वाराणसी में 5 तस्वीरों में देखें नवरात्रि का उल्लास:ब्रह्मचारिणी देवी के दर्शन को उमड़े श्रद्धालु, संतान की कामना होती है पूरी; मिलता है सुख और यश

वाराणसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंदिर में विराजमान मां ब्रह्मचारिणी देवी। - Dainik Bhaskar
मंदिर में विराजमान मां ब्रह्मचारिणी देवी।

आज नवरात्रि का दूसरा दिन है। नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी देवी की पूजा की मान्यता है। बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी में ब्रह्मचारिणी देवी का मंदिर गंगा किनारे बालाजी घाट पर है। तप के आचरण के कारण ही भगवती के इस रूप को ब्रह्मचारिणी कहा गया। इनके बाएं हाथ में कमंडल और दाएं हाथ में जप की माला रहती है। हिमालय के घर पैदा हुई और कठिन तपस्या कर भगवान शिव को पति के रूप में प्राप्त करने वाली मां ब्रह्मचारिणी के मंदिर में दर्शन-पूजन के लिए सुबह से ही देवी भक्तों की कतार लगी हुई है।

ब्रहमचारिणी देवी का दर्शन-पूजन करते श्रद्धालु।
ब्रहमचारिणी देवी का दर्शन-पूजन करते श्रद्धालु।

सुख-शांति और संतान की कामना होती है पूरी

ब्रह्मचारिणी देवी मंदिर के हमंत राजेश आचार्य ने बताया कि मां के दर्शन से जीवन में सुख-शांति, कीर्ति और उमंग के साथ ही संतान की कामना पूरी होती है। श्रद्धालु मां को नारियल, चुनरी और फूल-माला अर्पित करते हैं। पांडेयपुर से दर्शन करने आईं डॉ. अपर्णा सिंह ने कहा कि काशी ही एक ऐसी जगह है जहां देवी दुर्गा अपने अलग-अलग रूपों में विराजमान हैं। मां का दर्शन कर मन को असीम शांति मिली है। पिछले वर्ष कोरोना के कारण शारदीय नवरात्र में दर्शन-पूजन नहीं कर पाए था। मां से यही विनती की है कि मां सुख-शांति दो और कोरोना से देश-दुनिया को मुक्ति दिलाओ।

ब्रह्मचारिणी देवी के मंदिर में दर्शन-पूजन के लिए उमड़े श्रद्धालु।
ब्रह्मचारिणी देवी के मंदिर में दर्शन-पूजन के लिए उमड़े श्रद्धालु।

काशी के पंडालों में विराजने लगी मां दुर्गा

काशी में दुर्गोत्सव का इतिहास लगभग 271 साल पुराना है। नवरात्रि के समय काशी को मिनी बंगाल भी कहा जाने लगा। नवरात्रि के पहले दिन टाउनहाल, गाय घाट स्थित शारदा विद्या मंदिर, नवापुरा, दारानगर, सुड़िया, जागेश्वर महादेव बड़ा गणेश में देवी दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर पूजापाठ शुरू किया गया। आगामी दो से तीन दिन में सभी पंडालों में देवी दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर दी जाएगी।

ब्रह्मचारिणी देवी के दर्शन-पूजन के लिए भोर से ही भक्तों की आवाजाही लगी हुई है।
ब्रह्मचारिणी देवी के दर्शन-पूजन के लिए भोर से ही भक्तों की आवाजाही लगी हुई है।
सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर ब्रह्मचारिणी देवी मंदिर में तैनात पुलिसकर्मी।
सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर ब्रह्मचारिणी देवी मंदिर में तैनात पुलिसकर्मी।
खबरें और भी हैं...