राम क्षत्रिय नहीं, ब्राह्मणों के सेवक थे:वाराणसी में बाहुबली विधायक विजय मिश्र बोले; राम को मानने वालों को नहीं पता उनकी जाति

वाराणसी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वाराणसी कोर्ट में पेशी के लिए पहुंचे भदोही के बाहुबली विधायक विजय मिश्रा ने योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा, 'मौजूदा सरकार ब्राह्मणों की विरोधी है। भगवान राम को मानने वालों को ही नहीं पता कि वह किस जाति के थे। भगवान राम क्षत्रिय नहीं, बल्कि विष्णु के स्वरूप हैं। सुर-असुर की लड़ाई में रावण ने जब जाना कि दशरथ के पुत्र उनको मारेंगे, तो उसने राजा दशरथ को नपुंसक बना दिया था। राम किसी पार्टी के एजेंट नहीं हैं।

भगवान राम ने भी कहा है कि इंद्र, वज्र या त्रिशूल न मार सके वह भी ब्राह्मण के श्राप से जल जाता है। भगवान राम उनके साथ हैं, जो ब्राह्मणों के साथ हैं। भगवान विष्णु ने यह बात कही है। जो ब्राह्मणों की सेवा करता है, मैं उनके साथ हूं।

विधायक विजय मिश्रा पर वाराणसी के जैतपुरा थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया था। उन पर रेप पीड़िता को मुकदमे वापस लेने, धमकाने और घर में घुसकर मारपीट करने का आरोप है। उन्हें सिविल जज जूनियर डिवीजन द्वितीय निधि पांडेय की अदालत में पेश किया गया। वे इस समय आगरा जेल में बंद हैं।

पेशी के लिए वाराणसी पहुंचे विजय मिश्र ने कहा कि वर्तमान सरकार ब्राह्मण विरोधी है।
पेशी के लिए वाराणसी पहुंचे विजय मिश्र ने कहा कि वर्तमान सरकार ब्राह्मण विरोधी है।

अपने ऊपर लगे आरोपों को किया खारिज
विजय मिश्रा ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि उन्हें और उनके परिवार को सरकार फर्जी मुकदमे में फंसा रही है। न कोई घटना है न दिन है। न कोई कानून है न कोई गवाह है। फिर भी फंसाया जा रहा है। सरकार हमें इतना परेशान न करे। मेरे ऊपर 12 केस लगाए गए हैं। ये सभी गलत हैं।

सरकार चाहती है कि मेरा बेटा आतंकी हो जाए
विजय मिश्र ने कहा कि सरकार चाहती है कि मेरा बेटा आतंकी हो जाए। जो भी मेरा धन है, वह सरकार ले ले। जो भी बैंक का बकाया है, मैं भिक्षा मांग कर दे दूंगा।

इस दौरान उनके वकील ने भी कहा कि विधायक के खिलाफ जो मुकदमा दायर किया गया है, उसका कोई आधार नहीं है। इस तरह के आरोप लगाने वाली वह अभ्यस्त महिला है। मुंबई क्राइम ब्रांच की टीम उसकी तलाश कर रही है। क्योंकि बहुत से लोगों को उसने फर्जी रेप के मुकदमे में उलझाया है।

खबरें और भी हैं...