किए। यह कार्रवाई गैंगस्टर एक्ट के तहत की गई है। प्रदीप नीलगिरी इंफ्रासिटी कंपनी के मालिक विकास सिंह और उसकी पत्नी ऋतु सिंह के साथ वाराणसी की जिला जेल में बंद है।

नीलगिरी इंफ्रॉसिटी के मैनेजर प्रदीप यादव की जमीन जब्त करने के संबंध में लाउडहेलर से जानकारी देती पुलिस।
नीलगिरी इंफ्रॉसिटी के मैनेजर प्रदीप यादव की जमीन जब्त करने के संबंध में लाउडहेलर से जानकारी देती पुलिस।

87 मुकदमे दर्ज हैं संचालकों पर

पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने बताया कि नीलगिरी इंफ्रासिटी कंपनी के संचालक जमीन में निवेश करा कर बेहतर मुनाफे का झांसा देते थे। इसी तरह से टूर स्कीम और गोल्ड में निवेश करने के नाम पर 15 महीने में रुपए दोगुने करने का झांसा देते थे। इस तरह से कंपनी के संचालकों ने अरबों रुपए की धोखाधड़ी आमजन के साथ की। 30 अगस्त 2021 को विकास सिंह, ऋतु सिंह और प्रदीप यादव को गिरफ्तार किया गया था। तभी से तीनों जिला जेल में बंद हैं।

बीती 13 मई को विकास सिंह और ऋतु सिंह की 13 करोड़ 60 लाख रुपए मूल्य की चल-अचल संपत्ति जब्त की गई थी। आज विकास और ऋतु के मैनेजर प्रदीप यादव की 2.11 करोड़ रुपए की संपत्ति चेतगंज इंस्पेक्टर राजेश कुमार सिंह और सिगरा इंस्पेक्टर धनंजय पांडेय द्वारा जब्त की गई है। पुलिस कमिश्नर ने बताया कि इस फ्रॉड कंपनी के संचालकों के खिलाफ 87 मुकदमे दर्ज हैं।

विकास और ऋतु के गिरोह के अन्य सदस्यों द्वारा भी अपराध से अर्जित संपत्ति को एक-एक कर जब्त किया जाएगा। इसके साथ ही अदालत में प्रभावी तरीके से पैरवी कर आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दिलाई जाएगी।

खबरें और भी हैं...