• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • In Varanasi, 3 People, Including A Couple, Were Arrested, All Three Were Accused Of Trying To Convert From Hindu To Christian; Police Are Investigating

वाराणसी में हिंदुओं को ईसाई बना रहे थे पति-पत्नी:हिंदूवादी संगठन ने तमिलनाडु के रहने वाले एक शख्स और पति-पत्नी को पकड़ पुलिस को सौंपा, धार्मिक साहित्य भी मिले

वाराणसी3 महीने पहले
धर्मांतरण कराने के प्रयास के आरोप में पकड़ कर पुलिस को सौंपे गए दंपति सहित 3 लोग।

वाराणसी के करखियांव गांव में धर्म परिवर्तन का मामला सामने आया है। यहां हिंदू जागरण मंच ने दंपति सहित 3 लोगों को पकड़ कर फूलपुर थाने की पुलिस को सौंपा है। तीनों पर आरोप है कि वे गांव के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों को हिंदू धर्म छोड़ने और ईसाई धर्म अपनाने के लिए प्रेरित कर रहे थे। इसके लिए वे लोगों को उनके बच्चों की अच्छे से परवरिश, पढ़ाई और खाने का इंतजाम करने जैसे प्रलोभन दे रहे थे। मंच के प्रदेश मंत्री की तहरीर के आधार पर फूलपुर थाने की पुलिस ने तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उन्हें हिरासत में ले लिया है।

तीनों के पास से बरामद हुईं ईसाई धर्म की पुस्तकें

फूलपुर थाना अंतर्गत रामपुर गांव के रहने वाले गौरीश सिंह हिंदू जागरण मंच के प्रदेश मंत्री हैं। उन्होंने बताया कि मंगलवार रात वह अपने घर पर थे। देर रात उन्हें करखियांव के ग्रामीणों से पता लगा कि 1 महिला सहित 3 लोग गांव के कुछ लोगों को प्रलोभन देकर उन्हें ईसाई धर्म अपनाने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। इस पर वह अपने कार्यकर्ताओं के साथ करखियांव गांव पहुंचे। तीनों से पूछताछ शुरू की गई तो उनके पास से ईसाई धर्म से जुड़ा साहित्य बरामद हुआ।

तीनों आरोपियों में से एक तमिलनाडु का मूल निवासी और वाराणसी के बीरभानपुर गांव में रहने वाला नील तुरै है। जबकि विजय कुमार और उसकी पत्नी किरण देवी वाराणसी के भाऊपुर गांव में रहते हैं। ग्रामीणों ने बताया कि तीनों अक्सर क्षेत्र के गांवों में घूमते रहते हैं। आर्थिक रूप से कमजोर और कम लिखे-पढ़े लोगों को प्रलोभन देकर ईसाई धर्म अपनाने के लिए प्रेरित करते हैं।

गौरीश सिंह, प्रदेश मंत्री, हिंदू जागरण मंच।
गौरीश सिंह, प्रदेश मंत्री, हिंदू जागरण मंच।

जांच में सामने आए तथ्यों के आधार पर करेंगे कार्रवाई

एसपी ग्रामीण अमित वर्मा ने बताया कि सूचना मिली थी कि करखियांव गांव में 1 महिला और 2 लोगों को ग्रामीणों ने पकड़ रखा है। तीनों को सुरक्षित फूलपुर थाने लाया गया। गौरीश सिंह ने तहरीर दी है कि तीनों गांव के एक विश्वकर्मा परिवार का धर्मांतरण का प्रयास कर रहे थे।

गौरीश के आरोपों की जांच कर और तीनों से पूछताछ कर प्रकरण के संबंध में फूलपुर थाने में मुकदमा दर्ज किया गया है। गांव के लोगों को समझाया गया है कि वह शांतिपूर्वक रहें और पुलिस का सहयोग करें। तीनों को हिरासत में लेकर पूरे प्रकरण की पड़ताल कराई जा रही है।

करखियांव गांव के इसी मकान में धर्मांतरण की सूचना पर मौके पर जुटे ग्रामीण।
करखियांव गांव के इसी मकान में धर्मांतरण की सूचना पर मौके पर जुटे ग्रामीण।

लोहता, चौबेपुर और फूलपुर क्षेत्र में पहले भी आए मामले

वाराणसी के लोहता, जंसा, चौबेपुर और फूलपुर थाना क्षेत्र के गांवों में पहले भी धर्मांतरण के प्रकरण सामने आते रहे हैं। धर्मांतरण के आरोपों को लेकर कई बार जबरदस्त हंगामा हुआ और पुलिस ने कार्रवाई भी की। हालांकि हाल के दिनों में ऐसा कोई भी प्रकरण सामने नहीं आया था।

उधर, करखियांव गांव के लोगों का कहना था कि धर्मांतरण की बातें करने वाले गरीब परिवार के लोगों को पैसे, अनाज और बेहतर जिंदगी का प्रलोभन देते हैं। वह कहते हैं कि आपके बच्चों की शिक्षा और स्वास्थ्य की देखभाल करने के साथ ही हम बेहतर रहन-सहन की व्यवस्था कराएंगे। इसी वजह से लोग उनकी बातों में आ जाते हैं।

खबरें और भी हैं...