हवन और कन्या पूजन के बाद वाराणसी में नवरात्र संपन्न:श्रद्धालुओं ने नवमी पर किया मां दुर्गा के 9 रूपों का दर्शन, अब विसर्जन की तैयारी

वाराणसी10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी में आज नवमी पर हवन के बाद नवदुर्गा स्वरूपा 9 कन्याओं की पूजा के बाद भोग लगाया जा रहा है। - Dainik Bhaskar
वाराणसी में आज नवमी पर हवन के बाद नवदुर्गा स्वरूपा 9 कन्याओं की पूजा के बाद भोग लगाया जा रहा है।

वाराणसी में आज नवमी को कन्या पूजन के बाद शारदीय नवरात्र पूरा हो गया। विधि-विधान से मां दुर्गा के 108 मंत्रों के जाप के बाद हवन किया गया और मां दुर्गा के विसर्जन की तैयारी की जाने लगी। आज सार्वजनिक दुर्गा पंडालों से लेकर घरों में नव कुमारियों और बाल स्वरूप भैरव के पांव पखारकर धार्मिक अनुष्ठान पूरे कराए गए। वहीं घरों और पंडालों में कलश स्थापित कर अपनी-अपनी श्रद्धा और शक्ति के अनुसार कन्याओं को दक्षिणा दिया गया।

वाराणसी के कीनाराम आश्रम में कन्या पूजन करत
वाराणसी के कीनाराम आश्रम में कन्या पूजन करत

हवन के बाद ही हुआ भोगप्रसाद

पंडालों में हवन और पुष्पांजलि होते ही भोग प्रसाद ग्रहण करने का सिलसिला शुरू हो गया। वहीं बनारस की पूरी सड़कें और गलिया मां शेरोवाली के उद्घोष से गुंजायमान हो चुकीं हैं। भक्तगण मां को विदा करने से पहले ही उनके दूसरे साल वापस आने की कामना कर रहे हैं। कोरोना के कारण पिछले साल दुर्गापूजा नहीं मनाया गया था।

वाराणसी में 9 कन्या का पूजन करते लोग।
वाराणसी में 9 कन्या का पूजन करते लोग।

बंगीय पूजा भी हुई

शहर में जंगमबाड़ी, सोनारपुरा, भेलूपुर और शिवाला इलाके में बंगीय पूजा विधि विधान संपन्न हुई। वहीं, शिवपुर, पांडेयपुर, महमूरगंज, लक्सा, नई सड़क पर उत्तर भारतीय शैली में हवन-पूजन किया गया। पंडालों में बेलपत्र और सांकला से बड़े हवन किए गए। दोष रहित 108 बेलपत्र छांट कर पुरोहित ने तो वहीं जजमानों ने सांकला से हवन किया। हवन की प्रक्रिया करीब दो घंटे में पूरी हुई। भारत सेवा आश्रम संघ सिगरा और रामकृष्ण मिशन लक्सा में हवन आदि कृत्य देखने के लिए बड़ी संख्या में बंगीय समुदाय के लोग पहुंचे।

कीनाराम में भक्तों ने किया नवदुर्गा के दर्शन

अघोरपीठ अघोराचार्य बाबा कीनाराम अघोर शोध एवं सेवा संस्थान के पीठाधीश्वर बाबा सिद्धार्थ गौतम राम के दिशा निर्देशन पर बाबा कीनाराम आश्रम में क्रीं कुंड शिवाला में बड़ी संख्या में कन्या पूजन का कार्यक्रम हुआ। इस दौरान बाल स्वरूपा दुर्गा और भैरव के दर्शन के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु लाइनों में लगकर घंटों खड़े थे। बाबा कीनाराम आश्रम में भक्तों ने हर-हर महादेव और आदि शक्ति का जयघोष किया।

पांव पखारकर महवार से रंगे गए पैर

कन्याओं का पांव पखारने के बाद शुभता के लिए महावर से पैर रंगे गए। नए वस्त्र, बिंदी, कुमकुम आदि से श्रृंगार के बाद सजीली, चमकदार चुनरियां ओढाई गयीं। विधिवत पूजन कर इन्हें सात्विक भोजन ( पूड़ी, सब्जी, खीर आदि पकवानों समेत दही, मिष्ठान और ऋतु फल) परोसा गया। वहीं इस दौरान कन्याओं के नौ देवी स्वरूपों और भैरव ने भक्तगणों को आशीर्वाद भी प्रदान किया। इस दौरान कीनाराम आश्रम में पूजा का कार्य आचार्य प्रकाश और संगीता सिंह ने पूरा कराया। वहीं कार्यक्रम के सफल आयोजन के लिए संस्थान के व्यवस्थापक अरुण सिंह समेत बड़ी संख्या में लोग रहे।

खबरें और भी हैं...