BJP जो छोड़कर गए उनका जनाधार घट गया था:वाराणसी में अनिल राजभर बोले- आचार संहिता लगने के बाद दूसरे दल में क्यों गए, पहले भी तो जा सकते थे

वाराणसी6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
अनिल राजभर, कैबिनेट मंत्री, उत्तर प्रदेश। - Dainik Bhaskar
अनिल राजभर, कैबिनेट मंत्री, उत्तर प्रदेश।

उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री अनिल राजभर ने शुक्रवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) छोड़ कर जाने वाले नेताओं पर वाराणसी में जमकर निशाना साधा। पत्रकारों से कहा कि जो नेता हाल में भाजपा छोड़ कर गए हैं, उनका खुद का जनाधार घट गया था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गरीब कल्याण के कामों के नाते बीजेपी का जनाधार लगातार बढ़ रहा है। क्षेत्र में लगातार अनुपस्थिति के कारण उन नेताओं के प्रति नाराजगी भी थी और हमारी पार्टी भी उनको लेकर रणनीति बना चुकी थी। यह बात उन नेताओं को भी पता थी। इसी वजह से वह भाजपा छोड़ कर अन्यत्र चले गए।

आचार संहिता लगने के बाद ऐसा क्यों किया

अनिल राजभर ने कहा कि किसी वर्ग विशेष का नाम लेकर पार्टी छोड़ना एक बहाना था। ऐसा उन्होंने विधानसभा चुनाव की आदर्श आचार संहिता लगने के बाद ही क्यों किया...? पहले भी तो ऐसा कर सकते थे। पार्टी और जनता दोनो के सर्वे में यह बात सामने आई है कि ये सभी नेता अपने अपने क्षेत्रों में चुनाव जीत नहीं पाते। वर्ग विशेष की बात तो औचित्यहीन है। इनके जाने का भारतीय जनता पार्टी पर कोई प्रभाव नही पड़ेगा। इन नेताओं के क्षेत्रों में भाजपा पहले से अधिक वोटों से जीत दर्ज करेगी।

जनता 300 से ज्यादा सीट देने का मन बना ली है

अनिल राजभर ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मिलकर सरकारी योजनाओं का जो लाभ दिया है उससे जनता बहुत संतुष्ट है। विवाह अनुदान, पीएम आवास, मुफ्त राशन, बिजली की उपलब्धता, आयुष्मान भारत का स्वास्थ्य रक्षा कवच, किसान सम्मान निधि, असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को आर्थिक सहायता, पीएम स्वनिधि योजना, उज्ज्वला गैस कनेक्शन, शौचालय और तमाम जनकल्याण योजनाओं ने जनता में ऐसी पैठ बना ली है कि सबको मालूम है कि अन्य सरकार यह सब नहीं दे सकती है। इसलिए उत्तर प्रदेश की जनता बीजेपी को 300 से ज्यादा सीटें देने का आशीर्वाद देने का मन बना चुकी है।

खबरें और भी हैं...