काशी बनी विंटर सिटी:ठंडी हवा के झोकों ने वाराणसी में बढ़ाई गलन; अब तापमान आएगा 9°C के नीचे

वाराणसी8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ठंड की सुबह सूर्योदय के समय गंगा की तस्वीर (प्रतीकात्मक) - Dainik Bhaskar
ठंड की सुबह सूर्योदय के समय गंगा की तस्वीर (प्रतीकात्मक)

पूरा उत्तर भारत अब तेजी से ठंड की चपेट में आता जा रहा है। गलन के साथ कड़कड़ाती ठंड की शुरूआत भी आज से हो गई है। सूर्य देव ने दर्शन तो दिए लेकिन गलन भरी ठंड और ठंडी हवाओं के बीच धूप की तपिश फीकी ही दिखी। हालांकि अभी कोहरे ने दस्तक नहीं दी है। ठंडी हवा का झोंका अब उत्तर भारत के मैदानी इलाकों को शीतलहर की याद दिलाने लगा है। वाराणसी में लोग अब जगह-जगह पर अलाव तापते नजर आने लगे हैं। वहीं ऐसा लग रहा है कि काशी अब पूरी तरह से विंटर सिटी हो गई है।

स्कूल बंद होने से मिली राहत
प्रधानमंत्री और VVIP विजिट की वजह से बच्चों के स्कूल भी बंद कर दिए गए हैं, इसलिए अभिभावकों को इस कड़कड़ाती ठंड में तड़के सुबह उठकर नाश्ता बनाने से राहत मिली है।रात और दिन दोनों पहर में गलन की मात्रा काफी बढ़ गई है। अभी का औसत तापमान 11°C पर आ गया है। शनिवार की सुबह भी तापमान कुछ इसी तरह से था। वाराणसी के वातावरण में विजिबिलिटी 1 किलोमीटर की रही। इस लिहाज से मौसम बिल्कुल साफ रहा

एयर क्वालिटी इंडेक्स में मामूली गिरावट
आज का एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) में कल के मुकाबले 9 अंक की मामूली कमी आई है। आज AQI 136 अंक है, जो कि संतोषजनक से 36 नंबर ऊपर है। बीते दिनों काशी का अधिकतम तापमान सामान्य से 2°C कम 24°C तक दर्ज किया गया। वहीं न्यूनतम तापमान का आंकड़ा मौसम विभाग ने 2 दिन से जारी ही नहीं किया है। आज सुबह से ही 7 किमी प्रति घंटे की गति से हवा भी चल रही है।

आज रात से तापमान में हो सकती है गिरावट

मौसम विज्ञान विभाग के अनुमान के मुताबिक वाराणसी में तापमान अब और नीचे जाएगा। इसकी शुरूआज आज रात से ही हो सकती है। न्यूनतम तापमान 8-9°C के आसपास तक जा सकता है। वहीं अधिकतम तापमान भी 2 दिन बाद तक 20°C पर आने अनुमान है। काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) के मौसम वैज्ञानिक प्रो. मनोज कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि हिमालय के कुछ इलाकों में पश्चिमी विक्षोभ (पश्चिम दिशा की ओर से ऊंचाई से आने वाली ठंडी हवा) आ रही है। इससे पहाड़ों के साथ ही मैदानों पर भी असर होगा।

BHU की हवा सबसे कम प्रदूषित

वाराणसी में आज हवा में प्रदूषण थोड़ा सा कम हुआ है। AQI 136 अंक होने के साथ ही धूल-मिट्टी वाले प्रदूषक कणों की भी मात्रा घटी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आगमन पर बनारस में साफ-सफाई जोरों पर है, इसलिए कुछ दिन से शहर में धूल काफी उड़ रही थी। वाराणसी के अन्य इलाकों की बात करें तो आज सबसे अधिक प्रदूषित हवा मलदहिया (AQI 154 अंक) में रही। इसके बाद AQI 148 अंक के अर्दली बाजार दूसरे नंबर, 125 अंक लाकर भेलूपुर तीसरे और BHU 111 अंक के साथ चौथा सबसे कम प्रदूषित इलाका रहा। वाराणसी की हवा में आज PM 2.5 अधिकतम 281 और PM 10 अधिकतम 149 अंक तक गया।

खबरें और भी हैं...