मकर संक्रांति का पुण्य काल आज:काशी के गंगा घाटों पर उमड़े श्रद्धालु; बाबा विश्वनाथ को अर्पित किए गए तिल के लड्‌डू, लगा खिचड़ी का भोग

वाराणसी2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
काशी के गंगा घाटोें पर सुबह से ही श्रद्धालुओं का हुजूम स्नान-दान के लिए उमड़ा हुआ है। इस दौरान ज्यादातर लोग कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए नहीं दिखे। - Dainik Bhaskar
काशी के गंगा घाटोें पर सुबह से ही श्रद्धालुओं का हुजूम स्नान-दान के लिए उमड़ा हुआ है। इस दौरान ज्यादातर लोग कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए नहीं दिखे।

काशी में आज भगवान सूर्य की आराधना का महापर्व मकर संक्रांति मनाया जा रहा है। काशी के ज्योतिषाचार्यों के अनुसार भगवान भास्कर ने शुक्रवार की रात धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश किया था। सूर्य सिद्धांत के कारण मकर संक्रांति आज दोपहर 12:49 बजे तक मनाई जाएगी। भगवान भास्कर के धनु से मकर राशि में प्रवेश करने के साथ ही खरमास का समापन हो गया और अब मांगलिक कार्य पुन: शुरू हो जाएंगे। हालांकि कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच गंगा स्नान और दान के दौरान श्रद्धालु सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करते नहीं दिखे, जो कि एक गंभीर चिंता का विषय है।

दशाश्वमेध घाट पर एसीपी दशाश्वेध अवधेश कुमार पांडेय सुबह से ही फोर्स के साथ तैनात रहे और श्रद्धालुओं से कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की अपील करते दिखे।
दशाश्वमेध घाट पर एसीपी दशाश्वेध अवधेश कुमार पांडेय सुबह से ही फोर्स के साथ तैनात रहे और श्रद्धालुओं से कोरोना गाइडलाइन का पालन करने की अपील करते दिखे।

बाबा विश्वनाथ को लगेगा खिचड़ी का भोग

मकर संक्रांति पर आज श्रीकाशी विश्वनाथ को मंगला आरती के बाद तिल के लड्‌डू, मगदल, गुड़ और मूंगफली की पट्‌टी का भोग लगाया गया। दोपहर की भोग आरती में बाबा को देसी घी मिश्रित खिचड़ी, दही, पापड़, अचार और चटनी विशेष थाल में अर्पित की गई। शाम के समय सप्तऋषि आरती के बाद बाबा को चूड़ा-मटर का भोग लगा। मंदिर प्रशासन के अनुसार कोरोना संक्रमण को देखते हुए इस बार केवल परंपरा का निर्वहन किया जाएगा और भीड़ नहीं उमड़ने दी जाएगी।

स्नान और तिलदान से दूर होते हैं कष्ट

काशी के ज्योतिषाचार्य पं. श्रीराम शर्मा ने बताया कि भगवान भास्कर की आराधना के पर्व मकर संक्रांति पर तिलदान करने से संकट दूर होते हैं। साथ ही पाप नष्ट होते हैं। सूर्य की राशि परिवर्तन से रात छोटी और दिन बड़े होने लगते हैं। सूर्य के उत्तरायण होने की वजह से मौसम में भी बदलाव होता है। आज मकर संक्रांति के पुण्यकाल में स्नान और दान फलदायी साबित होगा।

खबरें और भी हैं...