वाराणसी...2.28 करोड़ का सोना जब्त:DRI ने राजधानी एक्सप्रेस से दिल्ली जा रहे डिलीवरी ब्वॉय को पकड़ा; म्यांमार से की गई थी तस्करी

वाराणसी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

वाराणसी के कैंट रेलवे स्टेशन से गुरुवार को 4.641 किलो सोने के बिस्किट के साथ एक तस्कर को गिरफ्तार किया गया। वह इन्हें म्यांमार से तस्करी कर नई दिल्ली ले जा रहा था। सूचना मिलने पर राजस्व आसूचना निदेशालय (DRI) की टीम ने यह कार्रवाई की। आरोपी की शिनाख्त त्रिपुरा के अगरतला निवासी सुदीप सिंघा के तौर पर हुई है। बरामद सोने के बिस्किट की कीमत 2 करोड़ 28 लाख 35 हजार 836 रुपए बताई गई है।

राजधानी एक्सप्रेस से कर रहा था सफर

DRI की वाराणसी यूनिट के सीनियर इंटेलिजेंस ऑफिसर आनंद कुमार राय को सोने की तस्करी की सूचना मिली थी। उन्हें पता चला था कि असम के डिब्रूगढ़ से नई दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन से सोने के बिस्किट ले जाया जा रहा है। इस पर वह इंटेलिजेंस ऑफिसर लेख राज और टीम के अन्य सदस्यों को लेकर कैंट रेलवे स्टेशन पहुंचे। ट्रेन आने पर DRI ने उसकी बोगियों में तलाशी शुरू की।

बोगी B-1 में सवार सुदीप सिंघा की ओर मुखबिर ने इशारा किया तो उसकी तलाशी ली गई। जांच के दौरान पता लगा कि सुदीप ने अपनी कमरबंद के अंदर सोने के 28 बिस्किट छुपा रखे हैं। DRI की टीम सोना जब्त कर सुदीप को अपने साथ ले गई।

सोने की तस्करी के लिए कुख्यात है मोरेह

आनंद राय ने बताया कि बरामद सोना म्यांमार के मोरेह से लाया गया था। उन्होंने बताया कि म्यांमार की सीमा देश के उत्तर-पूर्व के 4 राज्यों से सटी है। मोरेह से तस्करी का सोना सबसे पहले इंफाल लाया जाता है। वहां से उसे असम के सिलचर या नागालैंड के दीमापुर ले जाया जाता है।

इसके बाद सड़क या रेल मार्ग से कोलकाता से नई दिल्ली या अन्य महानगरों को सोना भेजा जाता है। तस्करी का यह काम काफी सीक्रेट तरीके से होता है। डिलीवरी ब्वॉय को यह तक नहीं पता होता है कि लाखों-करोड़ों का सोना उसे किसने सौंपा है और वह किसे देगा।

DRI के अधिकारियों ने बताया कि फिलहाल सुदीप से मिली जानकारी की मदद से इस नेटवर्क में शामिल अन्य लोगों का पता लगाया जा रहा है। आरोपी के खिलाफ सीमा शुल्क अधिनियम, 1962 के तहत कार्रवाई की गई है। हमारी यह कार्रवाई कर चोरी करने वालों के लिए एक बड़ा झटका है। यह सिलसिला आगे भी जारी रहेगा।

खबरें और भी हैं...