पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

2 साल पहले हुई हत्या में वांछित हत्थे चढ़ा:वाराणसी में शिक्षिका की हत्या में वांछित 15 हजार का इनामी बदमाश गिरफ्तार, 5 लाख लेकर मुहैया कराया था 2 हत्यारे

वाराणसी23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हत्या के आरोप में वांछित 15 हजार का इनामी बदमाश पुलिस की गिरफ्त में। - Dainik Bhaskar
हत्या के आरोप में वांछित 15 हजार का इनामी बदमाश पुलिस की गिरफ्त में।

वाराणसी में 2 साल पहले हुई शिक्षिका निवेदिता सिंह की हत्या में वांछित 15 हजार के इनामी बदमाश जय सिंह राय को बुधवार को पुलिस ने गिरफ्तार किया। जय झांसी के मऊरानीपुर थाना के मिथुन राय का रहने वाला है। जय पर आरोप है कि उसने निवेदिता के पति से पांच लाख रुपये लेकर भाड़े पर दो हत्यारे उपलब्ध कराए थे। पुलिस इस प्रकरण में निवेदिता के पति शैलेंद्र सिंह, उसकी दूसरी पत्नी काजल सहित 5 आरोपियों को पूर्व में गिरफ्तार कर चुकी है। आरोपी जय को अदालत में पेश कर जेल भेज दिया गया।

निवेदिता सिंह। (फाइल फोटो)
निवेदिता सिंह। (फाइल फोटो)

दिव्यांग बेटी पैदा हुई तो शुरू हुआ था विवाद

लंका थाना अंतर्गत नरोत्तमपुर निवासी शैलेंद्र सिंह की शादी साल 2008 में निवेदिता के साथ हुई थी। विवाह के बाद निवेदिता ने एक बेटी को जन्म दिया जिसकी 15 दिन बाद मौत हो गई थी। इसके बाद फिर एक बेटी पैदा हुई जो दिव्यांग थी। इसे लेकर शैलेंद्र और निवेदिता के बीच विवाद होता था। विवाद कुछ इस कदर बढ़ा कि शैलेंद्र 2017 में पत्नी और बेटी को छोड़कर भिलाई चला गया।

भिलाई में निवेदिता की चचेरी बहन काजल से शैलेंद्र की नजदीकियां बढ़ीं और दोनों ने शादी कर ली। उधर, शैलेंद्र ने निवेदिता पर तलाक का दबाव बनाया तो वह तैयार नहीं हुई। शैलेंद्र ने कोर्ट में तलाक के लिए मुकदमा दाखिल किया तो निवेदिता को भरण-पोषण देने का आदेश दिया। इसे लेकर शैलेंद्र परेशान रहने लगा और निवेदिता को रास्ते से हटाने की सोचने लगा।

निवेदिता की चचेरी बहन ने बताया था कौन कराएगा हत्या

शैलेंद्र ने अपनी दूसरी पत्नी काजल से निवेदिता की हत्या कराने की बात बताई तो उसने कहा कि उसकी झांसी की सहेली गीता रायकवार है, वह यह काम आसानी से करा देगी। शैलेंद्र ने गीता से मुलाकात की तो उसने उसे जय से मिलाया। जय ने पांच लाख रुपये के बदले शुभम और रोहित से निवेदिता की हत्या की बात तय की। शुभम और रोहित को लेकर गीता वाराणसी आई। शैलेंद्र ने तीनों को नरोत्तमपुर स्थित मकान का पूरा नक्शा समझा दिया था।

11 अगस्त की रात शुभम और रोहित अंदर से बंद छत के दरवाजे की कुंडी को खोलकर घर में प्रवेश किए। इसके बाद निवेदिता के सिर पर चापड़ और लोहे की रॉड से वार करने के बाद उनका मुंह तकिया से दबा कर हत्या कर दिए। इसके बाद दोनों छत का दरवाजा बंद कर भाग निकले थे। सर्विलांस की मदद से पुलिस ने वारदात की गुत्थी सुलझाकर 2 सितंबर 2019 को शैलेंद्र सहित 5 आरोपियों को गिरफ्तार किया था।

खबरें और भी हैं...