पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • IIT BHU Student Developed Technology In Varanasi, If There Will Be A Mistake In The Posture Of Yoga, Then Information Will Be Given To Rectify It

मोबाइल बताएगा आप योग सही कर रहे या नहीं:वाराणसी में IIT बीएचयू के छात्र ने विकसित की तकनीक, योगासन की मुद्रा में होगी गलती तो सुधारने की मिलेगी जानकारी

वाराणसी2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
IIT बीएचयू के छात्र ने योग के लिए बनाए गए नए प्लेटफार्म का प्रेजेंटेशन अपने शिक्षकों और विषय विशेषज्ञों के सामने दिया। - Dainik Bhaskar
IIT बीएचयू के छात्र ने योग के लिए बनाए गए नए प्लेटफार्म का प्रेजेंटेशन अपने शिक्षकों और विषय विशेषज्ञों के सामने दिया।

कोरोना वायरस के संक्रमण के इस दौर में इम्यूनिटी बढ़ाने से लेकर खुद को फिट रखने के लिए भी लोगों ने योग को अपनी दिनचर्या में शामिल किया है। हालांकि योग आसनों की सही मुद्रा क्या है और उन्हें किस तरह से करना है। इसकी जानकारी न होने की वजह से योग का सही फायदा ज्यादातर लोगों को नहीं मिल पाता है। इसे देखते हुए IIT बीएचयू के केमिकल इंजीनियरिंग के तृतीय वर्ष के छात्र विद्या भूषण ने मल्टीप्लेयर योग गेमप्ले (MPYG) द्वारा आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस आधारित योग प्लेटफार्म का पहला संस्करण तैयार किया है। यह मल्टीप्लेयर योग गेमप्ले बताएगा कि आप योग सही तरीके से कर रहे हैं या फिर उसमें सुधार की कोई गुंजाइश है।

विद्या भूषण, IIT बीएचयू के छात्र।
विद्या भूषण, IIT बीएचयू के छात्र।

लोग सही तरीके से योग करें, इस उद्देश्य से बनाया

विद्या भूषण ने बताया कि MPYG योग के क्षेत्र में एक नवाचार है। यह आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और ऑगमेंटेड रियाल्टी आधारित सामुदायिक योग मंच है। यह लोगों के स्वास्थ्य संबंधी कारकों को ध्यान में रखकर योग का चुनाव कराएगा और उन्हें सही तरीके से योग कराने के उद्देश्य से बनाया गया है। MPYG अपने ऑटो डिटेक्शन फीचर से न केवल गलत योग पोस्चर का पता लगाता है बल्कि आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस द्वारा ऑडियो-वीडियो सहायता से उसे सुधारता भी है। फिलहाल इस प्लेटफार्म को वेबसाइट http://mpyg.in से उपयोग किया जा सकता है। अन्य फीचर के लिए वेबसाइट की प्रतीक्षा सूची में अपना ईमेल डाला जा सकता है।

विद्या भूषण ने बताया कि यह प्लेटफार्म नैसकॉम फाउंडेशन, सिस्को थिंगक्यूबेटर के मेंटरशिप, आर्थिक सहायता और एनसीएल-आईआईटी बीएचयू इन्क्यूबेशन सेंटर की तकनीकी मदद से बनाया गया है। उधर, नैसकॉम फाउंडेशन के प्रमुख रमना वेमुरी ने विद्या भूषण की इस उपलब्धि पर हर्ष जताया है।

विद्या भूषण अपनी टीम के साथियों के साथ।
विद्या भूषण अपनी टीम के साथियों के साथ।

सही सूर्य नमस्कार सिखाएगा योगा हेल्प

IIT बीएचयू के कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. हरि प्रभात गुप्ता व उनकी टीम ने ’योगा हेल्प’ नामक एक तकनीक विकसित की है। यह लोगों को बिना किसी प्रशिक्षक की देखरेख के योग के सही तरीके को सीखने में मदद करती है। डॉ. हरि प्रभात गुप्ता ने बताया कि योग हेल्प स्मार्ट फोन के सेंसर का लाभ उठाकर सूर्य नमस्कार योग के 12 लिंक-स्टेप्स को उनके शुद्धता स्तर के साथ पहचानता है।

इस तकनीक को जून 2021 में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस जर्नल में प्रकाशित किया जा चुका है। पूर्ण सुविधाओं और क्लाउड समर्थन के साथ यह तकनीक अक्टूबर 2021 में एंड्रॉइड और आईओएस मोबाइल फोन उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध होगी। डॉ. गुप्ता ने बताया कि तकनीक को विकसित करने में उनके साथ डॉ. अशीष गुप्ता, डॉ. तनीमा दत्ता, डॉ. प्रीति कुमारी और राहुल मिश्रा शामिल रहे।

खबरें और भी हैं...