फांसी लगाकर दे दी जान:वाराणसी में शादी के 18 साल बाद मेडिकल स्टोर संचालक की पत्नी ने की आत्महत्या

वाराणसी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अंजू अपने तीन मंजिला मकान के प्रथम तल पर दुपट्‌टे के फंदे के सहारे लटकी मिली। - Dainik Bhaskar
अंजू अपने तीन मंजिला मकान के प्रथम तल पर दुपट्‌टे के फंदे के सहारे लटकी मिली।

वाराणसी के सुंदरपुर क्षेत्र निवासी मेडिकल स्टोर संचालक की पत्नी ने बुधवार को फांसी लगा कर जान दे दी। सूचना पाकर चितईपुर थाने की पुलिस ने शव को फंदे से नीचे उतार कर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। पुलिस के अनुसार, प्रथम दृष्टया यही बात सामने आई है कि घरेलू कलह से परेशान होकर विवाहिता ने आत्मघाती कदम उठाया है।

2003 में हुआ था दोनों का विवाह

चितईपुर थाना क्षेत्र के सुंदरपुर निवासी पवन कुमार दास का लंका में मेडिकल स्टोर है। पवन की शादी वर्ष 2003 में जौनपुर जिले के मुंगराबादशाहपुर की रहने वाली अंजू गुप्ता से हुई थी। दोनों के 16 और 14 साल के 2 बेटे हैं। बुधवार की सुबह अंजू (41) अपने तीन मंजिला मकान के प्रथम तल पर दुपट्‌टे के फंदे के सहारे लटकी मिली। पत्नी को फंदे से लटके देख पवन ने शोर मचाते हुए पुलिस को सूचना दी। पवन के शोर मचाने पर आसपास के लोग भी भाग कर आए। इसके थोड़ी देर बाद पुलिस पहुंची। वहीं, नामी मेडिकल स्टोर के संचालक होने के कारण लंका के अन्य मेडिकल स्टोर संचालक भी पवन के घर पहुंच गए। उधर, अंजू के दोनों बेटों का रो-रोकर बुरा हाल था। उन्हें पवन के करीबी बड़ी ही मुश्किल से संभाल रहे थे।

बेटों और मायके वालों के बयान पर होगी कार्रवाई

चितईपुर थाना प्रभारी मिर्जा रिजवान बेग ने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में यह बात सामने आई है कि पति-पत्नी के बीच किसी बात को लेकर विवाद था। बाकी परिवार संपन्न है और किसी प्रकार की कोई कमी नहीं है। मृतका के मायके के भी लोग आ रहे हैं। मायके वालों और उनके दोनों बेटों के बयान के आधार पर प्रकरण में आगे की कार्रवाई की जाएगी। फोरेंसिक एक्सपर्ट टीम की मौजूदगी में शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया गया है। फिलहाल मृतका के पति से घटना के संबंध पूछताछ की जा रही है।

खबरें और भी हैं...