वाराणसी...भाजपा SC मोर्चा की पहली बैठक:जेपी नड्डा बोले- CAA बाबा साहब की इच्छा, इससे अनुसूचित जाति को हुआ लाभ, मोदी का मकसद दलितों को सम्मान और समान अधिकार दिलाना

वाराणसी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी में आयोजित भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते जेपी नड्‌डा। - Dainik Bhaskar
वाराणसी में आयोजित भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते जेपी नड्‌डा।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शनिवार को नागरिकता संशोधन कानून (CAA) को डॉ. भीमराव आंबेडकर की इच्छा बताया। उन्होंने वाराणसी में आयोजित भाजपा अनुसूचित जाति (SC) मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक के उद्घाटन सत्र को वर्चुअली संबोधित किया।

उन्होंने कहा कि बाबा साहेब चाहते थे कि देश के विभाजन के समय जो दलित लोग पाकिस्तान में रह गए हैं, वो CAA के तहत भारत आएं। लेकिन, कांग्रेस की सरकार ने उनके पुनर्वास के लिए कोई कदम नहीं उठाया। नड्डा के मुताबिक मोदी सरकार ही है, जिसने CAA लागू किया। इस कानून के तहत SC समुदाय को काफी लाभ हुआ है। इसके तहत काफी बड़ी संख्या में दलित वर्ग के नागरिकों को नागरिकता दी गई।

भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल पदाधिकारी और सदस्य।
भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल पदाधिकारी और सदस्य।

हमारी सरकार ने रिजर्वेशन 2030 तक बढ़ाया
भाजपा अध्यक्ष ने इस दौरान यह भी कहा कि लोकसभा, राज्यसभा और विधानसभाओं में SC/ST और अन्य पिछड़े वर्ग के आरक्षण को हमारी सरकार ने 25 जनवरी 2030 तक के लिए बढ़ाया है। दलित उत्पीड़न के मामलों की सुनवाई के लिए हमारी सरकार ने विशेष अदालतों के गठन को और सरकारी वकीलों की उपलब्धता को सुनिश्चित किया।

भाजपा सरकार ने SC और ओबीसी छात्रों के लिए फ्री कोचिंग के लिए वार्षिक आय की पात्रता 4.5 लाख से बढ़ाकर 6 लाख रुपए किया। जेपी नड्डा के मुताबिक हम सभी जानते हैं कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार के लिए सामाजिक न्याय केवल कहने और सुनने की बात नहीं है। बल्कि, हमारा ये कमिटमेंट है। ये हमारी श्रद्धा है कि गरीबों, पिछड़ों, आदिवासियों को सम्मान और समान अधिकार दिलाना है।

बाबा साहब के जीवन से जुड़े 5 स्थान पंचतीर्थ घोषित
जेपी नड्डा ने कहा कि गरीबों, पिछड़ों, वंचितों और आदिवासियों को सम्मान और समान अधिकार दिलाना बाबा साहब का सपना था। हम उन्हीं के सपनों को साकार करने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं। बाबा साहब को पहली बार देश के किसी प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी ने उनके जन्म स्थान मध्य प्रदेश के महू जाकर श्रद्धांजलि दी।

प्रधानमंत्री की पहल पर संयुक्त राष्ट्र संघ ने बाबा साहब को विशेष स्थान देते हुए उनके प्रति विशिष्ट श्रद्धाभाव जाहिर किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार में बाबा साहब के जीवन से जुड़े पांच स्थानों को पंचतीर्थ घोषित किया।

खबरें और भी हैं...