शाम 5 बजे के बाद थाने न जाएं महिलाएं:वाराणसी में BJP उपाध्यक्ष बेबी रानी ने पुलिस पर उठाए सवाल, अब हो रहीं ट्रोल

वाराणसीएक महीने पहले
वाराणसी में पूर्व राज्यपाल बेबी रानी मौर्य दलित बस्ती में आयोजित एक कार्यक्रम में पहुंची थीं। तभी उन्होंने यह बयान दिया।

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव नजदीक है। विपक्ष महिला सुरक्षा के मुद्दे पर राज्य की योगी सरकार को घेर रहा है। लेकिन अब भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने ही अपनी सरकार पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

वाराणसी में पूर्व राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने महिलाओं को नसीहत दी है कि थानों पर एक महिला अधिकारी और एक सब इंस्पेक्टर बैठती हैं, लेकिन फिर भी शाम 5 बजे के बाद अंधेरा होने पर महिलाएं थाने न जाएं। जरूरी हो तो अगले दिन सुबह ही थाने जाएं और तब भी उनके पति, पिता या भाई साथ रहें।

आई थीं सहभोज कार्यक्रम में शामिल होने
बेबी रानी मौर्य बजरडीहा क्षेत्र की वाल्मीकि बस्ती में सहभोज कार्यक्रम में शामिल होने आई थीं। उन्होंने इस दौरान कहा कि महिलाओं के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने बहुत काम किया है। इस वजह से महिलाओं की स्थिति में अब बदलाव दिखता है। प्रदेश की सरकार समाज के सभी वर्गों के लिए लगातार काम कर रही है। इसी वजह से विपक्षी दलों के पास सरकार को घेरने के लिए ठोस मुद्दों का अभाव है।

कार्यक्रम में शामिल पूर्व राज्यपाल बेबी रानी मौर्य।
कार्यक्रम में शामिल पूर्व राज्यपाल बेबी रानी मौर्य।

खाद का संकट नहीं, अधिकारी गुमराह कर रहे
बेबी रानी मौर्य ने कहा कि प्रदेश में खाद का संकट नहीं है। अधिकारी गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने अपनी बात के समर्थन में आगरा का उदाहरण भी दिया। बताया कि एक किसान ने उन्हें खाद के लिए फोन किया। इस पर उन्होंने संबंधित अधिकारी को फोन किया तो उन्होंने कहा कि किसान को खाद मिल जाएगी। हालांकि, उस अधिकारी ने बाद में किसान को खाद देने से मना कर दिया। इस तरह से अफसर आम आदमी को गुमराह करते हैं।

उन्होंने कहा, अगर इस तरह की कहीं भी दिक्कत किसी किसान को हो तो वह सीधे जिलाधिकारी से शिकायत करें। इसके बाद भी बात न बने तो मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री को पत्र भेज कर समस्या से अवगत कराएं। समस्या का समाधान हर हाल में होगा। प्रदेश सरकार किसानों की छोटी से छोटी समस्या के समाधान के लिए प्रतिबद्ध है।

खबरें और भी हैं...