• Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Varanasi
  • Minister Swatantra Dev Singh Gestured And Asked Who Shrikant Tyagi, In Varanasi, Jal Shakti Minister Said On The Question Of Noida's 25 Thousand Prize Hoist The Tricolor From House To House

श्रीकांत पर स्वतंत्र देव VS स्वामी प्रसाद:मंत्री बोले- स्वामी के साथ आए, उनके साथ चले गए; मौर्य का जवाब-BJP पर पाप के छींटे पड़ रहे

वाराणसी7 महीने पहले

नोएडा की ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी में महिला से अभद्रता करने पर श्रीकांत त्यागी चर्चा में है। त्यागी पर 25 हजार का इनाम घोषित किया गया है। भाजपा के प्रदेश से लेकर केंद्र तक के नेताओं के साथ उसकी फोटो भी सामने आई है। प्रदेश के जलशक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह के साथ भी श्रीकांत त्यागी की फोटो है। लेकिन, वह उसे नहीं जानते हैं।

सोमवार को वाराणसी आए स्वतंत्र देव सिंह ने मीडिया से बात की। श्रीकांत के बारे में अनभिज्ञता जताई। साथ ही इशारे में अपने सहयोगी कार्यकर्ताओं से पूछा कि कौन त्यागी...? फिर, बात बदलते हुए उन्होंने घर-घर तिरंगा अभियान के बारे में बताना शुरू कर दिया।

यह फोटो यूथ कांग्रेस के नेशनल प्रेसिडेंट श्रीनिवास बीवी ने ट्वीट की है। इसमें स्वतंत्र देव सिंह सहित तमाम नेताओं के साथ श्रीकांत त्यागी है।
यह फोटो यूथ कांग्रेस के नेशनल प्रेसिडेंट श्रीनिवास बीवी ने ट्वीट की है। इसमें स्वतंत्र देव सिंह सहित तमाम नेताओं के साथ श्रीकांत त्यागी है।

"बीजेपी के सदस्य नहीं है श्रीकांत"
वाराणसी के बाद स्वतंत्र देव मिर्जापुर पहुंचे। वहां भी मीडिया ने उनसे श्रीकांत त्यागी से जुड़ा सवाल पूछा। जवाब में स्वतंत्र देव सिंह ने कहा, "श्रीकांत त्यागी बीजेपी का सदस्य नहीं है। स्वामी प्रसाद मौर्या के साथ आए थे और उन्हीं के साथ वापस चले गए। इस तरह के लोगों को पार्टी बर्दाश्त नहीं करती है। ऐसे लोगों को बख्शा नहीं जाएगा।"

स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ श्रीकांत त्यागी।
स्वामी प्रसाद मौर्य के साथ श्रीकांत त्यागी।

स्वामी प्रसाद का जवाब- श्रीकांत पहले से बीजेपी का था
स्वतंत्र देव सिंह के बयान पर स्वामी प्रयास मौर्य ने पलटवार किया। उन्होंने कहा,"श्रीकांत उनसे चार पांच साल पहले मिला था। मंत्री और जनप्रतिनिधि के यहां सभी मिलने जाते हैं। श्रीकांत बीजेपी किसान मोर्चा का पदाधिकारी रहा है। कई आपराधिक मामलों में वांटेड भी रहा है।"

उन्होंने आगे कहा, " त्यागी अगर भाजपा का नहीं होता तो ऐसे व्यक्ति को 4-5 गनर कैसे मिलते। वह पहले से ही बीजेपी का था। हम उसको बीजेपी में क्या लेकर आएंगे। आज जब बीजेपी पर पाप के छींटे पड़ रहे हैं तो उस पाप की चादर को किसी और पर डालने की नापाक कोशिश की जा रही है।’’

स्वामी प्रसाद ने यह भी कहा कि श्रीकांत जब भी मिला है भीड़ में मिला है। वह मिलने आया तो कहा कि हम बीजेपी के पदाधिकारी हैं। हमने बीजेपी में उसे शामिल कराया जो बसपा छोड़कर आया था। त्यागी कभी बसपा में नहीं था। वह बीजेपी में मेरे साथ कैसे जाएगा।"

खबरें और भी हैं...