त्रिपुरा की हिना के लिए गुनहगार बनी BHU स्टूडेंट:वाराणसी में NEET में फर्जीवाड़े का हुआ प्रयास, आरोपी छात्रा और उसकी मां गई जेल; KGMU का छात्र दिया था कैंडिडेट

वाराणसी8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
NEET परीक्षा में फर्जीवाड़े के प्रयास में गिरफ्तार BHU की छात्रा जूली और उसकी मां बबिता देवी। - Dainik Bhaskar
NEET परीक्षा में फर्जीवाड़े के प्रयास में गिरफ्तार BHU की छात्रा जूली और उसकी मां बबिता देवी।

वाराणसी स्थित काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) के BDS सेकेंड ईयर की छात्रा जूली कुमारी त्रिपुरा के हिना विश्वास की जगह NEET परीक्षा में बैठी थी। खास बात यह है कि दोनों एक-दूसरे को जानती-पहचानती भी नहीं हैं। त्रिपुरा के एडीसी साउथ कचुछारा ढलई निवासी धनाढ्य परिवार से ताल्लुक रखने वाले गोपाल विश्वास ने अपनी बेटी हिना को मेडिकल प्रवेश परीक्षा में पास कराने के लिए सॉल्वर गैंग से 25 लाख रुपए में सौदा तय किया था।

जूली कुमारी सहित 4 आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद अब हिना और उसके पिता की धरपकड़ के लिए वाराणसी पुलिस कमिश्नरेट की एक टीम जल्द ही त्रिपुरा रवाना की जाएगी। वहीं, जूली और उसकी मां बबिता देवी को पुलिस ने अदालत में पेश किया जहां से दोनों को जेल भेज दिया।

KGMU का ओसामा देता था कैंडिडेट

सॉल्वर गैंग के सरगना पटना निवासी PK को लखनऊ स्थित KGMU के एमबीबीएस फाइनल ईयर का स्टूडेंट ओसामा शाहिद और बिहार के खगड़िया का विकास कुमार महतो कैंडिडेट सप्लाई करते थे। दोनों वाराणसी पुलिस की गिरफ्त में हैं और पूछताछ पूरी होने के बाद उन्हें भी जेल भेजा जाएगा। मऊ के मोहम्मदाबाद गोहना क्षेत्र निवासी ओसामा शाहिद पढ़ाई के साथ ही यह देखता था कि कोचिंग सेंटर में मेडिकल की तैयारी करने वाले ऐसे कौन से छात्र-छात्राएं हैं जो किसी भी कीमत पर एमबीबीएस करना चाहते हैं। इसके बाद वह उनसे सीधे संपर्क करता था। हिना और उसके पिता से भी ओसामा ने ही संपर्क किया था।

BHU की टॉपर BDS छात्रा सॉल्वर गैंग की मेंबर निकली: NEET में 5 लाख लेकर दूसरे की जगह परीक्षा देने बैठी; मां-बेटी समेत 4 को क्राइम ब्रांच ने उठाया, मास्टरमाइंड पटना का PK

ऐसे काम करता है सॉल्वर गैंग

NEET परीक्षा में फर्जीवाड़े के असफल प्रयास को उजागर करने के बाद पुलिस ने आरोपियों से पूछताछ की तो कई अहम बातें सामने आईं। सॉल्वर गैंग के A कैटेगरी के एजेंट नामी कोचिंग सेंटर में मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्र-छात्राओं की टोह लेते रहते हैं। इनमें से वह धनाढ्य परिवार के बच्चों और उनके पढ़ाई के लेवल के बारे में जानकारी जुटाते हैं। इसके बाद वह किसी तरह से उनके अभिभावक से मिलते हैं और उन्हें आश्वस्त करते हैं कि उनके बच्चे का हर हाल में दाखिला मेडिकल कॉलेज में होगा।

अपनी बातों के समर्थन में वह 2 से 3 साल में चयनित हुए बच्चों की फोटो और उनका नाम-पता भी दिखाते हैं। हिना और गोपाल विश्वास के साथ भी सॉल्वर गैंग के सरगना PK के एजेंट्स ने भी ऐसा ही किया।

गरीब परिवार के बच्चे को बनाते हैं सॉल्वर

कैंडिडेट से सौदा तय होने के बाद सॉल्वर गैंग की B कैटेगरी के एजेंट मेडिकल कॉलेजों में पढ़ने वाले उन मेधावी छात्र-छात्राओं के बारे में जानकारी जुटाते हैं जो आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों के होते हैं। गिरफ्तार की गई जूली भी गरीब परिवार की है। सॉल्वर गैंग के एजेंट विकास कुमार महतो ने जूली से नहीं बल्कि उसकी मां बबिता देवी को 5 लाख का लालच दिया। समझाया कि 5 लाख रुपए में परिवार के दिन बहुर जाएंगे और आपके पति मुन्ना कुमार मेहता सब्जी बेचना छोड़ कर कोई अन्य काम शुरू कर सकेंगे।

बबिता देवी लालच में आ गई और उसने अपने साथ अपनी बेटी का स्वर्णिम भविष्य बर्बाद कर दिया। उधर, जूली की गिरफ्तारी की सूचना मिलने के बाद BHU प्रशासन भी उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की तैयारी में जुट गया है।

लगा था परिवार की हालत सुधर जाएगी

जूली कुमारी ने बताया कि 2019 में जब वह NEET परीक्षा दी थी तो उसे 720 में से 522 अंक मिले थे। सॉल्वर गैंग के लोगों ने उससे कहा था कि बस 3 घंटे की बात है और हमारा दावा है कि कोई पकड़ नहीं पाएगा। इससे पहले सॉल्वर गैंग के लोगों ने उसकी मां के हाथ में 50 हजार रुपए थमा दिए थे। साढ़े चार लाख रुपए परीक्षा के देने की बात कही गई थी। मां का भी कहना था कि परीक्षा दे दो तो वह तैयार हो गई। उसे लगा था कि 5 लाख रुपए से उसके परिवार की माली हालत सुधर जाएगी।

एक-एक कर सबको पकड़ेंगे

पुलिस कमिश्नर ए. सतीश गणेश ने दैनिक भास्कर से कहा कि सॉल्वर गैंग का नेटवर्क बहुत बड़ा है। गिरोह के सरगना से लेकर सदस्य तक बेहद ही शातिर किस्म के होते हैं। सभी अपने मोबाइल नंबर के साथ ही रहने की जगह भी लगातार बदलते रहते हैं। लेकिन, पुलिस टीमें रविवार शाम से ही लगातार दबिश दे रही हैं और सॉल्वर गिरोह के बारे में कुछ अहम जानकारियां हमारे हाथ लगी हैं। पूरा विश्वास है कि जल्द ही सभी आरोपी एक-एक कर पकड़े जाएंगे।

खबरें और भी हैं...