डीजल-पेट्रोल इंजन वाली नाव पर सख्ती:PM मोदी के वाराणसी दौरे के दौरान सीएनजी नावों को ही गंगा में चलाने की मिलेगी अनुमित

वाराणसी8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रणय सिंह, नगर आयुक्त, वाराणसी। - Dainik Bhaskar
प्रणय सिंह, नगर आयुक्त, वाराणसी।

वाराणसी में अब डीजल और पेट्रोल से संचालित होने वाली नाव को गंगा में चलाने की इजाजत नहीं मिलेगी। यदि सीएनजी इंजन के बगैर नाव नदी में चलते हुए पाई गईं तो उसके लाइसेंस तो निरस्त होंगे ही इसके साथ ही नाविक के खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। नगर आयुक्त प्रणय सिंह के निर्देश पर अपर नगर आयुक्त सुमीत कुमार ने गुरुवार को गंगा नदी में चल रही डीजल-पेट्रोल के नावों की समीक्षा की।

नगर आयुक्त प्रणय सिंह ने बताया कि 12 दिसंबर से पूर्व हर हाल में गंगा नदी में इंजन से चलने वाली नावों को शत-प्रतिशत सीएनजी में परिवर्तित करा दिया जाए। इसके लिए संबंधित अधिकारियों को नर्देश दिया जा चुका है। अपर नगर अयुक्त सुमीत कुमार ने अनुज्ञप्ति विभाग को निर्देश देते हुए कहा कि जिन नाविकों द्वारा अपने नावों में अभी तक सीएनजी नहीं लगवाई गई है या वे 12 दिसंबर के पहले अपनी नावों में सीएनजी किट नहीं लगवाते हैं तो उनके लाइसेंस को निरस्त कर नाव को जप्त कर लिया जाए।
13 दिसंबर पर विशेष जोर
नगर आयुक्त प्रणय सिंह ने बताया कि 13 दिसंबर को प्रधानमंत्री वाराणसी आ रहे हैं। उनके आगमन और गंगा नदी में भ्रमण के दौरान यदि कोई भी नाविक बिना सीएनजी के नावों का नदी में संचालन करते हुए पाया जाएगा तो उसके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। उनकी नावों को भी जब्त कर लिया जाएगा।
बगैर सीएनजी वाली नावों की सूची तैयार
नगर आयुक्त के निर्देश के बाद अनुज्ञप्ति विभाग ने बिना सीएनजी किट लगी नावों की सूची तैयार करने की कवायत शुरू कर दी है। नगर आयुक्त प्रणय सिंह ने सभी नाविकों से अपील की है कि वे अपनी नावों में 12 दिसंबर तक हर हाल में सीएनजी किट लगवा लें, जिससे वे इस कार्रवाई से बच सकें।