• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • Father son Resident Of Varanasi Told That They Used To Supply Fake Raisins All Over The Purvanchal, The Police Could Not Spit It Out Who Used To Give

बिहार से आती थी नशे की नकली टिकिया:वाराणसी निवासी पिता-पुत्र ने बताया नकली मुनक्का की सप्लाई करते थे पूरे पूर्वांचल में, कौन लाता था यह नहीं उगलवा सकी पुलिस

वाराणसी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पटना से नकली भोला मुनक्का मंगवा कर वाराणसी और पूर्वांचल के अन्य जिलों में सप्लाई करने वाले पिता-पुत्र। - Dainik Bhaskar
पटना से नकली भोला मुनक्का मंगवा कर वाराणसी और पूर्वांचल के अन्य जिलों में सप्लाई करने वाले पिता-पुत्र।

तंबाकू सहित इसी तरह के अन्य उत्पादों की मंडी वाराणसी के पानदरीबा से पूर्वांचल के अलग-अलग जिलों तक नकली भोला मुनक्का की सप्लाई की जा रही थी। चेतगंज थाने की पुलिस ने इस मामले में गिरफ्तार पिता-पुत्र से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि पटना के कुछ लोग मंडी में भोला कंपनी के नाम के हूबहू नकली मुनक्का की खेप पहुंचाते थे। इसके बाद नकली मुनक्का को पूर्वांचल के अलग-अलग जिलों के खरीदारों को थोक और फुटकर में बेचा जाता था।

हालांकि पानदरीबा मंडी तक नकली मुनक्का की खेप पहुंचाने वाले लोग कौन हैं और पटना में कहां रहते हैं, इस संबंध में पिता-पुत्र कोई जानकारी नहीं दे सकी। पुलिस दोनों को जेल भेजने के बाद उनके मोबाइल की कॉल डिटेल खंगाल कर नकली मुनक्का की सप्लाई करने वालों का पता लगाने में जुट गई है।

पुलिस की सूचना पर आया आबकारी विभाग

चेतगंज थाने की पुलिस को क्षेत्र के ही कुछ लोगों ने सूचना दी थी कि पानदरीबा मंडी में रानीपुर महमूरगंज निवासी परशुराम गुप्ता और उसका बेटा शिवम नकली भोला मुनक्का बेंचते हैं। इस सूचना पर पुलिस, आबकारी विभाग और चिकित्सा विभाग की संयुक्त टीम ने छापा मार कर नकली भोला मुनक्का के 175 पैकेट बरामद किए। पकड़े जाने के बाद भी पिता-पुत्र इसी बात पर अड़े थे कि वह असली भोला मुनक्का बेंचते हैं। मगर, आयुर्वेद चिकित्साधिकारी ने जब सिद्ध कर दिया कि नकली मुनक्का है तो दोनों शांत हो गए।

मुनाफे के लिए शुरू किया था बेचना

पिता-पुत्र ने बताया कि नकली भोला मुनक्का उन्होंने मुनाफे के लिए बेचना शुरू किया था। इसमें सीधे-सीधे 50 प्रतिशत का उन्हें मुनाफा होता था। इसके अलावा नकली भोला मुनक्का नशा बहुत तेज करता है। इसलिए जो लोग इसे खाते हैं वह फिर इसके आदी हो जाते हैं और पान दुकानदारों से सिर्फ नकली भोला मुनक्का ही मांगते हैं। दोनों ने बताया कि पानदरीबा मंडी में उनके अलावा कोई अन्य नकली भोला मुनक्का बेंचता था। यह काम दोनों लगभग ढाई वर्ष से ज्यादा समय से करते चले आ रहे हैं और कभी पकड़े नहीं गए थे। ना जाने कैसे उनके धंधे का भंडाफोड़ हो गया और वह पकड़े गए।

खबरें और भी हैं...