बाबा का दमकता दरबार देखें 9 फोटो में:विश्वनाथ धाम में अंबर से नीलांबर थीम पर हो रही लाइटिंग, देखकर खूब खुश हैं श्रद्धालु

वाराणसी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम आगामी 13 दिसंबर को लोकार्पण के लिए तैयार है। लगभग 54 हजार वर्ग फीट जमीन में बने बाबा के धाम की आभा अंबर से नीलांबर थीम पर लगाई गई रंगबिरंबी लाइट्स की रोशनी में देखते ही बन रही है। विश्वनाथ धाम के लोकार्पण पर काशी में एक महीने तक उत्सव का माहौल रहेगा। इस कड़ी में देश के अलग-अलग राज्यों के मुख्यमंत्रियों और महापौरों की बैठक, प्रदेश कैबिनेट की बैठक और विविध कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

रंग-बिरंगी लाइट में देखें बाबा के धाम की तस्वीरें...।

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम में फसाड लाइट लगाई गई है। यह रात में इसकी भव्यता में चार चांद लगा दे रही है। अफसरों का कहना है कि गंगा की ओर आसमान के रंग की लाइट जलेगी तो विश्वनाथ मंदिर की ओर बढ़ने पर उनका रंग नीला होता चला जाएगा।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम में फसाड लाइट लगाई गई है। यह रात में इसकी भव्यता में चार चांद लगा दे रही है। अफसरों का कहना है कि गंगा की ओर आसमान के रंग की लाइट जलेगी तो विश्वनाथ मंदिर की ओर बढ़ने पर उनका रंग नीला होता चला जाएगा।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के विशालकाय द्वार चुनार के बलुआ पत्थरों से बने हैं। श्रद्धालु इन दिनों बाबा विश्वनाथ धाम में आते हैं तो इन विशालकाय द्वारों को देखते ही रह जाते हैं।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के विशालकाय द्वार चुनार के बलुआ पत्थरों से बने हैं। श्रद्धालु इन दिनों बाबा विश्वनाथ धाम में आते हैं तो इन विशालकाय द्वारों को देखते ही रह जाते हैं।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण 13 दिसंबर को होगा। रंग-बिरंगी लाइट में जगमगाते हुए विश्वनाथ धाम की भव्यता इन दिनों देखते ही बन रही है।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण 13 दिसंबर को होगा। रंग-बिरंगी लाइट में जगमगाते हुए विश्वनाथ धाम की भव्यता इन दिनों देखते ही बन रही है।
श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर में पहले इतना पर्याप्त स्थान नहीं था कि लोग सुकून के साथ बैठ सकेें। अब इतनी जगह है कि बाबा के दर्शन-पूजन के बाद हजारों लोगों का हुजूम आसानी से यहां बैठकर कुछ पल सुकून के साथ गुजार सकता है।
श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर में पहले इतना पर्याप्त स्थान नहीं था कि लोग सुकून के साथ बैठ सकेें। अब इतनी जगह है कि बाबा के दर्शन-पूजन के बाद हजारों लोगों का हुजूम आसानी से यहां बैठकर कुछ पल सुकून के साथ गुजार सकता है।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के दिन काशीवासियों से घरों में दीये जलाने और झालरों से सजावट करने की अपील प्रदेश सरकार और जिला प्रशासन की ओर से की गई है।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के दिन काशीवासियों से घरों में दीये जलाने और झालरों से सजावट करने की अपील प्रदेश सरकार और जिला प्रशासन की ओर से की गई है।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम में 27 मंदिरों की एक खास मणिमाला भी तैयार की गई है। ये वे मंदिर हैं जिनमें कुछ काशी विश्वनाथ के साथ ही स्थापित किए गए थे। बाकी समय-समय पर काशीपुराधिपति के विग्रहों के रूप में यहां बसाए गए थे।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम में 27 मंदिरों की एक खास मणिमाला भी तैयार की गई है। ये वे मंदिर हैं जिनमें कुछ काशी विश्वनाथ के साथ ही स्थापित किए गए थे। बाकी समय-समय पर काशीपुराधिपति के विग्रहों के रूप में यहां बसाए गए थे।
13 दिसंबर को पीएम मोदी पहले चरण की परियोजना का लोकार्पण करेंगे। इसमें मंदिर परिसर के साथ ही मुमुक्षु भवन, यात्री सुविधा केंद्र, वैदिक केंद्र, गंगा व्यू गैलरी, भोगशाला, फूड कोर्ट सेंटर, सुरक्षा केंद्र और मंदिर चौक सहित 19 भवन यात्री सुविधाओं के लिए तैयार किए गए हैं।
13 दिसंबर को पीएम मोदी पहले चरण की परियोजना का लोकार्पण करेंगे। इसमें मंदिर परिसर के साथ ही मुमुक्षु भवन, यात्री सुविधा केंद्र, वैदिक केंद्र, गंगा व्यू गैलरी, भोगशाला, फूड कोर्ट सेंटर, सुरक्षा केंद्र और मंदिर चौक सहित 19 भवन यात्री सुविधाओं के लिए तैयार किए गए हैं।
काशी में 1 दिसंबर से ही विभिन्न सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इसमें प्रमुख मंदिरों में भजन-कीर्तन के साथ ही स्कूलों में रंगोली, पेंटिंग, डिबेट और क्विज प्रतियोगिताएं भी कराई जा रही हैं।
काशी में 1 दिसंबर से ही विभिन्न सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। इसमें प्रमुख मंदिरों में भजन-कीर्तन के साथ ही स्कूलों में रंगोली, पेंटिंग, डिबेट और क्विज प्रतियोगिताएं भी कराई जा रही हैं।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के साथ ही 13 दिसंबर से चलो काशी माह की शुरुआत होगी। श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण देश और दुनिया के शिव भक्त लाइव देख सकें, ऐसी व्यवस्था की जाएगी।
श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के लोकार्पण के साथ ही 13 दिसंबर से चलो काशी माह की शुरुआत होगी। श्रीकाशी विश्वनाथ धाम का लोकार्पण देश और दुनिया के शिव भक्त लाइव देख सकें, ऐसी व्यवस्था की जाएगी।