BHU अस्पताल के नर्सिंग ऑफिसर काम पर लौटे:MS के इस्तीफे को लेकर 7 दिन से बैठे थे धरने पर; गठित की गई 11 सदस्यीय ग्रीवांस कमेटी

वाराणसी7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
BHU अस्पताल प्रशासन द्वारा नर्सिंग ऑफिसरों को दिया गया पत्र। - Dainik Bhaskar
BHU अस्पताल प्रशासन द्वारा नर्सिंग ऑफिसरों को दिया गया पत्र।

वाराणसी स्थित काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) के सर सुंदरलाल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक (MS) के इस्तीफे की मांग को लेकर 7 दिनों से धरने पर बैठे नर्सिंग ऑफिसर काम पर वापस लौट आए हैं। एमएस के इस्तीफे को छोड़ कर नर्सिंग स्टाफ की अन्य सभी मांगें अस्पताल प्रशासन ने मानते हुए उसकी लिखित कॉपी उन्हें सौंप दी हैं।

गौरतलब है कि इस पहले एमएस प्रो. केके गुप्ता पर थप्पड़ मारने के आरोप के संबंध में जांच के लिए गठित की गई कमेटी ने उन्हें क्लीन चिट दे दी थी। जांच समिति का कहना था कि थप्पड़ मारने से संबंधी आरोपों की पुष्टि नहीं हुई है। नर्सिंग ऑफिसरों के काम पर वापस लौटने से मरीजों और उनके तीमारदारों के साथ ही अस्पताल प्रशासन ने भी राहत की सांस ली है।

धरने पर बैठे नर्सिंग ऑफिसरों का कहना था कि MS जब तक इस्तीफा नहीं देंगे तब तक वह काम पर वापस नहीं लौटेंगे। - (फाइल फोटो)
धरने पर बैठे नर्सिंग ऑफिसरों का कहना था कि MS जब तक इस्तीफा नहीं देंगे तब तक वह काम पर वापस नहीं लौटेंगे। - (फाइल फोटो)

नर्सिंग स्टाफ को यह आश्वासन मिले

BHU ट्रॉमा सेंटर के प्रभारी और डिप्टी एमएस प्रो. सौरभ सिंह की तरफ से नर्सिंग ऑफिसरों को लिखित सहमति पत्र दिया गया है। सहमति पत्र में उनके धरना-प्रदर्शन के दौरान उनके ऊपर किसी तरह की कोई अनुशासनात्मक कार्रवाई न होने देने का आश्वासन दिया है। इसके साथ ही भविष्य में उनकी समस्याओं के लिए एक ग्रीवांस कमेटी का गठन करने के साथ ही यह भरोसा दिलाया गया है कि भविष्य में उन्हें किसी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी। इसके लिए नर्सिंग सुपरिंटेंडेंट ऑफिस की तरफ से विश्वविद्यालय के नियमानुसार जो भी समस्याएं होंगी, उसका समाधान कराया जाएगा।

नर्सिंग ऑफिसर भी ग्रीवांस कमेटी में शामिल

BHU अस्पताल प्रशासन ने नर्सिंग ऑफिसरों की मांगों पर 11 सदस्यीय ग्रीवांस कमेटी का गठन किया है। इस कमेटी का चेयरमैन फैकल्टी ऑफ मेडिसिन के डीन प्रो. एसके सिंह को बनाया गया है। सर सुंदरलाल अस्पताल के के सहायक कुलसचिव सदस्य सचिव की भूमिका में रहेंगे। कमेटी में 3 नर्सिंग ऑफिसरों को भी शामिल किया गया है। कमेटी नर्सिंग ऑफिसरों की समस्याओं के समाधान की दिशा में कार्रवाई करेगी।

खबरें और भी हैं...