• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • Devotees Gathered To See Goddess Chandraghanta In Varanasi, The Narrow Streets Of The Pucca Mahal Reverberated With The Chants Of Har Har Mahadev And Jai Mata Di

वाराणसी में 5 तस्वीरों में देखें नवरात्रि का उल्लास:देवी चंद्रघंटा के दर्शन को उमड़े श्रद्धालु, सोशल मीडिया पर ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था

वाराणसीएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
चौक क्षेत्र स्थित मंदिर में विराजमान देवी चंद्रघंटा। - Dainik Bhaskar
चौक क्षेत्र स्थित मंदिर में विराजमान देवी चंद्रघंटा।

आज नवरात्रि का तीसरा दिन है। नवरात्रि के तीसरे दिन देवी चंद्रघंटा के दर्शन-पूजन की मान्यता है। त्रिलोक से न्यारी काशी में शनिवार की भोर से ही पक्के महाल की संकरी गलियां हर-हर महादेव और जय माता दी के उद्घोष से गूंज रही हैं। कल्याण और सौभाग्य की प्रदाता देवी चंद्रघंटा का मंदिर चौक क्षेत्र में लक्खी चौतरा के पास गली में है।

देवी के मस्तक पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र सुशोभित होने के कारण उनका नाम चंद्रघंटा पड़ा। लिंग पुराण के मुताबिक देवी चंद्रघंटा ही संपूर्ण काशी क्षेत्र की रक्षक हैं। देवी चंद्रघंटा के दर्शन मात्र से ही भक्तों को सुख, शांति, यश और सद्गति प्राप्त होती है। संकरी गली में स्थित देवी चंद्रघंटा के मंदिर में देर रात तक श्रद्धालुओं के दर्शन-पूजन का सिलसिला जारी रहेगा।

देवी चंद्रघंटा की प्रतिमा और पुजारी वैभव योगेश्वर।
देवी चंद्रघंटा की प्रतिमा और पुजारी वैभव योगेश्वर।

डांडिया और गीत-संगीत का सिलसिला शुरू

नवरात्र के साथ ही विभिन्न सामाजिक संगठनों की ओर से शहर में डांडिया और गीत-संगीत का सिलसिला शुरू हो गया है। बीते साल कोरोना के कारण गीत-संगीत के सार्वजनिक आयोजनों पर रोक लगी हुई थी। लेकिन, इस बार स्थिति सामान्य होने के कारण महिलाओं के क्लबों और सामाजिक संगठनों की रंगत एक बार फिर वापस लौट आई है। शहर में शाम के समय जगह-जगह सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन पूरे माहौल को भक्तिमय बना दे रहे हैं। इसके अलावा शहर से लेकर गांवों तक पंडालों में देवी प्रतिमाओं की स्थापना का सिलसिला जारी है।

देवी चंद्रघंटा के दर्शन-पूजन के लिए श्रद्धालुओं की लगी कतार।
देवी चंद्रघंटा के दर्शन-पूजन के लिए श्रद्धालुओं की लगी कतार।

घर बैठे देवियों के दर्शन करा रहा पर्यटन विभाग

उत्तर प्रदेश का पर्यटन विभाग इस बार की नवरात्रि में काशी के देवी मंदिरों से श्रद्धालुओं को ऑनलाइन दर्शन करने की व्यवस्था ट्विटर पर किया हुआ है। इसके साथ ही इस बार डॉ. राजेंद्र प्रसाद घाट पर गंगा किनारे नौ दिवसीय नवरात्रि महोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। महोत्सव में सुर, साज और ताल की त्रिवेणी में देर रात तक देवी भक्त गोते लगाते रहते हैं। उधर, मिशन शक्तिसेना अभियान के तहत वेस इंडिया और रोटरी क्लब वाराणसी उदय की ओर से निवेदिता शिक्षा सदन में 250 बालिकाओं को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिया गया है।

देवी चंद्रघंटा के दर्शन-पूजन के लिए भोर से ही श्रद्धालुओं की कतार लग गई थी।
देवी चंद्रघंटा के दर्शन-पूजन के लिए भोर से ही श्रद्धालुओं की कतार लग गई थी।
देवी चंद्रघंटा के दर्शन-पूजन के लिए भक्तिभाव के साथ कतारबद्ध श्रद्धालु।
देवी चंद्रघंटा के दर्शन-पूजन के लिए भक्तिभाव के साथ कतारबद्ध श्रद्धालु।