पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

नम आंखों से दी आखिरी विदाई:मिर्जापुर के जवान की हार्ट अटैक से मौत; पत्नी से आखिरी बार फोन पर कहा था- आज 2 मिनट प्यार से बात करो, मगर टूट गया था कनेक्शन

मिर्जापुर10 महीने पहले
यह फोटो मिर्जापुर की है। यहां के रहने वाले BSF जवान विनोद को नम आंखों से विदाई दी गई।
  • छानबे ब्लॉक के रैपुरी गांव के रहने वाले थे विनोद कुमार सिंह
  • पश्चिम बंगाल-मेघालय बॉर्डर पर थी तैनाती, 29 नवंबर को हुआ था निधन

उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले के रहने वाले एक BSF जवान की देश की रक्षा करते हुए मौत हो गई। मौत कारण हार्ट अटैक बताया जा रहा है। वे वर्तमान में पश्चिम बंगाल-मेघालय बॉर्डर पर तैनात थे। मंगलवार को जवान का पार्थिव शरीर पैतृक गांव लाया गया। जहां राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। दिवंगत जवान ने एक साल पहले ही परिवार की मर्जी के खिलाफ कोर्ट मैरिज की थी। पत्नी प्रयागराज के नैनी में किराए के मकान में रहती है।

पत्नी ने कहा- 28 नवंबर की रात सिर्फ दो मिनट के लिए आखिरी बार बात हुई थी। काफी नर्वस लग रहे थे। बोला था कि आज दो मिनट प्यार से बात कर लो। लेकिन अचानक फोन कट गया। उसके बाद कई बार फोन मिलाया, लेकिन कनेक्ट नहीं हुआ। अगली सुबह मौत की खबर मिली। पति के आकस्मिक मौत से पत्नी के जीने का सहारा खत्म हो गया है। पत्नी ने सरकार से आवास और अपने लिए सर्विस की मांग की है। जवान के माता-पिता का भी रो-रोकर बुरा हाल है।

परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल।
परिवार वालों का रो-रोकर बुरा हाल।

8 साल पहले मिली थी नौकरी, एक साल पहले की थी शादी

छानबे ब्लॉक में रैपुरी गांव निवासी राम शंकर के तीन बेटों में विनोद कुमार सिंह सबसे छोटा था। करीब 8 साल पहले विनोद को BSF में नौकरी मिली थी। वर्तमान में वह पश्चिम बंगाल-मेघालय बॉर्डर पर रायगंज में BSF की 23वीं बटालियन में तैनाती थी। साल 2019 में ही विनोद ने गांव की अनीता से शादी की थी।

पहले गोली लगने की खबर आई

पत्नी अनीता ने कहा कि, 28 नवंबर की रात करीब आठ बजे विनोद ने फोन किया था। इसके बाद उन्हें गोली लगने की खबर आई। लेकिन बाद में हार्ट अटैक से मौत होना बताया गया।

पिता ने कहा- मां की आंख का ऑपरेशन हो गया मगर बेटा चला गया

पिता राम शंकर बात करते हुए भावुक हो उठे। बिलखते हुए कहा कि अभी 27 नवंबर को ही विनोद से बात हुई थी। उसी दिन मैंने विनोद की मां के आंख का ऑपरेशन कराया था। विनोद ऑपरेशन के बारे में पूछ रहे थे। मां की आंख का तो ऑपरेशन हो गया, लेकिन बेटा चला गया।

सैनिकों ने दी सलामी।
सैनिकों ने दी सलामी।

डीएम ने हर संभव मदद का दिया भरोसा

मंगलवार को जवान विनोद का पार्थिव शरीर पैतृक गांव लाया गया। जहां घर के बाहर अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। फिर उसे सलामी देकर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान नगर विधायक, जिलाधिकारी और एसपी के अलावा परिवार के लोगों ने श्रद्धांजलि अर्पित की। जिलाधिकारी सुशील पटेल ने बताया कि ड्यूटी के दौरान हार्ट अटैक होने से विनोद सिंह की मौत हुई है। सरकार के नियमानुसार हर संभव मदद दी जाएगी और शहीद का दर्जा दिलाने की भी कोशिश होगी।

खबरें और भी हैं...