दुष्कर्म का आरोपी इंस्पेक्टर बर्खास्त:केस दर्ज हुआ तो आत्मदाह की धमकी दी थी, हेड कांस्टेबल पत्नी ने DGP को बताया था जालसाज है अमित

वाराणसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वाराणसी क्राइम ब्रांच में तैनात रहे दुष्कर्म के आरोपी इंस्पेक्टर अमित कुमार को बर्खास्त कर दिया गया है। जनवरी 2020 में एक युवती ने इंस्पेक्टर के खिलाफ रेप का केस दर्ज कराया था। इसके बाद इंस्पेक्टर की हेड कांस्टेबल पत्नी ने भी शिकायत की थी कि उसका पति जालसाजी कर प्रमोशन पाया है। जांच के बाद अमित का डिमोशन कर उसे पुन: सब इंस्पेक्टर बना दिया गया। अब विभागीय जांच रिपोर्ट के आधार पर वाराणसी कमिश्नरेट के अपर पुलिस आयुक्त (मुख्यालय एवं अपराध) सुभाष चंद्र दुबे ने उसे बर्खास्त कर दिया है।

2020 में महिला थाने में दर्ज हुआ था मुकदमा
मेरठ के पल्लवपुरम का अमित कुमार 2020 में वाराणसी में क्राइम ब्रांच में इंस्पेक्टर के पद पर तैनात था। मथुरा के कोसीकला थाना क्षेत्र की एक युवती ने 8 जनवरी 2020 को वाराणसी के महिला थाने में अमित के खिलाफ तहरीर दी। इसके बाद अमित पर शादी का झांसा देकर रेप करने सहित अन्य आरोपों में मुकदमा दर्ज हुआ था। फिर पीड़िता ने तत्कालीन एसएसपी से शिकायत की थी कि अमित उस पर समझौता करने का दबाव बनाता है और बात न मानने पर उसकी हत्या व गैंगरेप की धमकी देता है।

इसे लेकर तत्कालीन एसएसपी के आदेश पर कैंट थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था। इससे नाराज होकर अमित कुमार एसएसपी कैंप कार्यालय में खुद पर पेट्रोल डाल कर आत्मदाह की धमकी दी थी। इसके बाद तत्कालीन आईजी रेंज के आदेश से अमित का तबादला जौनपुर कर दिया गया था। साथ ही इस पूरे प्रकरण की विभागीय जांच कराई गई थी। वाराणसी के पुलिस अफसरों द्वारा की गई जांच में अमित कुमार दोषी पाया गया और उसे बर्खास्त करने का निर्णय लिया गया।

पत्नी ने DGP को बताई थी असलियत
अमित की पत्नी मीनाक्षी पुलिस विभाग में हेड कांस्टेबल है और उसकी प्रताड़ना से आजिज आकर उससे अलग रहती हैं। मेरठ के सिविल लाइन थाना के मानसरोवर क्षेत्र में रहने वाली मीनाक्षी ने DGP को बताया था कि अमित जालसाजी करके सब इंस्पेक्टर से इंस्पेक्टर पद पर प्रमोट हुआ है। अपने घोषणा पत्र में उसने अपने खिलाफ दर्ज आपराधिक मुकदमों और जांचों को छुपाया है। मीनाक्षी की शिकायत की जांच कराई गई तो आरोप सही निकले। इसके बाद इंस्पेक्टर पद से अमित का डिमोशन कर उसे वापस सब इंस्पेक्टर बना दिया गया।

सुभाष चंद्र दुबे, अपर पुलिस आयुक्त (मुख्यालय एवं अपराध), वाराणसी।
सुभाष चंद्र दुबे, अपर पुलिस आयुक्त (मुख्यालय एवं अपराध), वाराणसी।

रक्षक होकर भक्षक का काम किया
अपर पुलिस आयुक्त (मुख्यालय एवं अपराध) सुभाष चंद्र दुबे ने अपने आदेश में कहा है कि अमित कुमार ने अपने कृत्यों से पुलिस बल की छवि धूमिल की है। रक्षक होते हुए उसने भक्षक का काम किया है। ऐसे दरोगा को पुलिस बल में रहने देने से उसका कुप्रभाव अन्य पुलिसकर्मियों पर भी पड़ेगा। इसके साथ ही समाज में भी एक गलत संदेश जाएगा और पुलिस बल से आमजन का भरोसा उठेगा। इसलिए मैं दरोगा अमित कुमार का नियुक्ति प्राधिकारी होने के नाते पुलिस विभाग की सेवा से उसकी पदच्युति (Dismiss) का आदेश देता हूं।

पत्नी ने खोली पोल, इंस्पेक्टर का डिमोशन: प्रमोशन पाने के लिए दरोगा ने दुष्कर्म, धोखाधड़ी जैसे संगीन 14 मामले छिपाए, पत्नी ने DGP के सामने रखा RTI का सच

खबरें और भी हैं...