पिता ने नहीं दिए 10 रुपए, बेटे ने छोड़ा घर:CCTV की मदद से वाराणसी पुलिस ने खोजा निकाला; रेस्टोरेंट के बाहर सोता मिला बेटा, बोला- पैसे कमाने निकला था

वाराणसी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी के दुर्गाकुंड पुलिस ने बच्चे को सीसीटीवी की मदद से खोज निकाला। - Dainik Bhaskar
वाराणसी के दुर्गाकुंड पुलिस ने बच्चे को सीसीटीवी की मदद से खोज निकाला।

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में पिता की डांट से नाराज 14 साल का मासूम घर से चुपचाप बाहर चला गया। मंगलवार की पूरी रात बच्चा रेस्टोरेंट के बाहर ही सोता रहा। उधर, घर में बच्चे के न मिलने पर परिजन रातभर उसे तलाशते रहे। सीसीटीवी की मदद से पुलिस ने कड़ी से कड़ी मिलाकर बच्चे को रेस्टोरेंट के बाहर से बरामद किया।

बताया जा रहा है कि बच्चे ने 10 रुपए पिता से मांगे थे, जिसपर उसे डांटकर चुप करा दिया गया था। वहीं, बच्चे ने पुलिस को बताया कि घर से पैसे कमाने निकला था।

चुपचाप घर से निकल गया बेटा, पूरी रात तलाशता रहा पिता
मामला दुर्गाकुंड क्षेत्र के पद्मश्री चौराहा के पास का है। यहां के निवासी नगर निगम कर्मी संदीप कुमार का बेटा अमित(14 साल) मंगलवार की रात 10 बजे बिना किसी को कुछ कहे घर से निकल गया। परिजन रातभर बच्चे की खोजबीन करते रहे। बुधवार की सुबह खोजबीन करने के बाद वह नहीं मिला। पिता ने बताया कि बेटा 10 रुपए देने की जिद कर रहा था, लेकिन उसको नहीं दिया। समझाकर बैठा दिया था।

सिटी कमांड कंट्रोल रूम के कैमरों से मिली मदद
वहीं, चौकी इंचार्ज प्रकाश सिंह ने बताया कि बच्चे को खोजने में सिटी कमांड कंट्रोल रूम के सीसीटीवी ने मदद की है। बच्चे के घर के आसपास के चौराहों पर भी सीसीटीवी लगे हैं। उन्हीं की मदद से फुटेज खंगालनी शुरू की गई तो बच्चा लंका थाने की ओर जाता हुआ दिखाई दिया। फिर लंका के कैमरों की फुटेज खंगाली गई तो बच्चा एक रेस्टोरेंट के सामने खड़ा मिला। मौके पर पहुंची पुलिस ने बच्चे को बरामद कर परिजनों को सौंप दिया। दुर्गाकुंड चौकी इंचार्ज ने बताया कि जून महीने में अब तक 5 बच्चों को खोजने में सिटी कमांड कंट्रोल रूम के कैमरों ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

रेस्टोरेंट के बाहर ही काटी सारी रात
बच्चे ने बताया कि घर से निकलने के बाद पूरी रात रेस्टोरेंट के बाहर ही सोया था। सुबह रेस्टोरेंट में काम मांगने वाला था। बच्चे का कहना था कि उसके पापा पैसे नहीं देते हैं, इसलिए अब वह खुद कमाएगा। पुलिस बच्चे को समझाबुझाकर उसके घर ले गई और परिजनों को सौंप दी।

खबरें और भी हैं...