नीलगिरी इंफ्रासिटी के सीएमडी के घर कुर्की:वाराणसी में निवेशकों को धोखा देने वाले गिरोह की संपत्ति जब्त; BHU में गीता पढ़कर इफ्तार का विरोध

वाराणसी3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
करोड़ों रुपए की ठगी करने वाली कंपनी नीलगिरी इंफ्रासिटी के सीएमडी के घर पर आज कुर्की की गई। इस दौरान कार जब्त कर ली गई। - Dainik Bhaskar
करोड़ों रुपए की ठगी करने वाली कंपनी नीलगिरी इंफ्रासिटी के सीएमडी के घर पर आज कुर्की की गई। इस दौरान कार जब्त कर ली गई।

करोड़ों रुपए की ठगी करने वाली कंपनी नीलगिरी इंफ्रासिटी के सीएमडी के घर पर आज कुर्की की गई। आज पुलिस ने घर पर 13.6 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त की है। वहीं आवास को सील कर, कार जब्त कर लिया गया। इस दौरान दो लग्जरी कार (जगुआर) समेत अन्य वाहन, शहर के बीचों-बीच कई जमीनें और आलीशान भवनों को भी जब्त किया गया। इस कंपनी ने भूमि और गोल्ड में निवेश के साथ ही टूर पैकेज के नाम पर करोड़ों रुपये से अधिक की धोखाधड़ी की है।

आरोपी नीलगिरी इंफ्रॉसिटी कंपनी के एमडी, सीएमडी समेत कई लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया गया है। नीलगिरी इंफ्रॉसिटी के सीएमडी विकास सिंह, एमडी पत्नी ऋतु सिंह, पार्टनर पलाश मिश्रा और प्रदीप यादव अब चौकाघाट जेल में बंद हैं। पुलिस आयुक्त ए सतीश गणेश के मुताबिक गैंगस्टर एक्ट 14(1) के तहत कार्रवाई की गई।

चेतगंज थाना में नीलगिरी के खिलाफ 70 मुकदमे

चेतगंज थाना में नीलगिरी के खिलाफ 70 से अधिक मुकदमा दर्ज करने का रिकॉर्ड है। नीलगिरी इंफ्रासिटी कंपनी के लोगों ने जमीन और टूर पैकेज सहित कई लुभावने आफर देकर निवेशकों से करोड़ों की ठगी की। महमूरगंज निवासी विकास सिंह और उसकी पत्नी ऋतु सिंह ने नीलगिरी इंफ्रासिटी के द्वारा पूर्वांचल सहित बिहार, झारखंड, कोलकाता, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में निवेशकों को लुभावने स्कीम दिखाकर जमीन, गोल्ड, टूर पैकेज आदि में इन्वेस्ट कराया। जब निवेशकों को पता चला कि वे ठगे गए हैं तो कार्यालय में उनके साथ मार-पीट की गई और जान से मारने की धमकियां मिलीं।

BHU में छात्रों ने किया इफ्तार पार्टी का विरोध।
BHU में छात्रों ने किया इफ्तार पार्टी का विरोध।

इफ्तार के विरोध में भगवतगीता का पाठ

काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) में इफ्तार पार्टी का विरोध अभी तक नहीं थमा है। छात्रों ने आज कुलपति आवास के सामने हाथ में गीता लेकर सामूहिक पाठ किया। छात्रों ने कहा कि महिला विद्यालय में 28 अप्रैल को कुलपति इफ्तार पार्टी में शामिल थे। कुलपति आवास के बाहर श्रीमद्भागवत गीता का पाठ करते हुए द्वारिकाधीश से प्रार्थना की, ताकि कुलपति महोदय की चेतना जागे और सही निर्णय ले सके। इस दौरान छात्रों ने जमकर नारेबाजी की। छात्रों का कहना है कि विश्वविद्यालय में आधिकारिक तौर पर इफ्तार पार्टी मनाने की प्रथा नहीं रही है। जब तक कुलपति माफी नही मांगेंगे, तब तक हमलोग अनवरत अपना विरोध दर्ज करते रहेंगे। बता दें कि कैंपस की दीवारों पर कश्मीर समर्थित और ब्राह्मण विरोधी नारे भी लिखे गए थे, जिसमे अब तक कोई भी गिफ्तार नही हुआ।

खबरें और भी हैं...