यूपी सरकार के वादे आंकड़ों तक सीमित:वाराणसी में क्रांति फाउंडेशन के अध्यक्ष बोले- प्रदेश में मात्र 27 हजार नौकरियां; महज 13.46% घरों में नल कनेक्शन

वाराणसी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ईं. राहुल सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार की सेवायोजन वेबसाइट के अनुसार लगभग 42 लाख नौकरी खोजने वालों के सापेक्ष प्रदेश में मात्र 27,100 नौकरियां उपलब्ध हैं। - Dainik Bhaskar
ईं. राहुल सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार की सेवायोजन वेबसाइट के अनुसार लगभग 42 लाख नौकरी खोजने वालों के सापेक्ष प्रदेश में मात्र 27,100 नौकरियां उपलब्ध हैं।

सामाजिक संस्था क्रांति फाउंडेशन के अध्यक्ष और समाजवादी पार्टी लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य ईं. राहुल सिंह ने यूपी सरकार के बजट पर कहा कि सारे वादे महज आंकड़ों तक सिमट कर रह गए हैं। उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी की स्थिति पर प्रदेश सरकार की सेवायोजन वेबसाइट के आंकड़े अनुसार लगभग 42 लाख नौकरी खोजने वालों के सापेक्ष मात्र 27,100 नौकरियां उपलब्ध हैं। यह बेहद कम है।

यही हाल उत्तर प्रदेश मे जल जीवन मिशन का है। हर घर नल-हर घर जल, पहुंच रहा शुद्ध पेयजल का दावा करने वाली वर्तमान सरकार का जल जीवन मिशन की प्रगति मे देश में सबसे बुरा हाल है। उत्तर प्रदेश में जल जीवन मिशन के आंकड़ों की बात करें तो घरों मे नल कनेक्शन के मामले मे पूरे देश मे उत्तर प्रदेश का आखिरी स्थान है। उत्तर प्रदेश के मात्र 13.46% घरों मे नल कनेक्शन हैं जो कि पूरे देश के औसत 48.51% से भी काफी कम है।

ईं. राहुल सिंह, अध्यक्ष, क्रांति फाउंडेशन।
ईं. राहुल सिंह, अध्यक्ष, क्रांति फाउंडेशन।

8769 प्रोजेक्ट लंबित चल रहे हैं

ईं. राहुल सिंह ने कहा कि विकास का दावा करने वाली वर्तमान उत्तर प्रदेश सरकार की सभी विभागों की विभिन्न परियोजनाएं भारी मात्रा में लंबित अवस्था मे चल रही हैं। अगर मुख्यमंत्री अनुश्रवण प्रणाली पर मौजूद विभिन्न विभागों के आंकड़ों पर नजर डाली जाए तो उत्तर प्रदेश सरकार के 56 विभागों मे कुल 13,661 परियोजनाएं संचालित हैं। जिसमें 8,769 परियोजनाएं लंबित अवस्था मे चल रही हैं।

इन आंकड़ों के मुताबिक अभी तक मात्र 4,892 परियोजनाएं ही पूरी हो पाई हैं। पिछले पांच वर्षों से ज्यादा से डबल इंजन सरकार होने के बावजूद 64 प्रतिशत से ज्यादा परियोजनाओं का लंबित होना वर्तमान सरकार की क्रियाशीलता पर गंभीर सवाल है। इनमें से कई परियोजनाएं अपनी तय समयावधि से ऊपर तक के समय पर लंबित अवस्था में हैं।

ईं. राहुल सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार के 56 विभागों में कुल 13,661 परियोजनाएं संचालित हैं। जिनमें 8,769 परियोजनाएं लंबित अवस्था मे चल रही हैं।
ईं. राहुल सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार के 56 विभागों में कुल 13,661 परियोजनाएं संचालित हैं। जिनमें 8,769 परियोजनाएं लंबित अवस्था मे चल रही हैं।

देश में सबसे ज्यादा यूपी के स्कूलों में गिरावट

ईं राहुल सिंह ने कहा कि वर्तमान सरकार की नाकामियों के कारण परियोजनाओं पर खर्च वृद्धि के कारण जनता का पैसा फालतू में बर्बाद किया जा रहा है। डबल इंजन की सरकार मात्र खोखले विकास के दावे करने में व्यस्त है। यूडीआईएसई (UDISE) की साल 2018-19 की रिपोर्ट के मुताबिक देश में 50 हजार से अधिक सरकारी स्कूल बंद हो गए हैं।

रिपोर्ट के अनुसार सरकारी स्कूलों की संख्या 2018-19 में 1,083,678 से गिरकर 2019-20 में 1,032,570 हो गई। यानी कि देश भर में 51,108 सरकारी स्कूल कम हुए हैं। उत्तर प्रदेश में सरकारी स्कूलों की संख्या में 26,074 स्कूलों की गिरावट देखी गई। साल 2018 में सितंबर में यहां स्कूलों की संख्या 163,142 थी जो सितंबर 2020 में घटकर 137,068 हो गई। यह पूरे देश मे सबसे ज्यादा गिरावट है।

इससे यह साबित हो रहा है कि बजट में मात्र घोषणाएं की जा रही हैं, जबकि जमीनी तौर पर प्रदेश पूरी तरह पीछे होता जा रहा है। राहुल सिंह ने कहा कि इस बजट मे न तो अनुसूचित जाति-जनजाति के लिए राहत है। न आम आदमी के लिए कुछ राहत है। महंगाई से पूरा प्रदेश कराह रहा है परंतु उत्तर प्रदेश सरकार मात्र घोषणाएं करने मे व्यस्त है।