CM का किसान महापंचायत पर निशाना:वाराणसी में बोले- किसान खुश, दलाली करने वाले परेशान; विपक्ष पर तंज- मुस्लिम वोट भी चाहिए लेकिन अब्बा जान से परेशानी

वाराणसीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एक निजी कार्यक्रम में आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लोगों को संबोधित करते हुए। - Dainik Bhaskar
एक निजी कार्यक्रम में आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लोगों को संबोधित करते हुए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को वाराणसी का दौरा किया। इस दौरान सीएम एक मीडिया संस्थान द्वारा आयोजित पूर्वांचल सम्मान समारोह में भी पहुंचे। यहां उन्होंने किसान महापंचायत पर कई सवाल खड़े किए। मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि किसान खुश हैं लेकिन किसानों के नाम पर दलाली करने वाले परेशान हैं।

यहां सीएम ने अब्बा जान वाला मुद्दा एक बार फिर उठाया। विपक्ष पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि 5 अगस्त 2020 को प्रधानमंत्री ने राम मंदिर का शिलान्यास किया था। तब भी कुछ लोग उसके खिलाफ थे। उनको मुस्लिम वोट तो चाहिए लेकिन अब्बा जान से परेशानी उन्हें परेशानी है। जनता को इनकी ऐसे लोगों की असलियत का पता चल चुका है।

होटल ताज में मुख्यमंत्री के भाषण को सुनते मंत्रीगण और शहर के गणमान्य लोग।
होटल ताज में मुख्यमंत्री के भाषण को सुनते मंत्रीगण और शहर के गणमान्य लोग।

राम-कृष्ण को नकारने वाले अब कहते हैं कि वह हमारे हैं

मुख्यमंत्री ने कहा कि जो लोग अब तक श्रारीम- श्रीकृष्ण को नकारते चले आ रहे थे, वही अब उन्हें अपना बताते हैं। विश्वनाथ धाम को लेकर उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने वहां जो गंदगी देखी थी, उसे दूर करने का प्रयास हो रहा है। काशी की आत्मा को बरकरार रखते हुए उसे नया कलेवर दिया जा रहा है। काशी ही नहीं अयोध्या, मथुरा, वृंदावन, विंध्य जैसे धार्मिक स्थलों को विकसित किया जा रहा है। यूपी सकारात्मक रूप से आगे बढ़ रहा है।

धरती पुत्र आए और बेदखल हो गए

CM योगी ने बिना नाम लिए सपा पर निशाना साधते हुए कहा कि यूपी में धरती पुत्र आए और बेदखल हो गए। किसानों के लिए कुछ नहीं किया। बाणसागर परियोजना मोरारजी के समय से लटकी थी। आज पूरी होने जा रही है। हजारों किसानों का इसका लाभ होगा। राकेश टिकैत के आरोपों पर कहा कि गन्ना किसानों का सबसे ज्यादा बकाया हम लोगों ने दिया। रमाला चीनी मिल बंद होने के कगार पर थी, हमारी सरकार ने नई लगवाई। सपा-बसपा ने बंद चीनी मिलों को बेच दिया था।

हमारी सरकार ने बंद चीनी मिलें चलाई

हम लोगों ने बंद चीनी मिलों को चलाने का काम किया है। चीनी मिलें केवल गन्ना पेरने तक सीमित न रहें, उसका भी प्रयास किया। चीनी मिलों को एथनाल प्लांट लगाने की अनुमति दी। 2021-2022 तक की 84 फीसदी तक के गन्ना मूल्य का भुगतान कर दिया गया है। नया सीजन आने तक भी उनका मूल्य मिल जाएगा।

2017 के बाद UP में किसानों ने आत्महत्या नहीं की

CM योगी ने कहा कि साल 2017 के बाद से यूपी में किसान आत्महत्या नहीं कर रहे हैं। हमने पिछली सरकारों के कार्यकाल के दौरान किसानों द्वारा की गई आत्महत्याओं का कारण पता किया, तो मालूम हुआ कि उन्हें फसल की लागत नहीं मिल रही है। क्रय केंद्र नहीं चल रहे थे। हमारी सबसे पहले सरकार ने किसानों के कर्ज माफी का काम किया। पहली बार किसानों से सीधे क्रय करने और उनका दाम सीधे उनके एकाउंट में देने का काम किया गया।

इतना समय नहीं कि उन लोगों के भाषण सुन सकूं

मुजफ्फनगर महापंचायत पर CM योगी ने कहा कि इतना समय नहीं है कि उन लोगों के भाषण सुन सकूं, क्योंकि बाढ़ क्षेत्रों का निरीक्षण कर रहा था। उन्होंने कहा कि किसानों के लिए उत्तर प्रदेश में जितने काम हुए, आजादी के बाद पहली बार हुए हैं। कृषि सिंचाई योजना हो या प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि या फिर किसानी के क्षेत्र में नवाचार। जिन्हें यह पसंद नहीं, वो लोग किसानों को मोहरा बनाकर गुमराह कर रहे हैं।

पूर्वांचल विकास गाथाओं से गौरवान्वित हो रहा है

मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्वांचल अब विकास गाथाओं से गौरवान्वित हो रहा है। 2018 में प्रदेश की परंपरागत उद्यम को बढ़ाने के लिए अपने टीम को निर्देशित किया था। लेकिन, उस माहौल में लोगों ने कहा था कि यहां पर कुछ भी नहीं हो सकता। सरकार की नीयत स्पष्ट है और उत्तर प्रदेश के 57 जिलों के यूनिक प्रोडक्ट को चिन्हित किया गया।

उत्तर प्रदेश आज देश की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश देश की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था है। प्रदेश में निवेश की बेहतर सुविधा उपलब्ध कराया गया है। 3 एक्सप्रेस-वे पर काम चल रहा है। मेरठ से प्रयागराज तक बनने वाली गंगा एक्सप्रेस-वे को वाराणसी तक लाने का प्रयास हो रहा है। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे सितंबर या अक्टूबर में प्रधानमंत्री लोगों को समर्पित करेंगे। बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का 15 सितंबर तक लोकार्पण होगा।

खबरें और भी हैं...