• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • In Varanasi, In The Dispute Of 12 Dhismil Land, Sticks And Rods Were Used In The Pattidars, The Injured Youth Died In The Hospital, The Angry Villagers Were Attacked By The Police With Their Niece Sticks

जमीन विवाद की रंजिश में जान चली गई:वाराणसी में 12 डिसमिल जमीन के विवाद में पट्‌टीदारों में चली लाठियां, घायल युवक की अस्पताल में मौत...गुस्साए ग्रामीणों पर पुलिस ने भांजी लाठी

वाराणसी5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इलाज के दौरान घायल की मौत। - Dainik Bhaskar
इलाज के दौरान घायल की मौत।

वाराणसी के बसंतपुर गांव में 486 वर्गमीटर जमीन के विवाद को लेकर लाठी और रॉड से हुई मारपीट में घायल एक युवक की उपचार के दौरान बुधवार को मौत हो गई। युवक की मौत की सूचना पाकर सिंधोरा थाने की पुलिस उसके घर पहुंची तो उसके परिजन भड़क गए। इस दौरान युवक के परिजनों और ग्रामीणों की पुलिस से जमकर झड़प हुई।

पुलिस ने लोगों पर किया लाठीचार्ज

पुलिस को लोगों को शांत कराने का कोई रास्ता नहीं सूझा तो लाठी भांजकर सभी को खदेड़ा गया। इस दौरान हुई भगदड़ में गिरने के कारण कई ग्रामीणों को चोट भी लगी। माहौल सामान्य होने पर पुलिस ने युवक के परिजनों को आश्वस्त किया कि आरोपी जल्द ही गिरफ्त में होंगे। युवक का शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाकर बसंतपुर गांव में तनाव और लोगों के आक्रोश को देखते हुए एहतियातन पुलिस तैनात की गई है।

21 जून घटना को हुई थी मारपीट

बसंतपुर गांव निवासी अभिषेक शर्मा की पत्नी बिंदू शर्मा ने सिंधोरा थाने में तहरीर दी थी। बिंदू के अनुसार 21 जून की दोपहर बाद जमीन विवाद को लेकर उनके देवर अश्वनी शर्मा पर पट्‌टीदारी के सगे भाई प्रमोद शर्मा व ओमप्रकाश शर्मा और ओमप्रकाश के बेटे अभिषेक ने लाठी और रॉड से हमला कर दिया। सिर में चोट लगने से गंभीर रूप से घायल अश्वनी को बीएचयू ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया गया जहां उपचार के दौरान बुधवार को उसकी मौत हो गई।

शिकायत के बाद भी पुलिस ने कुछ नहीं किया

घटना को लेकर अश्वनी शर्मा के पिता बलराम शर्मा ने कहा कि पुलिस आरोपियों पर पहले ही प्रभावी कार्रवाई कर देती तो उनके बेटे की जान नहीं जाती। मनबढ़ पट्‌टीदारों की जब भी शिकायत की जाती थी तो पुलिस समझाबुझाकर शांत करा देती थी। इसी वजह से उन सबका मन बढ़ता चला गया और उन्होंने ऐसा हमला किया कि हमारे बेटे की जान चली गई।

गिरफ्तारी के लिए 2 टीमें गठित

सीओ पिंडरा अभिषेक कुमार पांडेय ने बताया कि दोनों पक्षों में आबादी की जमीन को लेकर एक अरसे से विवाद चला आ रहा है। जब भी विवाद की सूचना मिलती थी तो राजस्व का मामला होने के कारण पुलिस दोनों पक्षों को शांत करा देती थी। 21 जून को घटना की सूचना मिलते ही सिंधोरा थाने की पुलिस मौके पर गई थी। उसी दिन मुकदमा भी दर्ज किया गया था। मंगलवार को अश्वनी की हालत गंभीर देखकर दर्ज मुकदमे में धाराएं बढ़ाई गई। चूंकि अब अश्वनी की मौत हो गई है तो दर्ज मुकदमे में फिर धाराएं बढ़ाई जाएंगी। फिलहाल आरोपी घर छोड़ कर भागे हुए हैं। उनकी तलाश में पुलिस की 2 टीम लगाई गई हैं। दोनों ही पक्ष एक-दूसरे के पड़ोसी हैं। इसलिए घटना को देखते हुए पुलिस तैनात की गई है।

खबरें और भी हैं...