धान क्रय केंद्रों की बढ़ी दूरी:वाराणसी में 1 नवंबर से धान खरीदारी, 44 से घटकर रह गए 27 केंद्र; किसानों पर बढ़ेगा बोझ

वाराणसी10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी में धान खरीदने का लक्ष्य पिछले साल के मुकाबले 1500 मीट्रिक टन बढ़ा दिया गया है। वहीं क्रय केंद्र घटा दिए गए। - Dainik Bhaskar
वाराणसी में धान खरीदने का लक्ष्य पिछले साल के मुकाबले 1500 मीट्रिक टन बढ़ा दिया गया है। वहीं क्रय केंद्र घटा दिए गए।

1 नवंबर से धान क्रय केंद्र खुल रहे हैं। वाराणसी में इस साल धान के क्रय केंद्रों की संख्या में कटौती कर दी गई है। पिछले साल 44 केंद्रों पर धान खरीदे गए थे, मगर इस बार केवल 27 केंद्र ही बनाए गए हैं। वहीं धान खरीदने के लक्ष्य को भी पिछले साल के मुकाबले 1500 मीट्रिक टन बढ़ा दिया गया है। इस लिहाज से किसानों को इस बार धान को बेचने के लिए अपने खेतों से काफी दूरी तय करनी पड़ेगी। इससे किसानों पर अनावश्यक डीजल-पेट्रोल के खर्च का भार आएगा। वहीं कम उपज वाले किसानों को तो कुछ ज्यादा ही समस्या होगी।

क्रय केंद्रों की सूची देख आया पसीना
कृषि विभाग की ओर से क्रय केंद्रों की सूची जारी कर दी गई है। इस सूची को देख किसानों के माथे पर पसीना आ गया है। खेत और बिक्री केंद्रों का बढ़ता फासला उन्हें नुकसान ही पहुंचाएगा।
राहत की बात यह है कि इस बार किसानों को बढ़े हुए मूल्य MSP 1940 रुपए के हिसाब से धान का भुगतान किया जाएगा।

शासन 3 दिन के अंदर पब्लिक फंड मैनेजमेंट सिस्टम (PFMS) से किसानों को ऑनलाइन पेमेंट करेगा। मालूम हो कि पिछली बार धान पर MSP 1875 रुपए था। इस साल धान खरीदी का लक्ष्य 42 हजार मीट्रिक टन रखा गया है। जबकि पिछले साल 40500 मीट्रिक टन का लक्ष्य तय किया गया था।

धान उत्पादन में 30% की कमी
जिला खाद्य विपणन अधिकारी अरुण कुमार त्रिपाठी ने बताया कि हर साल 23 लाख क्विंटल धान पैदा होता था, मगर इस बार वाराणसी में धान का 16 लाख क्विंटल उत्पादन हुआ है। इस लिहाज से वाराणसी अपने लक्ष्य को आसानी से प्राप्त कर लेगा। उन्होंने बताया कि क्रय-केंद्रों पर बोरा, तौल मशीन, पंखा, सैनिटाइजर आदि उपलब्ध करा दिए गए हैं। कल पूरी क्षमता के साथ केंद्रों पर खरीदी का काम शुरू हो जाएगा। नोडल अधिकारी केंद्रों पर तैनात हैं।

किसान यहां पर बचे सकते हैं अपने धान

  • वाराणसी के सदर तहसील में चिरईगांव ब्लॉक में गौराकला को केंद्र बनाया गया है। वहीं चोलापुर ब्लॉक में 2 केंद्र रौना कला और कादीपुर में बनाए गए हैं। इसके अलावा सदर के काशी विद्यापीठ ब्लॉक में नरउर में किसान अपने धान बेच सकेंगे।
  • पिंडरा तहसील में बड़ागांव के गांगा खुर्द बगिया, हरहुआ और गोसाइपुर मोहाव।
  • राजातालाब तहसील में अराजीलाइन के दरेखू और मिल्कीचक, वहीं सेवापुरी में तक्खू की बौली। इसके अलावा FCI पहाड़िया, छाही गोपेपुर, बाबतपुर, फूलपुर, मरूईछताव, अनेई, मिर्जामुराद, लेढ़ुवाई और कपसेठी में क्रय केंद्र बनाए गए हैं।