काशी विश्वनाथ धाम में हादसा:वाराणसी में PM मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में फिर से हादसा, भारी भरकम शीशा 3 मजदूरों पर गिरा; 1 की मौत, 2 घायल

वाराणसी3 महीने पहले
दोनों घायल मजदूरों को मंडलीय अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी हालत खतरे से बाहर बताई गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में उनके ड्रीम प्रोजेक्ट काशी विश्वनाथ धाम के निर्माण कार्य मे लगे मजदूर शनिवार की रात एक बार फिर हादसे का शिकार हो गए। हादसे में 1 मजदूर की मौत हो गई है, जबकि 2 मजदूर घायल हुए हैं। दोनों घायल मजदूरों को मंडलीय अस्पताल ले जाया गया जहां उनकी हालत खतरे से बाहर बताई गई है। हादसे की सूचना पाकर पुलिस और प्रशासन के अफसर घटनास्थल का निरीक्षण करने पहुंचे। हादसा कैसे हुआ, पुलिस इसकी पड़ताल कर रही है।

वाहन से शीशा उतारने के दौरान हुआ हादसा

सुरक्षा के दृष्टिकोण से अति संवेदनशील काशी विश्वनाथ धाम परिसर में एक मालवाहक वाहन शीशा लेकर आया था। परिसर की सुरक्षा व्यवस्था में तैनात सुरक्षाकर्मियों के अनुसार वाहन से 2 मजदूर और चालक शीशा उतारने के काम मे लगे हुए थे। विशालकाय शीशा उतारते समय वह उन तीनों के ऊपर गिर गया और वो दबकर गंभीर रूप से घायल हो गए। आनन-फानन तीनों को कबीरचौरा स्थित मंडलीय अस्पताल ले जाया गया। डॉक्टरों ने एक मजदूर को मृत घोषित कर दिया जबकि 2 घायल हैं। जिनका उपचार किया जा रहा है।

इस संबंध में डीसीपी काशी जोन अमित कुमार ने बताया कि 1 मजदूर की मौत और 2 के घायल होने की सूचना मिली है। घायलों की शिनाख्त चंदौली जिले के मुगलसराय थाना अंतर्गत जलीलपुर पड़ाव निवासी विनोद कुमार और प्रयागराज के धूमनगंज थाना के उमरी बमरौली निवासी मोहम्मद शाहिद के तौर पर हुई है। शाहिद मालवाहक का चालक था। जिस मजदूर की मौत हुई है, वह मैदागिन से लाया गया था और उसके नाम-पते की तस्दीक नहीं हो पाई है। उधर, डीएम कौशल राज शर्मा ने कहा कि जान गंवाने वाले मजदूर के परिजनों के साथ ही घायलों को भी आर्थिक मदद दी जाएगी।

1 जून की सुबह 2 मजदूरों की हो गई थी मौत

काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में काम करने वाले मजदूरों की हादसे में पहले भी जान गई है। बीते 1 जून की भोर काशी विश्वनाथ कॉरिडोर परिसर में ललिता घाट के पास जर्जर गोयनका छात्रावास का एक हिस्सा गिर जाने से 2 मजदूरों की मौत हो गई थी और 7 मजदूर घायल हो गए थे। तब प्रशासन की ओर से यह बात कही गई थी कि आगे ऐसे हादसे न होने पाएं, कार्यदायी संस्था इसका पूरा ध्यान रखेगी। इससे पहले 23 मई को ललिता घाट के पास एक जर्जर मकान का एक हिस्सा गिर जाने से 5 लोग घायल हो गए थे।

खबरें और भी हैं...